विराट कोहली से सीखें, कैसे अपने गुस्से और आक्रामक व्यवहार को सफलता में बदलना है

Read in English
learn from virat How to turn your aggression into success

विराट कोहली का नाम यकीनन भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे समर्पित, भावुक और आक्रामक खिलाड़ियों में गिना जाता है। विराट आज सफलता के उच्चतम पद पर हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रुप में उन्होंने हमेशा अपने प्रशंसकों और दर्शकों को अपने कौशल और परफॉर्मेंस के साथ आश्चर्यचकित किया है। हालांकि, अगर विराट के सफलतम खिलाड़ी होने के बारे में बात करें तो इसके लिए केवल उनका कौशल ही नहीं बल्कि उनका आक्रामक व्यवहार भी उन्हें बाकी खिलाड़ियों से अलग करता है। जी हां, इस बात में कोई हैरानी नहीं कि उनका गुस्सा भी उन्हें उनके उद्देश्यों की ओर ले जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि विराट कोहली जानते हैं कि उन्हें अपने गुस्से और आक्रमकता को कैसे अपनी परफॉर्मेंस को बेहतर बनाने के लिए इस्तेमाल करना है। यही कारण है कि विपक्षी टीम के खिलाड़ी भारतीय टीम के कप्तान को गुस्सा दिलाने से पहले दो बार सोचते हैं। विराट के अंदर जीतने की आक्रामकता ही उन्हें जीत की ओर ले जाती है। तो ये जानना दिलचस्प होगा कि विराट कोहली कैसे अपने गुस्से और आक्रामक व्यवहार को अपनी सफलता के लिए कैसे इस्तेमाल करते हैं। [ये भी पढ़ें: मानसिक बीमारी से गुजरने के बाद बॉलीवुड सेलेब्स इससे कैसे उबरे]

विराट कोहली की सफलताएं
earn from virat How to turn your aggression into success इसी साल पदम श्री सम्मान से नवाजे गए विराट कोहली अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सफलतम खिलाड़ियों में से एक हैं। विराट कोहली वन डे इंटरनेशनल में सबसे तेज 7000 रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं और इस बात से पता चलता है कि वो अपने खेल को लेकर कितने आक्रमक और समर्पित हैं। टी-20 इंटरनेशनल में सबसे तेज 1000 रन बनाने का दर्जा भी विराट के नाम है। वनडे इंटरनेशनल में सबसे तेज 30 शतक बनाने वाले खिलाड़ी विराट कोहली अंतर्राष्ट्रीय खेलों में सबसे तेज 15000 रन बनाकर विश्व के अव्वल बल्लेबाज हैं।

विराट के आक्रमक व्यवहार के सचिन भी हैं कदरदान
earn from virat How to turn your aggression into success सभी लोग विराट के इस व्यवहार को भारतीय टीम के लिए एक वरदान मानते हैं। अगर विपक्षी टीम का कोई खिलाड़ी विराट को गुस्सा दिलाने की गलती करता है तो इसका मतलब है कि उसने मैच खुद-बखुद विराट के हाथों में सौंप दिया है। यहां तक कि क्रिकेट का भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने भी विराट के आक्रामक व्यवहार और उनकी सफलता को एक तराजू में रखा है। [ये भी पढ़ें: देखें जिम में पसीना बहाते विराट कोहली की तस्वीरें]

सचिन का कहना है कि, ‘जब से विराट टीम में शामिल हुए हैं उनका व्यवहार बिल्कुल नहीं बदला है। मैंने उनमें वो जोश देखा है जो कि बाकी लोगों में कम देखने को मिलता है। हालांकि बहुत से लोगों ने उनके आक्रामक व्यवहार के लिए उनकी आलोचना भी की है। लेकिन आज वो भारतीय टीम की ताकत हैं। उनके साथ के आए लोगों में काफी बदलाव आ चुके हैं लेकिन वो बिल्कुल नहीं बदले।’

विराट का आक्रामक व्यवहार उन्हें खेल के लिए जुनूनी कैसे बनाता है
earn from virat How to turn your aggression into success आक्रामक व्यवहार कोई भावना नहीं बल्कि यह एक विकल्प है जिसे आप या तो चुन सकते हैं या नहीं। यह व्यवहार आपको अच्छा परफॉर्म करने के लिए प्रेरित करता है। इसी तरह विराट का आक्रामक व्यवहार उनके जीतने के जुनून को बढ़ाता है। बहुत बार लोग सोचते हैं कि आक्रामक व्यवहार एक बुरी आदत है लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि आप इसे कैसे इस्तेमाल करते हैं। विराट को उनका यही चुनाव बाकी लोगों से अलग और एक औसत खिलाड़ी से ज्यादा बनाता है। लोग उनके इस व्यवहार की कभी-कभी आलोचना भी करते हैं लेकिन वो इसे नजरअंदाज करके आगे बढ़ते हैं और हमेशा अपना बेस्ट देते हैं।

आप अपने गुस्से और आक्रामक व्यवहार को कैसे अपनी सफलता में बदल सकते हैं
earn from virat How to turn your aggression into success

गुस्से को व्यवस्थित करें
अपने गुस्से को व्यर्थ करने के बजाय इसके लिए एक दिशा निर्धारित करें। अपने जुनून और सपनों के बारे में सोचें। अपने गुस्से की उर्जा को आगे बढ़ने के लिए इस्तेमाल करें।

गुस्से को जोश में बदलें
गुस्से की भावना काफी तीव्र होती है इसलिए आप इसे जोश में परिवर्तित करके अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए उपयोग करें।

आक्रामक रुप से मेहनत करें
अगर आपको लगता है कि आपको गुस्सा अधिक आता है तो इसे आक्रामक व्यवहार की तरह लें। इसे किसी दूसरे व्यक्ति पर निकालने की बजाय उसे अपनी सफलता को पाने के लिए मेहनत में बदलें।

अपने डर को चुनौती दें
जब आप गुस्से में होते हैं तो कुछ भी कर गुजरने की चाहत आपके अंदर होती है। इसलिए इस चाहत और जुनून को सही जगह इस्तेमाल करें। अपने डर से डरें नहीं उसे चुनौती दें।

अपने आक्रामक व्यवहार को किसी पर अभिव्यक्त करके व्यर्थ ना करें
आपकी आक्रामकता आपकी शक्ति, आवेग और आपका जुनून है। इसलिए इसे किसी पर अभिव्यक्त करके व्यर्थ ना करें। खुद को औसत से आगे ले जाने के लिए इसका सही इस्तेमाल करना सीखें।

[ये भी पढ़ें: गुस्सा होने पर क्या करना चाहिए और क्या नहीं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "