दिनभर के काम के बाद मेडिटेशन के जरिए दूर करें तनाव

Read in English
how to de stress yourself after working day with meditation

दिनभर के काम के बाद हर किसी व्यक्ति को थकान महसूस होती है। कभी कभी काम के बोझ के कारण आपको तनाव भी हो सकता है। चाहे आपको अपने जॉब से कितना ही प्यार क्यों ना हो लेकिन समय पर प्रोजेक्ट्स पूरा करने, सोशल इंट्रेक्शन, मीटिंग्स, और बॉस की उम्मीदों के चलते आपको तनाव हो सकता है। घर आने के बाद आप खुद को तनाव मुक्त और रिलैक्स करने की कोशिश करते हैं लेकिन यह इतना आसान नही होता। आपका दिमाग अभी भी उन विचारों को प्रोसेस कर रहा होता है जो काम के वक्त आपके दिमाग में होते हैं। ऐसे में आप तनाव से खुद को दूर रखने के लिए मेडिटेशन का सहारा ले सकते हैं। मेडिटेशन आपके दिमाग को शांत रखने और सकारात्मकता लाने में आपकी मदद करता है। आइए जानते हैं दिनभर के काम के बाद मेडिटेशन के जरिए कैसे दूर करें तनाव। [ये भी पढ़ें: मेडिटेशन तकनीक जिसके बारे में पुरूषों को पता होना चाहिए]

अपने लिए समय निकालें
सबसे पहली चीज जो आपको ध्यान में रखनी है वो ये कि आपको भी अपने लिए थोड़ा समय चाहिए होता है। अगर आप दिनभर में से 30 मिनट का समय अपने लिए निकालेंगे तो इसमें कोई गलत नहीं है। हर किसी को खुद को तरोजाता करने के लिए समय चाहिए होता है। अगर आपके पास समय की कमी है और आप 30 मिनट नहीं बचा पा रहे हैं तो अपने शेड्यूल को फिर से चेक करें।

तनाव से दूर रहने के लिए इन चार चरणों का पालन करें
मेडिटेशन कोई जादू नहीं है कि आप एक दिन के अंदर परिणाम पा लें। यह एक अभ्यास है जिसे लोग सालों से करते आ रहे हैं। शाम को काम के बाद थक जाने और तनाव में होने पर आप मेडिटेशन करते हैं तो आपका शरीर और दिमाग संतुलन में रहता है। [ये भी पढ़ें: फोबिया को दूर करे के लिए मेडिटेशन कैसे है लाभकारी]

पहला चरण: मेडिटेशन तकनीक चुनें
अपने अनुसार आप कोई मेडिटेशन तकनीक चुनें जैसे कंसन्ट्रेशन मेडिटेशन, माइंडफुल मेडिटेशन, विपाशना मेडिटेशन, ज़ेन मेडिटेशन आदि में से कोई तकनीक चुन सकते हैं और इसका अभ्यास करें।

दूसरा चरण: शांत जगह ढ़ूढ़ें
मेडिटेशन करते वक्त अपने विचारों पर काबू पाना काफी मुश्किल होता है। इसलिए आपका ध्यान ना भटके, इसके लिए किसी शांत जगह पर ही मेडिटेशन करें।

तीसरा चरण: ईवनिंग मेडिटेशन को आसान बनाएं
शुरुआत में मेडिटेश का अभ्यास आपके लिए थोड़ा कठिन हो सकता है लेकिन इसको आसान बनाने के लिए आप मेडिटेशन करते वक्त शांत और मन को अच्छा लगने वाला संगीत सुन सकते हैं।

चौथा चरण: अभ्यास करें
केवल प्लानिंग करके इससे पीछा ना छुड़ाएं क्योंकि हम कई बार चीजों को प्लान करके भूल जाते हैं। इसलिए काम के बाद हर शाम को 30 मिनट अपने लिए निकाल कर मेडिटेशन करें। [ये भी पढ़ें: मेडिटेशन करने से आप कैसे स्वस्थ और बेहतर इंसान बन सकते हैं]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "