डिप्रेशन को दूर करना है तो पहले अपने घर को बदलें

Read in English
Simple Changes To Your Home That Fight Depression

अगर कोई व्यक्ति एक बार डिप्रेशन का शिकार हो जाता है तो इससे आसानी से निकल पाना संभव नहीं होता। थेरेपी, मेडिटेशन, दवाईयां,  परिजनों और दोस्तों की मदद आदि कई चीजें होती हैं जिससे डिप्रेशन को कम करने में मदद मिल सकती है। अपनी जीवनशैली और अपने आसपास की कुछ चीजों में बदलाव करके भी आप अपने डिप्रेशन से उबरने में खुद की मदद कर सकते हैं। आसपास का वातावरण भी डिप्रेशन को कम करने और बढ़ाने में सहायक होता है इसलिए अपने घर के वातावरण में आप अच्छे परिवर्तन करके डिप्रेशन की समस्या में राहत पा सकते हैं। आइए जानते हैं क्या बदलाव करनाबेहतर है। [ ये भी पढ़ें: क्या एक व्यक्ति से दूसरे को हो सकती है डिप्रेशन की समस्या और इससे कैसे बचें]

1.घर में पौधे लगाना: प्रकृति के साथ समय बिताना आपके मानसितक स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। एक अध्ययन के अनुसार पेड़-पौधे और हरियाली के संपर्क में रहने से आपका तनाव कम होता है साथ ही यह ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित करता है। इसलिए घर में पेड़-पौधे लगाने से आपको डिप्रेशन कम करने में मदद मिलती है। इसलिए घर में खूबसूरत पौधे लगाएं।

2. दीवारों पर लगाएं पेंटिग: प्रकृति का संपर्क आपके मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है लेकिन अगर आप प्रकृति के संपर्क में लगातार बने रहना चाहते हैं तो अपने घर के अंदर आप खूबसूरत पेंटिंग्स लगा सकते हैं। ये खूबसूरत पेंटिंग प्रकृति से जुड़ी हुई होनी चाहिए जो आपके डिप्रेशन को कम करने में मदद करती हैं लेकिन कोशिश करें कि आप जिस वातावरण में रह रहें है उसी के अनुरुप पेंटिग लगाएं यानि अगर आप पहाड़ों पर रहते हैं तो समुद्र के किनारे की पेटिंग लगाने की बजाय पहाड़ों और झरनों की पेंटिंग या फोटो घर में लगा सकते हैं। [ ये भी पढ़ेंडिप्रेशन के कारण आपको हो सकती है ये गंभीर बीमारियां]

3. लाल और नारंगी रंग देखना:

Simple Changes To Your Home That Fight Depressionवार्म कलर्स आपकी खुशी को बढ़ाते हैं और आपको आशावादी बनाते हैं। रंगों का जीवन में काफी महत्व होता है वे आपके मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रकार का प्रभाव डालते हैं। जरुरी है ये जानना कि आप पर किस रंग का सकारात्मक प्रभाव होता है। अपने घर की दीवारों को नारंगी और लाल रंग से रंगने से आपको डिप्रेशन को कम करने में मदद मिलती है। नारंगी रंग आपको तरोताजा बनाता है और आपके अंदर सकारात्मक, रचनात्मकता और सामाजिकता की भावना लाता है। लाल और नारंगी रंग का संबंध खुशी से होता है। इसलिए आप अपने घर की दीवारों को ऐसे रंग से रंग सकते हैं जिससे आपकी खुशी बढ़ती हो ।

4. अलग-अलग चमकीले रंगों को घर में लाएं:
अपने दीवारों का रंग बदलने के साथ-साथ आप अपने फर्नीचर, मेज-कुर्सी, तकिए, और घर के सारे साजो-सामान को खूबसूरत और रंग-बिरंगे रंगों मे रंगे। घर को डिजाइन करते समय कोशिश करें कि आपके बेडरुम की खिड़की से आपको खूबसूरत प्राकृतिक नजारा दिखे जिससे आपका तनाव कम होता है और डिप्रेशन को कम करने में मदद मिलती है।

5. लाइट बॉक्स का इस्तेमाल करें: प्राकृतिक रोशनी में रहना सभी के लिए महत्वपूर्ण होता है। सूरज की किरणें आपके अंगर नई उमंग भरती हैं। जो लोग सीजनल इफेक्टिव डिसऑर्डर से परेशान होते हैं यह उनके लिए सबसे ज्यादा जरुरी होती है। यह डिप्रेशन अक्सर सर्दियों में लोगों को होता है। ऐसे में लाइट बॉक्स आपकी मदद कर सकते हैं। ये पर्याप्त रोशनी देकर रोशनी की कमी महसूस नहीं होने देते। इन्हें आप बेडरुम या किचन कहीं भी रख सकते हैं। ये लाइट बॉक्स सूरज जैसी रोशनी तो देते ही है साथ ही इनमें से हानिकारक यूवी किरणें भी नहीं मिलती जिससे दिनभर में 30 मिनट ही इस रोशनी में रहना फायदेमंद होता है। [ये भी पढ़ें: सीजनल डिप्रेशन को कम करने के तरीके]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "