असुरक्षा की भावना से कैसे बाहर आएं

Read in English
how to deal with insecurities

कोई भी इस दुनिया में परफेक्ट नहीं होता है हर किसी के अंदर डर और खामियां होती हैं। यह डर आपके आत्म-विश्वास को कम कर देते हैं और आपमें असुरक्षा की भावना छोड़ देते हैं। लोगों को कई चीजों से असुरक्षा की भावना महसूस होती हैं। कुछ लोगों को अपने चलने से तो कुछ लोगों को अपने बात करने के तरीके से। आपकी असुरक्षा की भावना आपको किसी काम को करने से रोककर भी रख सकती है। क्योंकि आपको डर लगता है कि लोग आपके बारे में गलत राय बना लेंगे। सच तो यह है कि आपकी असुरक्षा की भावना आपको ही नुकसान पहुंचा रही होती है। खुद को नुकसान पहुंचाने से बचने के लिए असुरक्षा की भावना से बाहर आना जरुरी होता है। तो आइए आपको इन तरीकों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: ब्रेन हैक्स जो आपको स्मार्ट बनाते हैं]

असुरक्षा की भावना के कारणों के बारे में सोचें: सबसे पहले अपनी परेशानी के कारण को ढूंढें। सोचें की कौन सी चीज आपक प्रभावित कर रही है। जब आप इन कारणों के बारे में जान जाएंगे तो इससे बाहर आने का तरीका भी आसानी से मिल जाएगा।

याद रखें कि आप अकेले नहीं हैं: आप इस दुनिया में अकेले नहीं है जो असुरक्षा की भावना से जूझ रहे होते हैं। आपके आस-पास ऐसे कई लोग होते हैं जिन्हें भी इस भावना की परेशानी होती है। इसलिए कभी भी खुद को अकेला ना समझें। [ये भी पढ़ें: जलन की भावना कैसे दूर करें]

अपनी कामयाबियों को याद करें: कभी-कभी असुरक्षा की भावना आपके जीवन में इस तरह फैल जाती है कि आप अपनी कामयाबियों के बारे में सोच भी नहीं पाते हैं। इस परिस्थिति में आपको अपनी सफलता पर फोकस करना चाहिए।

खुद से सकारात्मक बाते करें: आप खुद से जिस तरह से बात करते हैं वह आपको बेहतर बनाने में मदद करता है। खुद को बेहतर बनाने के लिए अपने आप से सकारात्मक बातें करें। खुद को मोटिवेट करें और सकारात्मक चीजों पर ध्यान दें।

लोगों से बात करें: यह सुनने में थोड़ा अजीब लगता है लेकिन जब आप अपनी परेशानियों के बारे में किसी से बात करते हैं तो वह कम होती हैं। साथ ही इस समस्या से बाहर आने में मदद मिलती है। असुरक्षा की भावना होना एक आम परेशानी है जो बाकि लोगों को भी प्रभावित करती है।

कोशिश करें: आपका जीवन अगर कोई बदल सकता है तो वह केवल आप होते हैं। अपने जीवन को असुरक्षा की भावनाओं में बर्बाद करने से बेहतर है कि इससे बाहर आने की कोशिश करें। लोगों से बात करना शुरु करें, मस्ती मजाक करें। [ये भी पढ़ें: वीडियो गेम खेलने की वजह से बच्चों पर क्या दुष्प्रभाव होता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "