पुराने घावों को भरने के लिए आजमाएं ये आसान टिप्स

Read in English
how to heal old wounds with easy tips

कभी-कभी जिंदगी में कुछ हालात और स्थिति ऐसे हो जाती हैं जिनके कारण हमारा दिल टूट जाता है और हम अकेला महसूस करने लगते हैं। खासतौर पर ऐसा तब होता है जब हम उन हालातों को इतनी अहमियत दे बैठते हैं कि वो हमारी जिंदगी, मूड और रिएक्शन को प्रभावित करने लगते हैं। जब आप किसी बात से आहत होते हैं तो उसका दर्द इतना बढ़ जाता है कि यह असहनीय होता है। हालांकि आपको जानना चाहिए कि हमारे अंदर इतनी शक्ति और क्षमता है कि हम खुद को किसी भी घाव से बाहर निकाल सकते हैं। बस आपको ये समझने की जरुरत है कि ये शक्ति कैसे आपको किसी भी घाव को भरने में मदद करती है। ये आसान टिप्स आपकी मदद कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: जानिए किस तरह से सोशल मीडिया करती हैं किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित]

सबसे पहले खुद को समय दें:
how to heal old wounds with easy tipsकिसी भी भावनात्मक दर्द से उबरने के लिए आपको सबसे पहले जो काम करना है वो है कि आप खुद को इस दुदुख से निकालने के लिए समय दें। आपको ये समझें कि किसी भी तरह के इमोशनल वाउंड को हील करने के लिए समय लगता है और आपके पास अपने लिए उतना समय होना चाहिए।

खुद को भावनात्मक तौर पर क्लिंज करें: अगर कोई याद आपको भावनात्मक और मानसिक तौर पर दुख पहुंचाती है तो बेहतर है कि आप उस याद को अपने दिलो-दिमाग से निकाल फेंके। इस तरह की यादों को अपने दिमाग में संजोय रखना आपके लिए स्वस्थ नहीं होगा। इसलिए बेहतर है कि उन यादों को मिटा दें। [ये भी पढ़ें: मुसीबतों का सामना करके बढ़ाएं अपना आत्मविश्वास]

उन लोगों के साथ रहें जो आपको समझते हैं:
how to heal old wounds with easy tipsआप जिस तरह के लोगों से घिरे होते हैं और जिस तरह के वातावरण में रहते हैं उससे आपके व्यक्तित्व पर गरहा असर होता है। इसलिए अगर आप खुद को भावनात्मक तौर पर बेहतर देखना चाहती हैं तो जरुरी है कि आप इस तरह के लोगों के अधिक समय बिताएं जो आपको समझते हैं।

जितना हो सकें घूमें:
how to heal old wounds with easy tipsयात्रा करने से आपको कई चिकित्सीय फायदे हो सकते हैं प्रमुख रुप से तब जब आप अपनी पसंद की जगह पर घूमने जाते हैं। चाहे आप अपने दोस्तों के साथ एक वेकेशन प्लान करें या सोलो ट्रिप पर जाएं दोनों स्थिति में ही यह आपके स्वास्थ्य को बेहतर करता है और आपको भावनात्मक और मानसकि रुप से मजबूत करता है। [ये भी पढ़ें: ब्रेन डैमेज से बचना है तो ना करें ये गलतियां]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "