ऊर्जावान रहना है तो थामें मेडिटेशन का हाथ

how meditation helps you to boost your energy

मेडिटेशन एक अवस्था है जिसमें इंसान अपने मन को चेतना की एक विशेष अवस्था में लाने की कोशिश करता है। मेडिटेशन करने से मन में सकारात्मक भावनाएं आने लगती है और जिंदगी में खुशहाली भर जाती है। इसकी वजह से आपके अंदर ताकत और उर्जा भी आ जाती है और आप किसी काम को मन लगाकर करते हैं। अगर आपकी ऊर्जा आपमें संचित रहेगी तो काम में आपका मन लगेगा और बेहतर परिणाम मिलेगा। इसके अलावा भी मेडिटेशन के कई और लाभ हैं। [ये भी पढ़ें: जानें कुण्डलिनी चक्र कैसे आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं]

1.अधिक ऊर्जा खर्च होने से रोकता है:
हमारे दिमाग में हर वक्त बहुत सी बातें घूमती रहती हैं जिसकी वजह से अत्यधिक मात्रा में ऊर्जा खर्च होती है। कुछ ऐसी बातें भी होती हैं जो हमारे तनाव को बढ़ा देता है, जिसकी वजह से लोग डिप्रेशन के शिकार भी हो जाते हैं। ऐसे में मेडिटेशन करना शारीरिक और मानसिक रूप से फायदेमंद हो सकता है और हमें अत्यधिक ऊर्जा को खर्च करने से भी रोकता है। इफेक्टिव मेडिटेशन को फोकस करने के लिए एकदम सही तरीका माना जाता है। यह आपके मन और शरीर में ऊर्जा को वापस केंद्रित करता है, ताकि इसका इस्तेमाल कुशलतापूर्वक हो सके।

मेडिटेशन सकारात्मक सोच को पैदा करता है जो मानसिक ऊर्जा के जरुरी है:
जब भी कोई व्यक्ति मानसिक रूप से अस्वस्थ या किसी भी मानसिक विकार का शिकार होता है तब उसके भीतर नकारात्मक सोच पैदा होने लगती है। नकारात्मक सोच से यहां तात्पर्य है कि व्यक्ति बहुत ज्यादा उदास रहने लगता है या मानसिक रूप से थका महसूस करने लगता है। इससे निकलने के जरुरी है कि व्यक्ति के भीतर वह ऊर्जा मौजूद हो जिससे वह खुद को इस तरह की समस्या से निकल पाए। मेडिटेशन व्यक्ति एक भीतर एकाग्रता को बढ़ाता है। साथ-साथ यह व्यक्ति के आत्मबल को भी बढ़ाने का काम करता है, जिसके कारण व्यक्ति के भीतर ऊर्जा का बना रहता है और नकारात्मक भाव नहीं आते हैं। [Also Read: स्कूली छात्रों के लिए कैसे है मेडिटेशन प्रभावी]

2.स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करना:
थकान की वजह से हमें कई बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है, जिसमें डायबिटीज़, हृदय रोग, गठिया, एनीमिया, थायरॉइड रोग और स्लीप एपनिया शामिल होते हैं। अगर आपको असामान्य रूप से थका हुआ महसूस होने लगता है तो आप अपने डॉक्टर से ज़रूर बात करें। कई दवाओं की वजह से भी आपको थकान महसूस हो सकती है। लेकिन अगर आप नियमित रूप से मेडिटेशन करते हैं तो आपको थकान कम होती है जिससे आप इन समस्याओं से बच सकते हैं।

3.मेडिटेशन सेरोटोनीन के लेवल को बढ़ाता है:
जब हम विचारों और तनाव की भावनाओं से जूझ रहे होते हैं तो हमारा शरीर कई चीज़ों को सुधारने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे में आपको पूरी नींद प्राप्त करने कि आवश्यकता होती है। मेडिटेशन करने से आपके सेरोटोनीन(एक ऐसा न्यूरोमिटर जो आपके मूड और व्यवहार को नियंत्रित करता है) की मात्रा बढ़ जाती है जो आपके अंदर कि उर्जा को बढ़ाने में आपकी मदद करता है। ज़्यादातर लोग सेरोटोनीन के कम होने से डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं। मेडिटेशन से तनाव के लिए जिम्मेदार दिमाग के एमिग्डला और राइट प्रीफ्रंटल कोर्टेक्स की कार्यक्षमता कम हो जाती है जिस से तनाव कम होता है।

4.शारीरिक रूप से सक्रिय रहते हैं: बहुत बार ऐसा होता है कि एक्सरसाइज़ करने कि वजह से हमें थकान महसूस होने लगती है पर शोध में ऐसा माना गया है कि एक्सरसाइज़ हमारे शरीर कि ऊर्जा को बढ़ाता है। जो इंसान शारीरिक रूप से सक्रिय होते हैं उनके अंदर आत्मविश्वास आ जाती है। एक्सरसाइज़ आपके हृदय, फेफड़ों और मांसपेशियों की कार्यकुशलता में भी सुधार लाता है।

5.अच्छी नींद मिलती हैं:
how meditation helps you to boost your energyमेडिटेशन करने से हमें अच्छी नींद आती है और अगर हम नींद पूरी लेते हैं तो हमारा शरीर कई बीमारियों से बच जाता है, जिससे हमारे शरीर कि अधिक ऊर्जा खत्म नहीं होती है।[ये भी पढ़ें: मेडिटेशन कैसे आपकी चेतना को करता है प्रभावित]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "