संकेत जो बताते हैं कि आपको मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट से सम्पर्क करना चाहिए

Read in English
Signs that Tells You need to Visit A mental Health Expert

जब काम का दबाव बढ़ता है तो हम थका हुआ महसूस करने लगते हैं। हम में से अधिकांश लोग काम जल्दी खत्म करने के प्रयास में रहते हैं ताकि घर जल्दी जाकर आराम कर पाएं। लेकिन क्या इसके बावजूद भी आप उदास महसूस करते हैं और घर पहुंचने के बाद भी आपको तनाव महसूस होता है? या आपके साथ पूरे दिन जो भी हुआ उसकी वजह से डिप्रेस्ड महसूस कर रहे हैं? आमतौर पर इन संकेतों को हम बहुत हल्के में लेते हैं। लेकिन ये चीजें आपके दिमाग पर गहरा प्रभाव डाल सकते हैं और आपके मानसिक स्वास्थ्य को खराब कर सकते हैं। लेकिन आइए आपको स्पष्ट रूप से हम ये बताते हैं कि ये संकेत हमेशा अस्थायी नहीं होते हैं। यदि आप इन की देखभाल नहीं करते हैं, तो आप मानसिक बीमारियों से पीड़ित हो सकते हैं। इसलिए आपको इन लक्षणों से अवगत होना चाहिए और मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट से सम्पर्क करना चाहिए। [ये भी पढ़ें: मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं जो महिलाओं में आम होती हैं]

आप सामान्य से अधिक चिंतित रहते हैं:
यदि आप अचानक महसूस करते हैं कि आपकी चिंता आपके जीवन में बड़ी जगह ले रही है तो आप जोखिम में हैं। हमारा मस्तिष्क किसी अन्य समय के मुकाबले अधिक चिंतित रहने लगता है। हम इस तथ्य से अवगत हैं कि कोई भी उत्सुक स्थिति हमें चिंतित बनाता है। लेकिन इसकी एक निश्चित सीमा होती है। यदि आपकी परेशानी आपके चिंता को अधिक बढ़ा रही है तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

आप थका हुआ महसूस कर रहे हैं लेकिन आप सो नहीं पा रहे हैं:
किसी भी कारण से आपको तनाव हो सकता है। तनाव आपको थका हुआ महसूस करवाता है। तो इसलिए आपको ऐसा प्रतीत होता है कि आप एक अच्छी नींद लें। लेकिन आप इस बात पर ध्यान दें तो आपको समझ आएगा कि तनाव होने की वजह से आप सो नहीं पा रहे हैं। ऐसे में आपको अपने मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट से सम्पर्क करना चाहिए।[ये भी पढ़ें: रात को सोते समय आपको हो सकती कुछ अजीबो-गरीब समस्याएं]

आप फोकस करने में असमर्थ होते हैं:
यदि आपकी मानसिक स्थिति सही नहीं है, तो आप किसी भी विशेष चीज़ पर केंद्रित नहीं कर सकते हैं। साथ ही साथ किसी खास चीज़ जिसे आप पाना चाहते हैं उसके बारे में सोचने पर आप चिंतित हो जाते हैं। यदि ऐसा है, तो आपका मानसिक स्वास्थ्य सही नहीं है इस स्थिति में एक विशेषज्ञ आपकी सहायता कर सकता है।

आप डिप्रेशन में हैं नाकि सिर्फ उदास:
आपको यह समझना होगा कि दुख और डिप्रेशन दो अलग चीजें हैं। दुख अस्थायी है लेकिन डिप्रेशन तब तक आपके जीवन में रहता है जब तक उसका इलाज ना किया जाए। यह अवधि आपके दिमाग को दुखी महसूस करा सकता है और आपके शरीर में डोपामाइन के स्तर को बढ़ने की कोई संभावना नहीं रहती है। डोपामाइन एक खुश रहने का हार्मोन है। यदि उदासी एक महीने से अधिक है, तो आपको अभी से विशेषज्ञ से समपर्क करना चाहिए। [ये भी पढ़ें: अपने दिमाग को अधिक सोचने से कैसे रोकें]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "