बुरे वक्त में खुद को संभालने के लिए चेतना कैसे मददगार है

how mindfulness is helpful to handle yourself in bad times

जीवन में कई बार ऐसी परिस्थितियां आ जाती है कि आपके सब सही करने के बावजूद भी चीजें आपके लिए नकारात्मक होती जाती है। शारीरिक परेशानियां आपके मानसिक परेशानियों का कारण भी बन जाती है, लेकिन जब भी आप इस तरह की नकारात्मक परिस्थितियों से गुजरते हैं तो कुछ चीजों की मदद से आप इस परिस्थिति से बाहर आ सकते हैं। मानसिक स्थिति को ठीक करने के लिए चेतना यानि अपने आसपास की चीजों के बारे में जागरुक रहना और उसी में ही खुशियां ढूंढना। छोटी-छोटी चीजों में खुशियां ढूंढकर आप खुद को खुश रख सकते हैं। तो आइए जानते हैं की आप कैसे अपने दिमाग की बुरे समय में खुशियां ढूंढने में मदद कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: जानें क्या है त्राटक मेडिटेशन और इसको करने का सही तरीका]

अपने खास लोगों का सहारा लें: आपके आसपास परिवार या दफ्तर में कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनसे आपकी अच्छी दोस्ती होती है। आप इन लोगों से अपनी सारी बातें शेयर करना पसंद करते हैं। ये लोग आपके बुरे समय में आपकी काफी मदद कर सकते हैं, इसलिए जब भी आप अपने आप को असहाय और तनाव से घिरा हुआ महसूस करें। इन लोगों कि मदद जरुर लें ऐसा करने से आप राहत महसूस करते हैं।

लोगों का आभार जताएं: दूसरों को उनके अच्छे काम के लिए धन्यवाद करने से भी आपका तनाव कम हो सकता है। ये सुनने में थोड़ा अजीब लगता है लेकिन इससे दूसरों के साथ-साथ आपको भी खुशी मिलती है। इसलिए अपने दोस्तों और कुछ परिजनों के साथ आप सोशल मीडिया पर ग्रैटिट्यूड ग्रुप बना सकते हैं। सकारात्मकता की ये छोटी सी किरण आपके जीवन की नकारात्मकता को कम करने में मदद कर सकती हैं और आपको खुद महसूस होगा कि खुशियां बांटने से बढ़ती हैं। [ये भी पढ़ें: संकेत जो आपको बताते हैं कि आप सही तरीके से मेडिटेशन कर रहें हैं]

अपनी आलोचना ना करें: कभी-कभी जब व्यक्ति परेशानियों के दौर से गुजरता हैं तो वे खुद की आलोचना करने लगता हैं, ऐसा करके आप अपने लिए परेशानियां और नकारात्मकता खुद ही पैदा कर लेते हैं। खुद की तुलना करना और खुद को कम आंकना आपके लिए बुरा साबित हो सकता है और ये आपकी मानसिक स्थिति को भी खराब कर सकता है इसलिए आप खुद की आलोचना खुद करके अपने आपको नीचा ना दिखाएं।

मेडिटेशन:मेडिटेशन हमारे दिमाग के साथ सकारात्मक रिश्ता बनाने में मदद करता है और दिमाग का साथ मिलने से आपकी चेतना बढ़ती है और आप जल्द ही अपनी परेशानियों से उभर सकते हैं। 

अपने आपको प्रेरित करें: जब भी आप बुरे दौर से गुजर रहें हो तो खुद को प्रेरित करें क्योंकि सेल्फ मोटिवेशन से अच्छा कोई और तरीका नहीं हो सकता है। आप खुद को प्रेरित करने के लिए अच्छी किताबें और आशावादी वाक्य पढ़ सकते हैं। [ये भी पढ़ें: अगर आप अधिक चिंतित रहते हैं तो जरुर जानें मेडिटेशन से जुड़े कुछ राज]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "