Fullest Potential: कैसे जानें कि आप पूरी क्षमता का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं

How To Tell You Are Not Living Your fullest potential

कुछ संकेत बताते हैं कि आप अपने अंदर मौजूद क्षमता का संपूर्ण हिस्सा इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं।

Fullest Potential: इंसान के अंदर हर काम को करने की क्षमता है। बस जरुरत है कि वो अपनी इस क्षमता को पहचानें। साथ ही किसी भी काम को करने के लिए आपको पर्याप्त कोशिश और लगन भी चाहिए होती है। बहुत से लोग शिकायत करते हैं कि पूरी मेहनत करने के बाद भी किसी भी काम में उन्हें सफलता नहीं मिलती। यह सवाल एक और सवाल को जन्म देता है कि क्या आप अपनी पूरी क्षमता का इस्तेमाल कर रहे हैं। अगर आप पूरी क्षमता का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो या तो आप असफल हो जाते हैं या आपका काम वैसा नहीं होता जैसा आप चाहते हैं। कु छ संकेतों के जरिए आप जान सकते हैं कि आप अपनी पूरी क्षमता का इस्तेमाल कर रहे हैं या नहीं। [ये भी पढ़ें: मेडिटेशन आपकी सीखने की क्षमता को कैसे बढ़ाता है]

Reaching Your Potential: संकेत जो बताते हैं कि आप अपनी पूरी क्षमता का उपयोग नहीं कर रहे हैं

  • नाखुश होना
  • डिप्रेशन महसूस करना
  • दूसरों से तुलना करने पर दुखी होना
  • हमेशा शिकायत करना
  • अपनी कमियों के लिए दूसरों को दोष देना

नाखुश होना

signs you are using less potential
अगर आप हमेशा नाखुश रहते हैं तो इसका मतलब है कि आप अपनी पूरी क्षमता नहीं इस्तेमाल कर रहे हैं।

अगर आप हर वक्त नाखुश रहते हैं तो आपको अपने शरीर और भावनाओं के द्वारा दिए जा रहे इस संकेत को पहचानना चाहिए। यह बताता है कि कुछ तो गलत है। नाखुश होने का मतलब है कि कोई का उस तरह से नहीं हो रहा है जिस तरह से आप चाहते हैं इसलिए आप खुश नहीं रह पाते।

डिप्रेशन महसूस करना
अगर आप मेहनत करने के बाद मभी डिप्रेशन महसूस कर रहे हैं तो इसका मतलब है कि आपके अंदर कुछ है जिसे आपको सुलझाने की जरुरत है। यह बताता है कि आपमें इससे अधिक क्षमता है और सफल होने के लिए आपको इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

दूसरों से तुलना करने पर दुखी होना
आपको अपनी तुलना दूसरों से नहीं करनी चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आप कभी खुश नहीं रह सकते। जब आप अपनी पूरी क्षमता का इस्तेमाल नहीं करते तो आप दूसरों से पीछे रह जाते हैं और फिर तुलना करने पर आपको अच्छा महसूस नहीं होता।

हमेशा शिकायत करना

How do you know if you're living up to your potential
जब आप शिकायत करते हैं तो यह बताता है कि आपके सामने जो है, आप उसे स्वीकार नहीं करना चाहते।

अक्सर हम अपनी गलतियों को छुपाने के लिए शिकायतें करना शुरु कर देते हैं। जब आप शिकायत करते हैं तो यह बताता है कि आपके सामने जो है, आप उसे स्वीकार नहीं करना चाहते। इसलिए शिकायत करने की बजाय खुद पर भरोसा करें और अपनी क्षमता को पहचानें।

अपनी कमियों के लिए दूसरों को दोष देना
दूसरे लोगों पर दोष लगाना ना केवल उन लोगों को आपसे दूर कर देता है बल्कि आपके विकास को भी रोकता है। जब आप अपनी मेहनत के बाद भी किसी काम को पूरा नहीं कर पाते या उसमें असफल रहते हैं तो आप दूसरों पर दोष लगाने लगते हैं। जिम्मेदारी लेने की आदत डालें।

[जरुर पढ़ें: स्मार्टफोन कैसे हमारी सोचने समझने की क्षमता को कम कर रहा है]

ये कुछ संकेत हैं जो बताते हैं कि आप अपने अंदर मौजूद क्षमता का संपूर्ण हिस्सा इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं जिसके कारण आपको बार-बार असफलता मिल रही है। आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "