Depression Treatment: साइकोथेरेपी के प्रकार जिनसे डिप्रेशन को दूर किया जा सकता है

Read in English
Psychotherapy for depression

डिप्रेशन आपके मानसिक स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित करता है।

Depression Treatment: साइकोथेरेपी उस व्यक्ति के लिए सबसे अच्छा मानसिक उपचार है, जो डिप्रेशन से पीड़ित है। इस तरह की थेरेपी के दौरान, पीड़ित व्यक्ति और थेरेपिस्ट के बीच बातचीत होती है। थेरेपी के दौरान मरीज आमतौर पर अपनी भावनात्मक समस्याओं और व्यक्तिगत परेशानियों के बारे में बात करता है। इसके जरिए पीड़ित व्यक्ति को अपनी उन भावनाओं को साझा कर पाता है जो उसे लंबे समय से परेशान कर रही हैं। हालांकि डिप्रेशन के इलाज के लिए दवाएं मौजूद हैं लेकिन डिप्रेशन को प्राकृतिक तरीके से दूर करना एक बेहतर विकल्प है। ऐसी कई थेरेपी हैं जो एक व्यक्ति को डिप्रेशन जैसी मानसिक समस्या से निपटने में मदद करती हैं। आइए जानते हैं साइकोथेरेपी के प्रकार जिनसे डिप्रेशन को दूर किया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: डिप्रेशन के कारण कैसे आपकी याददाश्त प्रभावित होती है]

डिप्रेशन को दूर करने के लिये साइकोथेरेपी:

  • कॉग्निटिव थेरेपी
  • बिहेवियरल थेरेपी
  • कॉग्निटिव-बिहेवियरल थेरेपी
  • इंटरपर्सनल थेरेपी
  • डायलेक्टिकल बिहेवियरल थेरेपी

कॉग्निटिव थेरेपी
कॉगनिटिव थेरेपी जरिए थेरेपिस्ट डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति को सकारात्मक चीजों के बारे में सोचने के लिए प्रेरित करता है। यह थेरेपी व्यक्ति को हर चीज और हर स्थिति के सकारात्मक और अच्छे पहलू पर विचार करने और बुरे पहलू को नजरअंदाज करने में भी मदद करता है। इसके अलावा डिप्रेशन के लिए नॉन-ड्रग थेरेपी भी कारगर है। इनके बारे में जानने के लिए क्लिक करें।

बिहेवियरल थेरेपी
बिहेवियरल थेरेपी के दौरान थेरेपिस्ट डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति के उन व्यवहारों को कम करता है जो उनकी डिप्रेशन की समस्या को बढ़ा रहे हैं। इस थेरेपी के जरिए व्यक्ति को वापस अच्छे मूड में लाने की कोशिश की जाती है। यह थेरेपी क्लासिकल और ओपरेंट कंडीशनिंग के सिद्धांत पर कार्य करती हैं।

कॉग्निटिव-बिहेवियरल थेरेपी
इस थेरेपी में ऊपर दी गई दोनों थेरेपी को समायोजित करके पीड़ित व्यक्ति को राहत देने की कोशिश की जाती है। इस थेरेपी के जरिए डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति को जीवन के प्रति आशावादी दृष्टिकोण बनाने के लिए प्रेरित किया जाता है। इसके अलावा व्यक्ति के व्यवहार पर भी गौर किया जाता है।

इंटरपर्सनल थेरेपी
इस थेरेपी व्यक्ति के व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन को ध्यान में रख कर काम करती है। इस थेरेपी के दौरान थेरेपिस्ट व्यक्ति से सोशल इंट्रेक्शन करता है और समस्या पैदा कर रहे मुद्दों को तलाशने की कोशिश करता है। इस दौरान पीड़ित व्यक्ति उन सामाजिक चीजों के बारे में बात करता है जो उसे परेशान कर रही हैं।

डायलेक्टिकल बिहेवियरल थेरेपी
इस थेरेपी में, डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति को यह समझाने की कोशिश की जाती है कि तनाव मुक्त रहना और भावनाओं पर काबू पाना कितना महत्वपूर्ण है। यह थेरेपी एक रोगी को अच्छे जीवन के लिए प्रेरित करने के बहुत ही प्रभावी है। [ये भी पढ़ें: डिप्रेशन के कारण कैसे आपकी याददाश्त प्रभावित होती है]

डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति को राहत देने और वापस साामान्य जीवन जीने में मदद करने के लिए ये थेरेपी लाभकारी है। इस आर्टिकल को इंग्लिश में पढ़ने के लिए क्लिक करें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "