Comfort zone: अपने कम्फर्ट जोन से कैसे बाहर आएं

Read in English
step out of comfort zone

Comfort zone: कुछ तरीकों को अपनाकर कम्फर्ट जोन से बाहर आया जा सकता है।

जीवन में लोग हर चीज को जल्दी पाने की कोशिश में लगे रहते हैं। जिसकी वजह से हर कोई किसी ना किसी काम में व्यस्त रहता है। जिसकी वजह से वह एक ही रुटीन में फंसकर रह जाते हैं। लंबे समय से एक ही रुटीन को फॉलो करते-करते यह उनका कम्फर्ट जोन बन जाता है। हमारा कम्फर्ट जोन हमे बदलाव के डर से बांधकर रखता है। बदलाव के डर की वजह से हम जीवन में खुशियों से दूर रहते हैं। खुशियां तभी आती हैं जब आप अपने कम्फर्ट डोन से बाहर आकर कुछ करने की कोशिश करते हैं। डर और असुरक्षा की भावना जीवन में बदलाव और कुछ नया सोचने से रोकते हैं। इससे बाहर आकर खुशियां ढूंढने से लोग बहुत डरते हैं। इसलिए वह कभी इससे बाहर ही नहीं आना चाहते हैं। कुछ तरीकों की मदद से आप अपने कम्फर्ट जोन से बाहर आ सकते हैं। तो आइए आपको इन तरीकों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: Happiness: संतुष्ट रहने से कैसे खुशी मिलती है]

Comfort zone: कम्फर्ट जोन से बाहर आने के स्टेप

खुशी का मतलब समझें
आप खुश रहने के हकदार हैं
खुशी को प्राथमिकता दें
बदलाव के लिए तैयार हो
खुद में विश्वास करें

खुशी का मतलब समझें:

way to step out of comfort zone
out of Comfort zone: कम्फर्ट जोन से बाहर आने के लिए खुशी का मतलब समझें।

हर किसी के लिए खुशी का मतलब अलग होता है। अपने कम्फर्ट जोन से बाहर आने के लिए सबसे पहले आपको अपनी खुशी का जरिया ढूंढना होता है। जैसे: आप को बिजनेस करते हैं लेकिन आपको गाना गाने से खुशी मिलती है। तो आपको अपनी खुशी के बारे में पता चलता है। इसलिए अपनी खुशी का मतलब समझें।

आप खुश रहने के हकदार हैं: कम्फर्ट जोन आपके जीवन को बांधकर रखता है कि आप इसी जीवन के हकदार हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लोग जीवन में बदलाव से डरते हैं। हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप हर खुशी के हकदार हैं। [ये भी पढ़ें: एटीट्यूड में क्या बदलाव करके आप खुश रह सकते हैं]

खुशी को प्राथमिकता दें:

give yourself priority
Comfort zone: खुश रहने के लिए खुद को प्राथमिकता देना जरुरी है।

अपनी खुशी को अपनी प्राथमिकता बनाना जरुरी होता है। इसका मतलब स्वार्थी होने से नहीं हो यह अपनी खुशी के महत्व को समझने के लिए जरुरी होता है। अपने कम्फर्ट जोन से बाहर आने के लिए खुशी की कद्र करें।

बदलाव के लिए तैयार हो:कम्फर्ट जोन से बाहर आना किसी चुनौती से कम नहीं होता है। इसलिए खुद को इससे बाहर लाने के लिए तैयार करें। इसमें सबसे ज्यादा ध्यान इस बात का रखना चाहिए कि आप अपनी खुशी के लिए इससे बाहर आ रहे हैं। [ये भी पढ़ें: जीवन में अच्छे बदलाव लाने के लिए चीजों को बेहतर तरीके से कैसे करें]

खुद में विश्वास करें: कम्फर्ट जोन से बाहर आने के लिए खुद में भरोसा होना सबसे जरुरी होता है। जब आप अपनी क्षमताओं पर भरोसा करते हैं तो इससे बाहर आने में मदद मिलती है।

[जरुर पढ़ें: जानिए खुश रहने से आपका स्वास्थ्य कैसे प्रभावित होता है]

कम्फर्ट जोन से बाहर आना आसान नहीं होता है। लेकिन कुछ तरीकों की मदद से इससे बाहर आया जा सकता है। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English) में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "