कहीं दूसरों की खुशी के लिए खुद को दुखी करने वाले व्यक्ति तो नहीं है आप

Read in English
signs-tells-actually-masochist

Photo Credit:smartblogger.com

दुनिया में हर प्रकार के लोग हैं हर किसी का सोचने का तरीका, आदतें और रुचि अलग-अलग होती है। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो बाकियों से बिल्कुल अलग होते हैं ऐसे लोग को मैसोचिस्ट (पीड़ा सुखभोगी) कहा जाता है। मैसोचिस्ट ऐसे लोग होते हैं जो किसी को भी किसी काम के लिए ना नहीं कह पाते चाहें उन्हें दूसरों के लिए खुद परेशानी क्यों ना उठानी पड़े। यहीं कारण होते हैं कि ऐसे लोग बहुत बार बेकार और बेतुके कामों में उलझ जाते हैं। दुनिया में ऐसे भी कई लोग होते हैं जो कि इस तरह के लोगों का भावनात्मक रुप से फायदा उठाते हैं। कहीं आप भी तो मैसोचिस्ट नहीं है आइए जानते हैं मैसोचिस्ट होने के संकेत।[ये भी पढ़ें: सीख जो मनुष्यों को जानवरों से लेनी चाहिए]

1.’ना’ नहीं कह सकते: किसी को ‘ना’ कहना आपके खुदगर्ज होने का प्रतीक नहीं होता है और ना ही इससे आप किसी को दुख पहुंचाते हैं। कई बार आपको परेशानियों से बचने के लिए ना कहना होता है अगर आपको हमेशा हां कहने की आदत है और आप किसी को भी किसी काम के लिए मना नहीं कर सकते तो दूसरे लोग आपकी इस आदत का फायदा उठा सकते हैं।

2.स्वयं आलोचना: एक स्वस्थ आलोचना और अत्यधिक आलोचना के बीच फर्क होता है। खुद को दुख पहुंचाकर लोगों की खुशी का ख्याल रखने वाले ये लोग अक्सर दूसरों को अपने अपमान और खुद पर हंसने का मौका दे देते हैं। यह प्रवृत्ति वास्तव में किसी भी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है[ये भी पढ़ें: अंधेरे के डर को कम करने के लिए उपाय]

3.खुद के लिए कभी खड़े नहीं होना: इस प्रकार के लोग अपमानित होने पर भी इतना सहज महसूस करते है कि वह भूल जाते हैं कि कोई उनकी बेज्जती कर रहा है। जिसकी वजह से वह जीवित रहने का एक बहुत विशिष्ट लेकिन आशाविहीन तरीका विकसित कर लेते हैं।

4. लोगों को मुसीबत से बचाना: इस तरह के लोग रक्षक प्रवृत्ति के होते हैं वह हमेशा लोगों और चीजों को बचाने की कोशिश करता है लेकिन कई बार इस चक्कर में वे खुद को फंसा लेते हैं। कभी-कभी इस प्रवृत्ति से व्यक्ति को नुकसान होता है इस आदत से आपमें आत्मविश्वास की कमी होने लगती है।

5.नकारात्मक होना: अधिकांश लोग नकारात्मक भावनाओं को छोड़ने में विश्वास करते हैं हालांकि ऐसे लोग नकारात्मक भावनाओं को खुद से दूर नहीं कर पाते हैं और नकारात्मक चीज और विचारों को दिमाग में बनाए रखते हैं।

6.खुद को बेहतर मानने वाले लोगों के शिकार हो जाते हैं: ऐसे लोग जो नारसिस्ट होते हैं यानि अपने आप के लिए जीते हैं और हमेशा खुद की चिंता करते हैं वे मैसोचिस्ट लोगों का फायदा उठाते हैं और उनके कारण अनेक बार मुसीबतों का शिकार हो जाते हैं। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आप किसी दुष्ट इंसान से डील कर रहे हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "