जानें क्या है विपश्यना मेडिटेशन तकनीक और इससे होने वाले फायदे

How to Practice vipassana-meditation and its benefits

‘विपश्यना’ एक पाली भाषा का शब्द हैं, जिसका अर्थ होता है ‘अंतर्दृष्टि’ या स्पष्ट रूप से देखना। बौद्ध धर्म से सबंध रखने वाले इस मेडिटेशन का अभ्यास सबसे पहले मेदावी (1728-1816) नामक एक बौद्ध संत ने किया। इस तरह के मेडिटेशन से व्यक्ति के भीतर की रचनात्मकता बढ़ती है साथ ही साथ उसमें सकारात्मक ऊर्जा का संचार भी होता है। विपश्यना मेडिटेशन व्यक्ति में सोचने-विचारने की क्षमता को बढ़ाता है। आइए इस मेडिटेशन को करने के तरीका और इससे होने वाले अन्य फायदों के बारे में जानते हैं। [ये भी पढ़ें: राजयोग मेडिटेशन से करें अपने अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार]

विपश्यना मेडिटेशन करने की विधि: विपश्यना मेडिटेशन को निम्नलिखित चरणों में करते हैं।

शरीर को आराम की मुद्रा में लाये: सबसे पहले किसी साफ सुथरी जगह पर बैठ जाए जहां आपका शरीर पूरी तरह से आराम की मुद्रा लाते हुए पालथी मारकर बैठ जाएं। इसके बाद अपने मन में चल रहे सभी तरह के तनाव और चिंता की बातों को भूल जाएं।

अपने आस-पास की चीजों पर ध्यान लगाये: आराम की मुद्रा में आने बाद सबसे अपनी आंखों को बंद कर लें और अपने आस-पास में मौजूद उन चीजों पर ध्यान केन्द्रित करें। जो भी आपने आंखों को बंद करने से पहले देखा था उन चीजों पर ध्यान लगाने की कोशिश करें। ध्यान लगाते हुए ये सोचे कि वह वस्तु क्यों आपके साथ है और उस वस्तु का कार्य क्या है। इससे आपके भीतर लोगों और अपने कार्य के प्रति एकाग्रता की क्षमता बढ़ेगी। [ये भी पढ़ें: वो कौन सी वजहें जो रोकती हैं मेडिटेशन करने से]

लंबी-लंबी सांसे लें: ध्यान केन्द्रित करने के बाद लंबी और गहरी सांसे लें। इसके लिए अपनी नाक के एक छिद्र से गहरी सांस लें और फिर नाक के दूसरे छिद्र से इसको छोड़े। इस प्रक्रिया को कम से कम 10 से 15 मिनट के लिए करें। यह एक तरह से ब्रीदिंग एक्सरसाइज की तरह की कार्य करता है। जिसके कारण शरीर में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ता है और शरीर तरोताजा रहता है।

सांसों पर ध्यान ध्यान केन्द्रित कर कुछ अच्छा सोचे: गहरी सांसे लेने के बाद अपने मन में ध्यान लगाएं। ऐसे समय अच्छी बातों के बारे में सोचे, ऐसे में आप अपने किसी अच्छे और करीबी दोस्त के बारे में सोच सकते हैं, आपके साथ बीते दिनों क्या कुछ अच्छा हुआ इस बारे में सोच सकते हैं। इस तरह से आपके भीतर एक तरह से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा।

विपश्यना मेडिटेशन से मिलने वाले फायदें:

  • व्यक्ति में तनाव और गुस्से को कम करता है।
  • व्यक्ति का इम्यून सिस्टम दुरुस्त रखता है।
  • ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है।
  • रचनात्मकता और सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है।
  • एकाग्रता को बढ़ाता है। [ये भी पढ़ें: कई अलग अलग तरीकों से किया जा सकता है मेडिटेशन]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "