मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए जरुरी नहीं है कोई दवा या थेरेपी

how to get mentally healthy without medicine and therapy

मानसिक रोगों का होना कोई सामान्य बात नहीं है, इनके पीछे कई गंभीर कारण होते हैं लेकिन इनके परिणामों की बात करें तो वह और भी ज्यादा हानिकारक होते हैं। इनके उपचार के लिए कई बार लोग महंगी दवाओं और थेरेपी का सहारा लेते हैं। थेरेपी के माध्यम से ठीक होने में समय लगता है और दवाओं के प्रयोग के कारण कई बार साइड इफेक्ट देखने को मिलते हैं। लेकिन इन सबके अलावा भी कुछ ऐसे तरीके हैं जिनके माध्यम से मानसिक स्वास्थ को दुरुस्त किया जा सकता है और इसके साथ ही यह उन लोगों के लिए भी कारगर है जो किसी प्रकार के मानसिक विकार से पीड़ित होते हैं। आइए जानते हैं कैसे दवाओं और थेरेपी के बिना ही मानसिक स्वास्थ को बेहतर किया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: बॉडी डायस्मोरिक डिसऑर्डर से लोग कैसे और क्यों होते हैं ग्रस्त]
एक्सरसाइज एक बेहतर उपचार:
how to get mentally healthy without medicine and therapy
व्यायाम ना केवल व्यक्ति को शारीरिक रूप से स्वस्थ्य रखता है बल्कि यह व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ के लिए भी लाभदायक होता है। एक्सरसाइज करने से आपके भीतर एक उर्जा उत्पन्न होती है जो कि आपके मन-मस्तिष्क में सकारात्मकता पैदा करती है। सुबह के समय में घर से बाहर ताज़ी हवा में टहलने से हम पूरा दिन तरोताजा रहते हैं जिससे आपके मन में किसी भी प्रकार के विकार, उदासी, तनाव आदि विकसित नहीं हो पाते हैं। इसके साथ-साथ एक्सरसाइज करने से व्यक्ति के दिमाग में भी हार्मोनल बदलाव आते हैं। यह बदलाव मानसिक रूप से लाभदायक होते हैं। इसके साथ-साथ मेडिटेशन, योग आदि भी मानसिक स्वस्थ को दुरुस्त रखने के लिए बेहतर माना जाता है।

मानसिक स्वास्थ्य के लिए जरुरी है पूरी नींद:

how to get mentally healthy without medicine and therapy
सामान्य तौर पर हमें 24 घंटों में कम से कम 6 से 8 घंटे सोना चाहिए लेकिन आज की इस भागम-भाग वाली दिनचर्या के कारण हम अपनी नींद पूरी नहीं कर पाते हैं जिसके परिणाम स्वरूप व्यक्ति को मानसिक रूप से क्षति पहुंचने की संभावना रहती है। पूरी नींद ना लेने वाले व्यक्ति में जो मानसिक विकार सबसे ज्यादा पाया जाता है वो है तनाव। इसलिए इस तरह के मानसिक विकार को उत्पन्न होने से बचाने के लिए जरुरी है कि पूरी नींद ली जाए। पूरी नींद लेने से व्यक्ति की अगली सुबह बहुत खुशनुमा और उमंग से भरी होती है। [ये भी पढ़ें: मानसिक स्वास्थ्य पर गहराता सोशल मीडिया का असर]

समाजिक जुड़ाव भी करता है मानसिक स्वास्थ को मजबूत:
how to get mentally healthy without medicine and therapy
कई बार बहुत सी समस्याओं का समाधान घर से निकलते ही अपने दोस्तों से मिलने के बाद हो जाता है। मानसिक स्वास्थ्य के उपचार में भी व्यक्ति को सामाजिक तौर पर एक्टिव होने की सलाह दी जाती है। इस तरह के उपचार में व्यक्ति को घर के बाहर अपने दोस्तों के साथ समय बिताने और घूमने-फिरने की सलाह दी जाती है जिससे कि मानसिक रूप से पीड़ित व्यक्ति के भीतर फिर से अपने आप को अभिव्यक्त करने का मौका मिले उसका आत्मविश्वास फिर से जगे।

यह तरीका केवल मानसिक रूप से पीड़ित व्यक्ति के लिए नहीं होता है बल्कि यह हम और आप भी खुद को मानसिक रूप से मजबूत करने के लिए इस तरह के तरीकों का प्रयोग कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर वह व्यक्ति जो बहुत ज्यादा काम करता है या जिसे काम से फुर्सत नहीं मिल पाती है उस व्यक्ति को थोड़े-थोड़े समय पर अपने काम को छोड़ कर घर और ऑफिस के बाहर निकलना चाहिए, अपने दोस्तों से मिलना चाहिए। इससे व्यक्ति का काम या अन्य बातों को लेकर जो तनाव होता है वह कम होता है। [ये भी पढ़ें: वृद्धावस्था में मानसिक अस्वस्थता, ये हो सकते हैं कारण]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "