जानें सही तरीके से मेडिटेशन करना क्यों है जरुरी

know why it is necessary to properly meditate

जब कभी भी आपका मन अस्थिर हो या आप परेशान हों तो आपको मेडिटेशन करना चाहिए। मेडिटेशन आपके मन की सारी नकारात्मक भावना या दुख को दूर करने में मदद मिलती है। दिल और दिमाग को एक केंद्र पर स्थिर करने को ही मेडिटेशन कहते हैं। गुस्सा, तनाव, ज्यादा काम हमें परेशान कर देता है जिसकी वजह से हमारी सेहत पर इन सबका गहरा असर पड़ता है। इन सब चीजों से छुटकारा पाने के लिए, शांत और एकाग्र रहना बहुत जरुरी होता है। जिसे हम मेजिटेशन करके दूर कर सकते हैं। मेडिटेशन से व्यक्ति को अपने दिमाग को समझने में मदद मिलती है साथ ही साथ आप नकारात्मकता से सकारात्मकता की तरफ भी जाने लगते हैं। मेडिटेशन करना कोई कठिन काम नहीं है। आप दिन के किसी भी शांत समय में मेडिटेशन कर सकते हैं। मेडिटेशन करने के लिए आप निम्नलिखित सुझावों पर ध्यान दें।
मेडिटेशन करने का तरीका:

  • सबसे पहले आपको मेडिटेशन करने के लिए एक शांत जगह ढूंढें जहां कोई आपको परेशान ना कर पाए।
  • अब बैठने के लिए एक आरामदायक गद्दा ले, गद्दा इतना बड़ा हो की जिस पर आप लेट भी सकें।
  • याद रहे आप जहां मेडिटेशन करें वहां हलकी रोशनी हो । हल्की रोशनी आपके दिमाग और शरीर को शांत रखने में मदद करती है।
  • हमेशा मेडिटेशन करने के लिए एक समय जरुर निर्धारित करें। मेडिटेशन करने के दौरान मेडिटेशन ही करें और बाकि चीजों से खुद को दूर रखने की कोशिश करें। [ये भी पढ़ें : मेडिटेशन करने से पहले इसका अर्थ जानना है जरुरी]
  • मेडिटेशन करने के लिए एक ऐसी अवस्था में बैठें जिसमें आप कम से कम 20 मिनट तक बैठ सकें। पालथी मारकर बैठना सही होता है।
  • मेडिटेशन करने के लिए आप पालथी मारकर बैठ जाइए। याद रहे आपकी रीढ़ की हड्डी, सिर और गर्दन एक दम सीधे और एक ही सीध में हों।
  • उसके बाद धीरे-धीरे अपने कंधो को आराम देना शुरु करें साथ ही सांस लेते समय उन्हें कानों तक ऊपर लेकर आएं। जब सांस छोड़े तो सांस के साथ कंधो को भी नीचे की ओर ले आयें।
  • अब धीरे-धीरे आंखों को बंद करना शुरु करें पर याद रहे आपकी पूरी तरह बंद नहीं होनी चाहिए। उसके बाद अपने सामने की दीवार पर फोकस करने की कोशिश करें इस दौरान अपना पूरा शरीर तनाव मुक्त रखें।
  • अब अपनी सांसों पर अपना ध्यान केंद्रित करना शुरु करें। जैसे-जैसे आपकी सांसे चल रही हैं उस पर अपना ध्यान लगाएं। अगर ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत हो रही है तो आप ध्यान लगाने के लिए गिनती भी गिन सकते हैं ताकि आपका ध्यान एक जगह केंद्रित हो सके। बीच-बीच में सांस को 2-3 मिनट तक रोक कर रखें और उन्हें महसूस करने की कोशिश करें। [ये भी पढ़ें : कई अलग अलग तरीकों से किया जा सकता है मेडिटेशन]
  • इस समय में आपके मन में कई विचार आने लगेगें और आपका ध्यान भटकेगा लेकिन आप इन विचारों पर ध्यान ना दें और इन्हें अपने मन से हटाते रहें। ध्यान भटकाने वाली चीजों के बारे में ज्यादा न सोचें और सांसों को लंबा लेते हुए ध्यान लगाएं।
  • मन को एकाग्र करने के लिए आप सांस लेते समय ओम का जाप भी कर सकते हैं। जब लंबी सांस लें तब ओम का जाप करें और जब सांस छोड़ें तब भी ओम का जाप करें। थोड़ी देर तक ऐसा करने के बाद सामान्य तरीके से सांस लें लेकिन मन फिर भी इधर-उधर विचलित होने लगे तो दोबारा मन को वापस एकाग्र करने की कोशिश करें।
  • यह सब बार-बार दोहराने से आपका मन एकाग्र होने लगेगा। मन में इधर-उधर के विचार आना सामान्य बात है लेकिन इन्हें दबाएं नहीं इनको हटाने की कोशिश करें और अपना ध्यान अपनी सांसों की तरफ लगाएं। लगातार ऐसा करने से धीरे-धीरे आपके मन से विचार आना बंद हो जाएंगे और आपका मन स्थिर होने लगेगा।
  • शुरुआत में मेडिटेशन क 2-3 मिनट तक दिन में 3-4 बार करें। एक बार जब आप अभ्यस्त हो जाएं तो मेडिटेशन का समय बढ़ा दें।
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "