Reading Books: किताबें पढ़ना मानसिक स्वास्थ्य को कैसे बेहतर बनाता है

Read in English
Ways Reading Can Boost Your Mental Health

किताब पढ़ना आपके दिमाग के लिए एक एक्सरसाइज के तौर पर काम करता है।

Reading Books: आपने कई लोगों से सुना होगा कि किताबें पढ़ना अच्छी आदतों में से एक है। किताबें पढ़ना आपके ज्ञान, शब्दावली, लेखन शैली और बहुत से गुणों को बढ़ाता है। इन फायदों के अलावा भी किताब पढ़ना आपको एक बेहतर और स्वस्थ इंसान बनाता है। आप शायद ही जानते होंगे कि किताबें पढ़ने से आपका मानसिक स्वास्थ्य भी मजबूत होता है। इससे ना केवल आपकी याददाश्त बढ़ती है बल्कि आपके सोचने-समझने की क्षमता में भी सुधार होता है। किताब पढ़ना आपके दिमाग के लिए एक एक्सरसाइज के तौर पर काम करता है। यह एक मशीन के लिए लुब्रिकेशन की तरह होता है। इसलिए आप किताबें पढ़ना शुरु करें और समझें कि आपका मानसिक स्वास्थ्य किताब पढ़ने से कैसे बेहतर होता है। [ये भी पढ़ें: चीजों को तेजी से सीखने के लिए जरुरी ब्रेन हैक्स]

Reading  for Mental Health: किताब पढ़ने से आपके मानसिक स्वास्थ्य कैसे अच्छा रहता है

  • तनाव कम होता है
  • थेरेपी का काम करता है
  • बुद्धिमत्ता और रचनात्मकता बढ़ती है
  • दिमाग जवां रहता है

तनाव कम होता है
किताबें पढ़ने से 68 प्रतिशत तनाव कम हो सकता है। पढ़ना आपके तनाव के स्तर को कम करता है। इसी तरह संगीत सुनना, खेलना आदि आपको तनाव मुक्त रहने में मदद करता है। जब भी आप लंबे समय तनावपूर्ण महसूस कर रहे हों तो थोड़े समय के लिए किताब पढ़ें, आप आराम महसूस करेंगे।

थेरेपी का काम करता है
जब आप किताब पढ़ते हैं तो आप अपने वास्तविक जीवन के साथ जुड़ पाते हैं। किताब पढ़ने से आपको अपने जीवन में चल रही समस्याओं का समाधान खोजने में मदद मिलती है। इसलिए किताब पढ़ना एक थेरेपी की तरह काम करता है। किताबें आपकी सकारात्मकता को बढ़ाने में मदद करती हैं और आपको यह महसूस कराती हैं कि आप अकेले नहीं हैं।

बुद्धिमत्ता और रचनात्मकता बढ़ती है
किताबें पढ़ने से आपकी बुद्धिमत्ता बढ़ती है। यह आपके दिमाग को कई तरीकों से सोचने में मदद करती है। जो भी आप पढ़ते हैं, उससे आपको नए शब्द सीखने को मिलते हैं। साथ ही यह आपकी कल्पना करने की क्षमता और रचनात्मकता को भी बेहतर करता है।

दिमाग जवां रहता है

Reading Books & Keeping An Active Mind
किताब पढ़ने से दिमाग लंबे समय तक जवां रहता है।

एक अच्छी किताब पढ़ने से आपके दिमाग की उम्र बढ़ती है। अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग रचनात्मक या बौद्धिक गतिविधियों जैसे पढ़ना आदि करते हैं, उनका दिमाग जवां रहता है और किताबें ना पढ़ने वाले लोगों की तुलना में, उनके कॉगनिटिव डिकलाइन रेट 32 प्रतिशत कम होता है।

[जरुर पढ़ें: हर उम्र में अपने दिमाग को तेज रखने के तरीके]

ये कुछ फायदे हैं जो किताबें पढ़ने से आपके मानसिक स्वास्थ्य को मिलते हैं। आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "