Tibetan meditation: तिबेतियन मेडिटेशन करने की विधि

Read in English
how to do tibetan meditation

तिबेतियन मेडिटेशन केवल दिमाग और शरीर के बीच संतुलन तक सीमित नहीं है।

Tibetan meditation: तिब्बती संस्कृति ने हमेशा मेडिटेशन के महत्व पर बल दिया है। तिबेतियन मेडिटेशन प्रकृति के साथ एक होने पर केंद्रित है। यह पृथ्वी, आकाश, पानी, आग और हवा, इन प्राकृतिक तत्वों के प्रति निस्संदेह भक्ति को दर्शाता है। ध्यान की यह शैली ना केवल आपके अंदर, बल्कि प्रकृति में भी शांति को बढ़ाती है। तिबेतियन मेडिटेशन केवल दिमाग और शरीर के बीच संतुलन तक सीमित नहीं है यह पर्यावरण में सद्भाव पैदा करने की दिशा में भी काम करता है। तिबेतियन मेडिटेशन करने के लिए इसके पीछे के विचार को समझना भी महत्वपूर्ण है। आइए जानते हैं कि तिबेतियन मेडिटेशन कैसे करें। [ये भी पढ़ें: मेडिटेशन के दौरान दिमाग में चल रहे विचारों का क्या करें]

Tibetan meditation: तिबेतियन मेडिटेशन कैसे करें

  • दिमाग को साफ करें
  • किसी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करें
  • आँखें बंद करें और ध्यान लगाएं
  • सांसों पर फोकस करें

दिमाग को साफ करें
ध्यान की प्रक्रिया शुरू करने से पहले, अपने दिमाग को साफ़ करें। सभी स्वार्थी विचारों को अपने दिमाग से बाहर निकालें। फिर आराम से बैठें ताकि आप केवल ध्यान की प्रक्रिया पर खुद को केंद्रित कर सकें।

किसी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करें

How do Tibetan monks meditate
ध्यान का यह तरीका आपकी इच्छाओं और मोह को छोड़ने पर ज़ोर देता है।

अब कोई भी एक भौतिक वस्तु लें ताकि आप इस पर ध्यान केंद्रित कर सकें। तिबेतियन शैली का पालन करने वाले अधिकांश लोग बुद्ध की मूर्ति पर ध्यान केंद्रित करते हैं। इस वस्तु पर ध्यान केंद्रित रखें जब तक कि आप पूरी तरह से वस्तु से परिचित हों।

आँखें बंद करें और ध्यान लगाएं
अब अपनी आंखें बंद करें और वस्तु की अपने दिमाग में कल्पना करें। इस तरह आपका दिमाग पूरी तरह से केंद्रित होगा। हो सकता है कि पहले प्रयास में आप वस्तु को पूरी तरह से कल्पना ना कर पाएं। हालांकि, अभ्यास और समय के साथ, आपका दिमाग तैयार हो जाएगा।

सांसों पर फोकस करें
जब आपका दिमाग स्थिर हो जाए और बाकी सभी विचार दिमाग से बाहर हो जाएं और आप केवल ध्यान में हो तो आप अगला कदम उठा सकते हैं। अपनी सांस लेने पर ध्यान देना शुरू करें। खुद को प्रकृति और मानवता के बीच की कड़ी की तरह सोचें। हर सांस के साथ प्रकृति के साथ खुद को जोड़ने की कोशिश करें। हालांकि, इस तकनीक में याद रखने की महत्वपूर्ण बात यह है कि आप यह अपने फायदे के लिए नहीं कर रहे हैं।

[जरुर पढ़ें: मेडिटेशन से कौन से शारीरिक और मानसिक फायदे होते हैं]

ध्यान का यह तरीका आपकी इच्छाओं और मोह को छोड़ने पर ज़ोर देता है। इसलिए, प्रकृति के साथ एकजुट होने के लिए अपने आप को तैयार करे। आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "