मेडिटेशन करने से आप कैसे स्वस्थ और बेहतर इंसान बन सकते हैं

How Meditation Makes You A healthy and Nicer Person

व्यस्त जीवन, अनहेल्दी लाइफस्टाइल, काम का तनाव आदि आपको आपको धीरे-धीरे शारीरिक और मानसिक रुप से कमजोर बनाते जाते हैं। रोजाना का तनाव आपके मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालता है जिसका असर धीरे-धीरे आपके शारीरिक स्वास्थ्य पर भी दिखाई देता है। बढ़ते तनाव के कारण दिमाग में  नकारात्मक विचार आने लगते हैं। दिमाग को पर्याप्त आराम ना मिलने के कारण आपको अगले दिन काम करने की ऊर्जा नहीं मिलती है। मानसिक शांति प्राप्त करने के लिए मेडिटेशन एक बेहतर विकल्प होता है। मेडिटेशन से विचारों में सकारात्मकता आती है जिससे आप एक बेहतर इंसान बनते हैं। आइए जानते हैं कि मेडिटेशन कैसे आपको स्वस्थ और बेहतर इंसान बनाने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: बुरे वक्त में खुद को संभालने के लिए चेतना कैसे मददगार है]

1.इससे खुद पर कंट्रोल करने में मदद मिलती है: जब आपका खुद पर नियंत्रण नहीं होता तो ऐसे में लोगों का आपको गुस्सा दिलाना और बहलाना आसान हो जाता है। इस स्थिति में आप ऐसा कुछ कर बैठते हैं जो कि आपके लिए हानिकारक होता है। रोजाना मेडिटेशन करने से आपके दिमाग की शक्ति बढ़ती है जिससे आपको खुद पर कंट्रोल करने में मदद मिलती है। ऐसे में आप अपने व्यवहार को बेहतर बना पाते हैं जिससे आपको एक अच्छा इंसान बनने में मदद मिलती है।

2. रचनात्मकता को बढ़ा देता है: रोजाना एक ही तरह का काम करने के कारण आपकी रचनात्मकता कम हो जाती है क्योंकि दिमाग में नए विचार नहीं आते हैं। मेडिटेशन करने से कल्पनाशक्ति बढ़ती है और आपको रचनात्मक विचार आते हैं। रचनात्मकता से कार्यकुशलता आती है जिससे आप हर काम को शांत और बेहतर ढ़ग से कर पाने में मदद मिलती है।[ये भी पढ़ें: थर्ड आई मेडिटेशन करने के तरीके और उसके लाभ]

3..इससे नींद अच्छी आती है: मेडिटेशन दिमाग और नर्वस सिस्टम को रिलैक्स करता है जिससे आपको बेहतर महसूस होता है। मेडिटेशन करने से आपको अच्छी नींद आती है। मेडिटेशन दिमाग की एक्सरसाइज है जो कि आपको संपूर्ण रुप से स्वस्थ्य रखने में मदद करती है और पूरा दिन काम करने के लिए आपको इससे ऊर्जा मिलती है।

4.तनाव और डिप्रेशन को दूर करता है: तनाव धीरे-धीरे आप की कार्यक्षमता और व्यवहार पर बुरा असर डालता है। तनाव के कारण आप खुद पर भरोसा खो देते हैं और साथ ही सकारात्मकता और आत्म-शक्ति भी कम हो जाती है। रोजाना मेडिटेशन करने से हैप्पी हार्मोन सेरोटोनिन का स्तर बढ़ जाता है। खुश रहने वाला व्यक्ति दूसरों को भी खुश रखता है इसलिए मेडिटेशन बेहतर इंसान बनने में आपकी मदद करता है।

5. हर पल खुश रहने में मदद करता है: दिमाग और आत्मा की शांति और खुशी के लिए मेडिटेशन लाभकारी होता है। मेडिटेशन करने वाला व्यक्ति खुश रहने के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं रहता बल्कि खुद में ही खुशी ढूंढता है। जो व्यक्ति खुद खुश रहता है वह दूसरों को भी खुश रहने में मदद करता है इसलिए मेडिटेशन आपको अच्छा और खुश इंसान बनाता है। [ये भी पढ़ें: मेडिटेशन को अपनी दिनचर्या में कैसे शामिल करें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "