बेहतर इम्यून सिस्टम के लिए मेडिटेशन क्यों है जरुरी

How Meditation Helps to boost your Immune System

Photo Credit: wccftech.com

आपका इम्यून सिस्टम मन और शरीर को जोड़ने वाले सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। इम्यून सेल्स की क्षमता और कार्य करने को लंबे समय से केवल फिजिकल फंक्शन माना जाता रहा है। हालांकि शोध बताते हैं हमारे शरीर की इम्यून सेल्स मस्तिष्क द्वारा पूरे शरीर में भेजे गए रासायनिक संदेशों में भाग लेती हैं जिससे हमारे विचार, मूड, उत्तेजना, और उम्मीदों का प्रभाव इम्यून सिस्टम पर भी पड़ता हैं। जब आप मेडिटेशन करते हैं तो इन संदेशों में महत्वपूर्ण बदलाव होते हैं। मेडिटेशन करना आपके संपूर्ण शारीरिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। अगर आप नियमित रुप से मेडिटेशन करते हैं तो इसका सकारात्मक प्रभाव आपके इम्यून सिस्टम पर भी होता है। आइए जानते हैं कि बेहतर इम्यून सिस्टम के लिए मेडिटेशन क्यों जरुरी है। [ये भी पढ़ें: जानें क्या है विपश्यना मेडिटेशन तकनीक और इससे होने वाले फायदे]

मेडिटेशन इम्यून सिस्टम को कैसे बेहतर करता है: मेडिटेशन केवल साइकोलॉजिकल लाभों तक सीमित नहीं है। बल्कि मेडिटेशन करने से मन और शरीर को एक प्राकृतिक संतुलन स्थिति में लाया जा सकता है। इस नियमित अभ्यास से संभावित बीमारियों और संक्रमण के खिलाफ आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया में सुधार आता है।

मेडिटेशन रिस्टोरेटिव एक्टिविटी को बढ़ाता है: मेडिटेशन रिस्टोरेटिव एक्टिविटी (पुनर्जीवित गतिविधियों) को बढ़ाने में मदद करता है। ये एक्टिविटी हमारे इम्यून सिस्टम को राहत प्रदान कर सकती हैं क्योंकि ये शरीर को रोज़मर्रा के तनाव से आसानी से निपटने में मदद करती हैं। [ये भी पढ़ें: मेडिटेशन करने का सबसे आसान और सबसे छोटा तरीका]

मेडिटेशन टेलोमिरेज एक्टिविटी को बढ़ाता है: मेडिटेशन करने से हमारे शरीर की टेलोमिरेज एक्टिविटी में भी बढ़ोतरी होती है। टेलोमिरेज एक एंजाइम है जो कि टेलोमेयर्स बनाता है। टेलोमेयर्स क्रोमोजोम्स के सिरों पर होते हैं, जो कि क्रोमोजोम्स को क्षति पहुंचने से बचाते हैं। टेलोमेयर्स प्राकृतिक रूप से छोटे हो जाते हैं और इसके कारण आपका शरीर कई बीमारियों से ग्रस्त हो सकता है। इसलिए इनकी लंबाई बढ़ने से आप स्वस्थ रहते हैं।

मेडिटेशन करते वक्त किन बातों का ध्यान रखें: प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर और मजबूत बनाने के लिए जरुरी है कि आप नियमित और उचित रुप से मेडिटेशन करें। मेडिटेशन के लाभ इसके अभ्यास करने के नियम पर आधारित होते हैं। अगर आपका मेडिटेशन करने का तरीका गलत है तो आप इसके लाभों का नहीं अनुभव कर पाएंगे। मेडिटेशन करते वक्त निम्न बातों का ध्यान रखें।

  • मेडिटेशन नियमित रुप से सुबह और शाम को करें।
  • तनाव से बचें और इसे कम करें क्योंकि तनाव के हार्मोन का स्तर बढ़ जाने के बाद प्रतिरक्षा प्रणाली आसानी से प्रभावित हो जाती है।
  • घर या वर्कप्लेस पर होने वाले क्रोनिक स्ट्रेस के निम्न स्तर पर भी ध्यान देने की जरुरत होती है क्योंकि तनाव आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता पर बुरा असर डालता है।
  • पर्याप्त नींद लें क्योंकि यह मस्तिष्क के कार्यों और हार्मोन के स्तर से जुड़ी है। [ये भी पढ़ें: इन फायदों के लिए करें रोजाना मेडिटेशन]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "