बुजुर्गों में होने वाले डिप्रेशन के लक्षण और कारण

Read in English
depression problem in elderly people

बुजुर्गों में होने वाला डिप्रेशन(अवसाद) वयस्कों में होने वाले डिप्रेशन से काफी अलग होता है। आमतौर पर बुजुर्गों में क्लीनिकल डिप्रेशन होता है। डिप्रेशन बुजुर्गों को कई तरह से प्रभावित कर सकता है। डब्लूएचओ के मुताबिक 2004 में 60 साल के उम्र के व्यक्तियों में डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्तियों की संख्या विकसित और विकासशील देशों में क्रमशः 0.5 मिलियन और 4.8 मिलियन थी। [ये भी पढ़ें: इन तरीकों को अपनाकर पायें डिप्रेशन से छुटकारा]

बुजुर्गों में होने वाले डिप्रेशन(अवसाद) के लक्षण:
बुजुर्गों में डिप्रेशन के निम्नलिखित लक्षण दिखाई होते हैं जिनका पता होना आवश्यक होता है।

  • निराश होना या निराशा की भावनाएं उत्पन्न होना।
  • शरीर के कई हिस्सों में तेज दर्द होना।
  • वजन घटने लगना या भूख कम लगना।
  • असहाय होने की भावनाएं उत्पन्न हो जाना।
  • प्रेरणा और ऊर्जा का अभाव होना।
  • अच्छी तरह नींद ना आना या सोते वक्त घबराहट महसूस करना।
  • खुद को कम आंकना(खुद को बोझ समझना, खुद से घृणा का भाव होना, अपने आप को बेकार समझना) जैसी भावनाएं आना।
  • शराब या अन्य दवाओं के उपयोग में वृद्धि आ जाना।
  • आत्महत्या करने का विचार आना।
  • याददाश्त कमज़ोर हो जाना, धीमी गति हो जाना और अत्यधिक भाषण देना।
  • व्यक्तिगत देखभाल को अनदेखा करना(भोजन छोड़ना, ध्यान भूलना, निजी स्वच्छता की उपेक्षा करना)।

मेडिकल कंडीशन बुजुर्गों में डिप्रेशन पैदा कर सकती हैं:
बुजुर्ग मेडिकल कंडीशन की वजह से भी डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं, चाहे वह किसी साइकोलॉजिकल बीमारी की वजह से हो या किसी दवा के सेवन करने कि वजह से हो। कोई भी पुरानी मेडिकल कंडीशन डिप्रेशन का कारण हो सकती है या डिप्रेशन के लक्षण को और भी बदतर बना सकती है। [ये भी पढ़ें: बुजुर्गों में होने वाले डिप्रेशन के लक्षण और कारण]

बुजुर्गों में डिप्रेशन के अन्य कारण:
स्ट्रोक, हाइपरटेंशन, आट्रियल फैब्रिलेशन, डायबीटिज़, कैंसर, डिमेंशिया और क्रोनिक दर्द जैसे फिज़िकल कंडीशन से डिप्रेशन का खतरा बढ़ जाता है। इसके अतिरिक्त डिप्रेशन के लिए निम्नलिखित रिस्क फैक्टर अक्सर बुजुर्गों में देखा जाता है।

  • कई दवाइयों का सेवन करने से।
  • शरीर की छवि का नुकसान होना (ऐम्पयूटेशन, कैंसर सर्जरी या दिल का दौरा पड़ने से)
  • पारिवारिक इतिहास में किसी को डिप्रेशन हो तो उसके कारण।
  • मौत का भय होना।
  • अकेले रहना और सामाज से खुद को पूरी तरह अलग महसूस करना।
  • क्रोनिक या गंभीर दर्द होना।
  • किसी अपने के प्यार में कमी आ जाना।
  • मादक द्रव्यों का सेवन करने से।

बुजुर्गों में डिप्रेशन का उपचार:
डिप्रेशन के लिए बहुत तरह के ट्रीटमेंट होते हैं, जिसमें दवाइयां, साइकोथेरेपी, काउंसलिंग, एलेक्ट्रोकॉनवल्सिव थेरेपी और ब्रेन स्टीमुलेशन शामिल होते हैं। डॉक्टर इन सब के इस्तेमाल से बुजुर्गों के डिप्रेशन को ठीक करने का प्रयास करते हैं। [ये भी पढ़ें: खोये आत्मविश्वास को फिर से जगाएं, डिप्रेशन से ना घबराएं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "