Handling criticism: सकारात्मक तरीके से आलोचना को कैसे हैंडल करें

Read in English
ways to handle criticism

Handle criticism: आलोचना को सकारात्मकता बदलना जरुरी होता है।

जीवन में आप हर चीज बेहतर करने की कोशिश करते हैं मगर कई बार आपके काम को लेकर प्रयास काफी नहीं होते हैं जिसकी वजह से आपको आलोचना का सामना करना पड़ता है। कई बार ऐसा भी होता है कि आपको लगता है कि आपने अपनी तरफ से काम बिल्कुल सही तरीके से किया है लेकिन उसमें अभी भी प्रयास की जरुरत होती है। इस दौरान आपको आपको आलोचना का सामना करना पड़ता है। अपनी आलोचना को हैंडल करना जरुरी होता है वो भी सकारात्मक तरीके से। अगर आप आलोचना को सकारात्मक तरीके से ले सकते हैं तो आप जीवन में कुछ भी पा सकते हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि आलोचना को कैसे हैंडल करें। [ये भी पढ़ें: Judging people: बिना सोचे समझें किसी के बारे में राय क्यों ना बनाएं]

Handling criticism: आलोचना को कैसे हैंडल करें

जानें किस तरह की आलोचना है
परिस्थिति को समझें
दूसरा विकल्प ढूंढे
फीडबैक से सीखें
जीवन में आगे बढ़ें

जानें किस तरह की आलोचना है: कई बार जलन की वजह से लोग बहुत बुरा बोल देते हैं तो किसी भी एक व्यक्ति पर ध्यान ना दें। इस दौरान समय लें और समझें कि वह किस तरह की आलोचना कर रहे हैं। जलन और नकारात्मकता से दूर रहें।

परिस्थिति को समझें: अगर कोई व्यक्ति आपके काम को लेकर आलोचना करता है तो पहले इस बारे में सोचें। उनके फीडबैक को समझने की कोशिश करें फिर उसे बेहतर करने की कोशिश करें। [ये भी पढ़ें: परिस्थितियों को अवसर में कैसे बदलें]

दूसरा विकल्प ढूंढे: किसी के काम पर राय जानने के लिए एक व्यक्ति की आलोचना सुनना ठीक नहीं होता है। कोशिश करें कि आपको कई लोगों से फीडबैक मिले। ताकि सबकी सुनकर आप अपने काम को बेहतर बना सकें।

फीडबैक से सीखें:

turn criticism in positivity
Criticism: आलोचना से सीखे और जीवन में आगे बढ़ें।

जब आप आलोचना की नकारात्मकता के बारे में सोचते हैं तो याद रखें जीवन में आगे बढ़ने के लिए आलोचना बेहद जरुरी होती है। आलोचना से सीखें और खुद में सुधार करें। [ये भी पढ़ें: सही समय पर उचित निर्णय कैसे लें]

जीवन में आगे बढ़ें: आलोचना सुनने के बाद कुछ लोग काम करना ही बंद कर देते हैं वह अपने काम को नकारात्मक समझने लगते हैं। जीवन में आलोचना से आगे बढ़ना जरुरी होता है क्योंकि नकारात्मकता आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचाती है।

[जरुर पढ़ें: आलोचना तारीफ से ज्यादा बेहतर क्यों होती है]

जीवन को खुशहाल बनाने के लिए आलोचना को सकारात्मकता में बदलना जरुरी होता है। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English) में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "