खुद को मानसिक और भावनात्मक रुप से मजबूत कैसे बनाएं

how to make yourself mentally and emotionally strong

जीवन में किसी भी समस्या को दूर करने के लिए व्यक्ति का मानसिक और भावनात्मक रुप से मजबूत होना आवश्यक होता है। यह जीवन में उतार-चढ़ाव के समय में फैसले लेने में मदद करता है और उस समय का सफलता पूर्वक सामना करने में मदद करता है। कई बार लोग आपकी इस कमजोरी का फायदा उठा लेते हैं, इसलिए खुद को मानसिक और भावनात्मक रुप से मजबूत बनने के लिए कुछ चीजें कर सकते हैं क्योंकि एक दिन में मानसिक और भावनात्मक रुप से मजबूत नहीं बन सकते हैं। अगर आप किसी भी चीज को सकारात्मक रुप से देखने लगते हैं तो मानसिक और भावनात्मक रुप से मजबूत बना जा सकता है। बस आपको प्रयास करने की जरुरत होती है। तो आइए आपको कुछ चीजों के बारे में बताते हैं जो मानसिक और भावनात्मक रुप से मजबूत बनाने में मदद करती हैं। [ये भी पढ़ें: एक से अधिक भाषाओं का ज्ञान आपके मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है]

उन चीजों की पहचान करें जिन्हें आप बदलना चाहते है: अपनी कमजोरियों और ताकत के बारे में खुद से बेहतर कोई नहीं जान सकता है इसलिए सबसे पहले एक लिस्ट बनाएं और जानें कि आपकी कमजोरी क्या है और आपकी ताकत क्या है। अपनी कमजोरी को सुधारना ही अपना लक्ष्य बनाएं। उन कमजोरियों को ताकत में बदलने की कोशिश करें।

अपने पिछले अनुभवों को कारण ना बनाएं: बचपन में जिन बच्चों को मां-बाप की उपेक्षा या सेक्सुअल अब्यूज का शिकार होना पड़ता है उन बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर इस चीज का बुरा असर पड़ता है। इसलिए अगर पुराने समय की बुरी यादें आपको मानसिक रुप से कमजोर बनाती है तो इन चीजों को थैरेपी की मदद से दूर करने का प्रयास करें। इन्हें दूर करें और अपने आज पर हावी ना होने दें।

किसी चीज का एडिक्शन: किसी भी चीज की लत लगना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती हैं क्योंकि फिर आपका उस चीज के बिना काम करना मुश्किल हो सकता है। जीवन में एल्कोहल, तंबाकू और किसी नशीले पदार्थ की लत लगने से आप धीरे-धीरे उसके आदि तो हो ही जाते हैं और साथ ही साथ मानसिक और भावनात्मक रुप से भी कमजोर होते जाते हैं इसलिए खुद को मजबूत करने के लिए इन चीजों का एडिक्शन छोड़ें। [ये भी पढ़ें: बॉडी शेमिंग कैसे मानसिक रुप से प्रभावित करती है]

दबाव में शांत रहना सीखें: परेशानियां सभी के जीवन में होती हैं लेकिन उनके दबाव में हड़बड़ा जाना आपकी कमजोरी दिखाता है। किसी भी परेशानी को शांत तरीके से दूर किया जा सकता है। इसलिए दबाव को झेलें वो भी पूरी शांति के साथ। खुद को शांत करें और 10 तक गिनती गिनें, गहरी सांसें ले और दबाव की स्थिति में 5 मिनट के लिए ही सही मेडिटेशन जरुर करें इससे आपको मजबूती मिलती है।

अपना ख्याल रखें: जो लोग खुद का ख्याल नहीं रखते दुनिया भी उनका ख्याल रखने में रुचि नहीं लेती है। इसलिए सबसे पहले अपना ख्याल रखें, खुश रहें और अपना नजरिया हमेशा सकारात्मक बनाकर रखें, ऐसा करने से आप खुद को मानसिक और भावनात्मक रुप से मजबूत बना सकते हैं।  [ये भी पढ़ें: खुद को कम आंकने की आदत को कैसे दूर करें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "