Emotional growth: संकेत कि आपकी इमोशनल ग्रोथ हो रही है

Read in English
Common signs of Emotional growth

Emotional Growth: कुछ संकेतों की मदद से पहचाना जा सकता है कि आप इमोशनली ग्रो कर रहे हैं।

जीवन में ग्रोथ के बदलाव आते रहते हैं। जीवन में आपको हर चीज से अनुभव मिलते रहते हैं। लेकिन जब आप कठिन समय से गुजर रहे होते हैं तो अपने इमोशन्स को कंट्रोल कर पाना मुश्किल होता है। खासकर किशोरावस्था में। क्योंकि उस दौरान आपको जीवन का कोई भी अनुभव नहीं होता है। क्योंकि समय के साथ ही आपको अनुभव मिलते हैं और आप इमोशनली मिच्यौर हो पाते हैं। इमोशनली ग्रो करने से यह मतलब नहीं है कि आप अपने इमोशन्स को छुपाने लगें और ऐसा व्यवहार करें कि आपको कोई फर्क नहीं पड़ता है या आप सब संभाल सकते हैं। इससे साधारण सा मतलब यह है कि आप अपने इमोशन्स पर कंट्रोल कर पाते हैं।जरुरी नहीं कि उम्र बढ़ने के साथ आप इमोशनली भी ग्रो करें। कुछ संकेतों की मदद से पहचाना जा सकता है कि आप इमोशनली ग्रो कर रहे हैं। तो आइए आपको उन संकेतों के बारे में बताते हैं जिससे पता चलता है कि आप इमोशनल ग्रोथ हो रही है। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आप अपनी भावनाओं से जुड़े हुए हैं]

Emotional growth: इमोशनल ग्रोथ के संकेत

आप एकाग्र रहते हैं
शांत रहते हैं
बुरी चीजों को जाने देना
अपनी गलतियों को स्वीकारना
अच्छे रिलेशनशिप होना

आप एकाग्र रहते हैं: जब आप इमोशनली मिच्यौर होते हैं तो आपको पता नहीं होता है कि आपको किस चीज में ज्यादा दिलचस्पी है। आप नई चीजें पाने की कोशिश में लगे रहते हैं और कोशिश करतें हैं कि उससे आपको खुशी मिले। इमोनशली ग्रो होने से आपको जीवन में क्या चाहिए उस पर फोकस रहते हैं। [ये भी पढ़ें: तरीके जो एकाग्रता में सुधार लाने में मदद करते हैं]

शांत रहते हैं: गुस्सा हर व्यक्ति के लिए एक खतरनाक इमोशन होता है। जब आप इमोशनली मिच्यौर हो जाते हैं तो खुद को शांत रखने की कोशिश करते हैं ताकि नकारात्मक इमोशन आपके जीवन को खराब ना कर सके।

बुरी चीजों को जाने देना:

Signs of emotional growth
Growing Emotionally: अगर आप बुरी चीजों को खुद से दूर रखते हैं तो आप इमोशनली ग्रो कर रहे हैं।

इमोशनल ग्रोथ का सही मतलब यह होता है कि आप बुरी चीजों को खुद से दूर जाने दें और अपने बारे में सोचें। बुरी चीजों से मतलब जलन, गुस्सा, चिड़चिड़ेपन से होता है। जब आप इमोशनली ग्रो करते हैं तो आपके पास नकारात्मक चीजों की जगह नहीं बचती है।

अपनी गलतियों को स्वीकारना: अपनी गलतियों से भागने की बजाय उन्हें स्वीकारना बेहद जरुरी होता है। यह संकेत होता है कि आपको मानसिक रुप से खुद को मजबूत बना रहे हैं और जिम्मेदारियों को संभालते हैं। अगर आप ऐसा कर रहे हैं को आप इमोशनली ग्रो कर रहे हैं। [ये भी पढ़ें: Successful People routine: सफल लोगों की दिनचर्या से सीखें कुछ चीजें]

अच्छे रिलेशनशिप होना: आपकी इमोशनल ग्रोथ को आपके रिश्तों से देखा जा सकता है। जब आप शांत, खुश रहते हैं तो इससे आपके रिश्ते बेहतर होते हैं।

[जरुर पढ़ें: ये संकेत बताते हैं कि आप भावनात्मक रूप से कमजोर हैं]

इमोशनल ग्रोथ एक तरह की प्रक्रिया है जिससे खुद पर काम करके सुधारा जा सकता है। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English) में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "