चीजों को पर्सनली लेने से कैसे रोकें

Read in English
Stop taking things personally

चीजों को पर्सनली(Personally) लेने से बचना जरुरी होता है।

जीवन में कई बार ऐसी परिस्थितियां आ जाती हैं जब आप दूसरों के मुताबिक जीने लगते हैं। कभी-कभी बातें आपसे संबंधित नहीं होती हैं फिर भी आप उन्हें खुद से जोड़ लेते हैं और बुरा महसूस करने लगते हैं। जैसे अगर आपके दोस्त किसी और के बारे में कमेंट कर रहे हैं तो आप उसे अपने पर ताना मारना समझ लेते हैं। जिसकी वजह से आपको बेवजह तनाव हो जाता है और आपका मूड भी खराब हो जाता है। इसलिए व्यक्ति को बेवजह चीजे पर्सनली(Personally) लेने से बचना चाहिए। साथ ही हर बात का बतंगगड़ नहीं बनाना चाहिए। इसके लिए आपको अपनी समस्याओं को सुलझााना चाहिए और आत्म-विश्वास विकसति करना चाहिए। तो आइए आपको उन तरीकों के बारे में बताते हैं जिससे आप खुद को चीजे निजी तौर पर लेने से रोक सकते हैं। [ये भी पढ़ें: कौन सी आदतें आपको आगे बढ़ने से रोकती हैं]

खुशहाल जीवन के लिए चीजों को पर्सनली(Personally) लेने से कैसे रोकें

आत्म-विश्वास बढ़ाएं
लोगों की परवाह ना करें
खुद को दुखी ना करें
समस्या का सामना करें
लोगों के साथ उनकी तरह व्यवहार ना करें

आत्म-विश्वास बढ़ाएं:
stop taking things personallyआत्म-विश्वास आपको चीजें पर्सनली लेने से बचाता है। जब आपको खुद पर विश्वास होता है और आप सहज होते हैं तो दूसरों के शब्द आपको प्रभावित नहीं करते हैं। इससे आपको चीजों को पर्सनली लेना छोड़ देते हैं। साथ ही लोगों को माफ करने आदत भी आपमें विकसित हो जाती है। लोगों को कैसे माफ करें जानने के लिए क्लिक करें।

खुद को दुखी ना करें: जब आप यह सोचते रहते हैं कि किसी ने आपके बारे में ऐसा कैसे कह दिया तो वह चीज आपके व्यवहार में दिखने लगती है। इससे सिर्फ आपको दुख पहुंचेगा। यह आपको निर्णय लेना है कि कोई भी चीज आपके मूड को प्रभावित ना करें खुद को सकारात्मक बनाकर रखें।

समस्या का सामना करें: अगर आपको ऐसा लगता है कि कोई व्यक्ति आपके बारे में बार-बार कुछ कह रहा है जिससे आपकी मानसिक शांति भंग हो रही है तो उनसे जाकर बात करें। उनसे पूछें कि उन्हें क्या समस्या है।

लोगों की परवाह ना करें:

stop taking things personally
लोगों की बातों की परवाह ना करें बस खुश रहकर चीजों को पर्सनली(Personally) लेने से बचें।

अगर कोई व्यक्ति आपके बारे में कुछ कहता है तो यह उनकी अपनी राय होती है। इसका हर बार आपसे संबंध हो ऐसा जरुरी नहीं होता है। इसलिए अपना समय यह सोचने में बर्बाद ना करें कि उन्होंने आपके बारे में ऐसा क्यों कहां। उनको जो कहना है कहने दें लोगों की परवाह ना करें।

लोगों के साथ उनकी तरह व्यवहार ना करें: अगर कोई व्यक्ति आपके बारे में कुछ बोलकर आपको परेशान कर रहा है तो आप उनकी तरह उनके साथ ना करें। उनकी बातों से खुद को प्रभावित ना होने दें। बेहतर इंसान बनने की कोशिश करें। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आप अपनी भावनाओं से जुड़े हुए हैं]

लोगों की बात सुननी चाहिए पर उसे पर्सनली ले लेना गलत होता है। इससे आप खुद को प्रभावित करने लगते हैं। खुद को इन सब चीजों से रोकना ही बेहतर होता है। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English) में भी पढ़ें।

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "