मेडिटेशन के दौरान गहरी सांस लेना क्यों है लाभकारी

Health benefits of deep breathing during Meditation

हम हर रोज सांस लेते हैं, अपनी जिंदगी के हर क्षण, हर पल में। सांसों के बिना जीवन नामुमकिन है। हम में से अधिकतर लोग सामान्य रुप से सांसे लेते हैं। जबकि हमें जानकारी भी नहीं होती है कि सांस लेने के अलग तरीके हैं जैसे गहरी सांस लेना और इनके कई फायदे भी हैं। मेडिटेशन करते वक्त जब हम गहरी सांस लेते हैं तो इससे हमारा स्वास्थ्य बेहतर होता है। अगर आप नियमित रुप से मेडिटेशन करते हैं तो इस दौरान आपको गहरी सांस लेने का अभ्यास करना उचित होता है। ऐसा करने से आपको लंबे समय तक स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। आइए जानते हैं कि गहरी सांस लेने से आपको क्या स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। [ये भी पढ़ें: होंग-सौ तकनीक क्या है और ये मेडिटेशन को किस तरह बेहतर बनाती है]

बेहतर ऑक्सीजन सप्लाई: हमारे शरीर की हर कोशिका को काम करने के लिए ऑक्सीजन की जरुरत होती है। हमारे शरीर के जरुरी सेल्युलर प्रोसेस के लिए भी ऑक्सीजन की जरुरत होती है। जब आप गहरी सांस लेते हैं तो कोशिकाओं तक ऑक्सीजन की सप्लाई अच्छे से हो पाती है।

तंत्रिकाओं को आराम मिलता है: गहरी सांस लेने से हमारी नर्व्स यानि तंत्रिकाओं को आराम मिलता है। गहरी सांस लेने से हमारे नर्वस सिस्टम के अधिकतर हिस्सों में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती हैं। इसके अलावा गहरी सांस लेने से दिमाग में न्यूरोकेमिकल रिलीज होते हैं जिससे आपका मूड बेहतर होता है। [ये भी पढ़ें: कई अलग अलग तरीकों से किया जा सकता है मेडिटेशन]

मसल्स को रिलैक्स करती है: अगर आपका दिन तनाव भरा रहा है तो आपके लिए सलाह होगी कि आप डीप ब्रीथिंग प्रैक्टिस करें। गहरी सांस लेने से जब नर्व्स को आराम पहुंचता है तो इससे मसल्स को रिलैक्सेशन मिलता है। इसके अलावा मांसपेशियों की जकड़न से राहत मिलती है।

ब्लड प्रेशर कम होता है: गहरी सांस लेने से शरीर की मसल्स के साथ-साथ धमनियों या नसों को शांत किया जा सकता है। धमनियों के जरिए हमारे शरीर में रक्त का प्रवाह होता है। धमनियों के रिलैक्स होने से शरीर में ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है।

मेडिटेशन की शक्ति को बढ़ाता है: मेडिटेशन करने का मुख्य लक्ष्य होता है कि यह आपके शरीर को स्वस्थ और दिमाग को शांत रखता है। अगर आप मेडिटेशन के दौरान गहरी सांस लेने का अभ्यास नहीं करते हैं तो आप इसके लक्ष्य को नहीं हासिल कर पाते हैं। मेडिटेशन के दौरान गहरी सांस लेने से इसकी शक्ति को बढ़ाया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए सांसों से संबंधित एक्सरसाइज क्यों है फायदेमंद]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "