UP Board Results 2018: अच्छे मार्क्स लाने के बाद भी खुद को घमंड से कैसे दूर रखें

Read in English
how to stay grounded after scored well in exams

रिजल्ट आने का इंतजार करना काफी मुश्किल होता है। क्योंकि इससे आपके द्वारा की गई मेहनत के बारे में पता चलता है। कई लोग अपने रिजल्ट को लेकर बहुत उत्सुक होते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि उनके एग्जाम्स बहुत अच्छे हुए हैं। जब उनके यह विचार वास्तविकता में बदल जाते हैं जो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहता है। उस समय में खुद को सबसे अच्छा समझना और बाकियों को खुद से कम आंकने की भूल अक्सर कई बच्चे कर बैठते हैं। हालांकि इस समय में खुद को घमंड से दूर रखना जरुरी होता है। अच्छे रिजल्ट की वजह से लोगों से बहुत जल्दी अहंकार की भावना आ जाती है जिसका जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। तो आइए आपको बताते हैं कि अच्छे मार्क्स आने के बाद भी खुद को घमंड से कैसे दूर रखें। [ये भी पढ़ें: व्यवहार जो आपकी ओर लोगों को आकर्षित करते हैं]

समझें कि कठिन परिश्रम करना जरुरी है: कई बच्चों को लगता है कि उनके अच्छे मार्क्स उनकी अच्छी मानसिक क्षमता की वजह से आए हैं। हालांकि आपकी सफलता का राज आपका कठिन परिश्रम होता है। तो जीवन में कभी भी कठिन परिश्रम के महत्व को कम ना समझें।

दूसरों को नीचा ना दिखाएं: जब आपका कोई दोस्त या कोई और एग्जाम्स में अच्छे मार्क्स नहीं ला पाता है तो उनसे बात करते समय थोड़ा ध्यान रखना चाहिए। अपने अच्छे नंबर्स के बारे में बात करके उन्हें नीचा ना महसूस कराएं। उनका साथ देने वाले दोस्त बनें। [ये भी पढ़ें: किन कारणों से लोग आपको नजरअंदाज करते हैं]

खुद की प्रशंसा करें: अपने प्रयासों की प्रशंसा करना भी जरुरी होता है। अपनी स्ट्रेंथ पर गर्व महसूस करें। अच्छे मार्क्स लाने के बाद इस मौके को सेलिब्रेट करना ना भूलें।

दूसरों का आभार व्यक्त करें: आपके अच्छे मार्क्स आने के पीछे कई लोगों की मेहनत होती है। तो उनके प्रयासों के लिए उनका शुक्रिया अदा करें। अपने दोस्तों, टीचर और घरवालों के सपोर्ट के लिए आभार व्यक्त करें। इस दौरान खुद में घमंड ना आने दें।

सोचें यह सिर्फ शुरुआत हैं: एग्जाम्स में अच्छे मार्क्स लाने के बाद सोचें कि यह तो सिर्फ आपके लिए शुरुआत है। जीवन में आपको और भी कई एग्जाम्स पास करने हैं तो इन नंबरों को खुद पर हावी ना होने दें। आगे और मेहनत करने की सोचें।

यूपी बोर्ड परीक्षा 2018 के परिणाम घोषित होने वाले हैं। हर साल की तरह इस साल भी लाखों बच्चों ने 10वीं और 12 की परीक्षाएं दी हैं। यूपी बोर्ड परीक्षा 2018 में करीब 66.37 लाख छात्रों ने पंजीकरण कराया, जिनमें कक्षा 10वीं के 34,04,571 छात्र परीक्षा में शामिल हुए। वहीं यूपी बोर्ड की कक्षा 12वीं के लगभग 26,24,681 छात्र परीक्षा में बैठे। यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं की परीक्षा 6 फरवरी से 22 फरवरी तक आयोजित की गई जबकि 12वीं की परीक्षा 6 फरवरी-12 मार्च तक आयोजित की गई थी।
साल 2017 की बात करें तो लगभग 60.29 लाख छात्रों ने पिछले साल परीक्षा दी थी। यूपी बोर्ड 2017 में 10वीं के लगभग 34,01,511 छात्रों और 12वीं के करीब 26,54,492 छात्र शामिल हुए। 2017 में 10वीं के छात्रों में से 81.6 प्रतिशत बच्चे पास हुए और 12वीं का रिजल्ट 81.6 प्रतिशत रहा। 2017 में हुए यूपी बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में 86.50 प्रतिशत लड़कियां और 81.6 प्रतिशत लड़के पास हुए थे। 10वीं का हाईएस्ट स्कोर 95.83 प्रतिशत था। यूपी बोर्ड 2017 की 12वीं की परीक्षा में पास होने वाले छात्रों में 86.50 प्रतिशत लड़कियां तो वहीं 76.75 प्रतिशत लड़के पास हुए थे। 12 वीं का हाईएस्ट स्कोर 96.20 प्रतिशत था। [ये भी पढ़ें: आत्मविश्वास और अतिआत्मविश्वास में क्या फर्क होता है]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "