संकेत जो बताते हैं कि आप अपनी भावनाओं से जुड़े हुए हैं

Read in English
signs that you are in touch with your emotions

अपनी भावनाओं के बारे में जागरू होना ना केवल आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि आपके शारीरिक स्वास्थ्य के लिए भी जरुरी है। अगर आप अपनी भावनाओं के बारे में जागरुक नहीं होते हैं तो आपको कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है जैसे तनाव, चिंता आदि। तनाव आपके शरीर पर बुरा प्रभाव डालता है। इन समस्याओं से दूर रहने के लिए आपके अंदर इमोशनल सिक्योरिटी होना जरुरी है। बहुत से लोग अपनी भावनाओं पर काबू पाने और उन्हें व्यक्त करने में माहिर होते हैं और इसी कारण वो मानसिक रुप से मजबूत होते हैं। इस स्थिति में आपके लिए यह जानना जरुरी है कि आप अपनी भावनाओं को लेकर जागरुक हैं या नहीं। हालांकि कुछ संकेतों के जरिए यह जान सकते हैं कि आप अपनी भावनाओं से जुड़े हुए हैं। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आप अपनी भावनाओं से दूर हो रहे हैं]

आप नकारात्मक चीजों का भी स्वागत करते हैं
जिंदगी में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। अगर आप यह बात समझते हैं तो आप हर नकारात्मक चुनौती का स्वागत करते है। इससे आप उन भावनाओं को भी समझ पाते हैं जो आपको परेशान कर रही हैं यह संकेत बताता है कि आप अपनी भावनाओं पर नियंत्रण पाना जानते हैं।

अपने नजरिये से चीजों को देखना
किसी भी परिस्थिति को देखने का सभी का अपना अलग नजरिया होता है। अगर आप किसी नकारात्मक परिस्थिति में फंसने के बजाय उसे अपने नजरिये से देखते हैं और हर स्थिति में अच्छा तलाशने की कोशिश करते हैं तो यह बताता है कि आप अपनी भावनाओं के प्रति जागरुक हैं। [ये भी पढ़ें: अपने पहले इंप्रेशन को अच्छा कैसे बनाएं]

आप दूसरों के प्रति सहानुभूति दिखाते हैं
किसी भी व्यक्ति का भावनात्मक होना कमजोरी नहीं है। अगर आप दूसरी की भावनाओं को समझकर और उनके दुख को जानकर उनके प्रति सहानुभूति दिखाते हैं तो इसका मतलब है कि आप भावनात्मक रुप से समझदार हैं और ऐसा तभी होता है जब आप अपनी भावनाओं के करीब होते हैं।

आप रोने से नहीं डरते
लोगों को लगता है कि रोना कमजोरी है और जो लोग रोते हैं वो अपनी भावनाओं को हैंडल नहीं कर पाते। हालांकि असलियत इसके विपरीत है। अगर आप दुखी या परेशान होने पर खुलकर रो सकते हैं तो इसका मतलब है कि आप अपनी भावनाओं से जुड़े हुए हैं और इन्हें व्यक्त करना जानते हैं।

आप अपनी भावनाओं को दूसरों से व्यक्त करते हैं
बहुत से लोग अपनी भावनाओं को दूसरों के सामने व्यक्त करने से घबराते हैं। उन्हें लगता है कि अपनी भावनाएं दूसरों के सामने व्यक्ति करने से आप कमजोर हो जाते हैं। हालांकि यह आपकी परिपक्वता को दिखाता है। आप इतने मजबूत हैं कि आप अपनी भावनाओं को दूसरों के सामने खोलकर रख सकते हैं। [ये भी पढ़ें: ब्रेन हैक्स जो क्रिएटिविटी, फोकस और आईक्यू को बढ़ाते हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "