Finding Happiness: आखिर क्यों खुशी पाना राह है, मंजिल नहीं

Read in English

Finding happiness: खुशी को अपनी मंजिल ना बनाते हुए अपनी राह बनाएं।

हर कोई व्यक्ति चाहता है कि उसका जीवन खुशियों से भरा रहे। ताकि वह हमेशा खुश रह सकें। हर किसी के लिए खुशी का मतलब अलग होता है। कुछ लोगों के लिए खुशी का मतलब पैसा होता है तो कुछ लोग अपने भविष्य को पाने में खुश रहते हैं तो कुछ लोगों की खुशी छोटी-छोटी चीजों में ही होती है। उन्हें जीवन में कोई बड़ी चीज नहीं चाहिए होती है। कुछ लोग सोचते हैं कि खुशी पाना ही उनकी मंजिल है। मगर सच तो यह है कि इंसान कभी भी उस चीज से खुश नहीं होता है जो उनके पास पहले हो होता है। इसलिए हमेशा याद रखें कि खुशी आपकी मंजिल नहीं हो सकती है। यह एक राह है जिसपर चलकर आप अपनी खुशियां चुन सकते हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि खुशी पाना क्यों मंजिल नहीं राह है। [ये भी पढ़ें: Finding happiness: आपकी खुशी हमेशा आज में क्यों होती है]

Finding Happiness: कारण कि खुशी पाना राह है मंजिल नहीं

आपके लक्ष्य बदलते रहते हैं
आप छोटे-छोटे पलों पर ध्यान नहीं देते हैं
यह राह चलती रहती है
मंजिल भविष्य है और राह पर आप चल रहे हैं

आपके लक्ष्य बदलते रहते हैं:

Your goals keep changing
Finding Happiness: मंजिल पाने के चक्कर में खुश रहना ना भूलें।

अगर आप सोचते हैं कि आपकी खुशी मंजिल पर है तो आप इस बात को भूल जाते हैं कि लक्ष्य समय-समय पर बदलते रहते हैं। जैसे अगर आप चाहते हैं कि आपको ज्यादा सैलेरी मिले और उसे पा लेते हैं तो उसके बाद आपका लक्ष्य बदल जाता है। तो आप अपनी खुशी को ढूंढ नहीं पाते हैं।

आप छोटे-छोटे पलों पर ध्यान नहीं देते हैं: असली खुशी आपको छोटी-छोटी चीजों में ही मिलती है। अगर आप खुशी को ही मंजिल मान बैठते हैं तो उस राह पर चलते हुए खुश रहना भूल जाते हैं। हमेशा याद रखें यह छोटे-छोटे पल ही आपको खुश रखने में मदद करते हैं।

यह राह चलती रहती है: जरुरी नहीं है कि आप अपनी मंजिल पा ही पाएं। इसलिए अपनी खुशी की राह पर फोकस करें ताकि आप हमेशा खुश रह सकें। आप ही हैं जो अपने जीवन को खुशनुमा बना सकते हैं।

मंजिल भविष्य है और राह पर आप चल रहे हैं: अगर आपको लगता है कि आप मंजिल पर पहुंचकर खुशी पा लेगें तो आप अपनी खुशियों को खुद से दूर कर रहे होते हैं। अगर आपकी राह में खुशियां होती हैं तो आपके जीवन में भी खुशियां रहती हैं। तो अपनी खुशी को मंजिल ना मानकर उसे राह बनाएं।

[जरुर पढ़ें: Happiness: संतुष्ट रहने से कैसे खुशी मिलती है]

खुशी को कल पर टालकर आप अपने जीवन से खुशियों को दूर कर देते हैं। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English) में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "