व्यवहार जो बताते हैं कि आप डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं

Behavior which show that you are a victim of Depression

डिप्रेशन एक मानसिक समस्या है जिसकी वजह से आपके सोच और व्यवहार में बदलाव आने लगता है। अपनी दैनिक दिनचर्या और अपने आसपास की कुछ चीजों में बदलाव लाकर आप खुद को डिप्रेशन से बाहर निकलने में मदद कर सकते हैं। डिप्रेशन की वजह से व्यक्ति अपने जीवन में कोई नई चीजें नहीं कर पाता है और उनकी जिंदगी धीमी हो जाती है। इससे ग्रसित व्यक्ति को कुछ चीजें करनी चाहिए और कुछ चीजों को करने से बचना चाहिए, ताकि वो इस समस्या से जल्दी बाहर निकल पाए। डिप्रेशन होने की वजह से लोग अपने जीवन बोझ समझने लगते हैं और खुद को सबसे छुपाने लगते हैं। ऐसे में डिप्रेशन से ग्रसित लोगों को भावनात्मक सपोर्ट की जरुरत होती है। डिप्रेशन से ग्रसित लोग कई बार अपनी समस्या को नहीं समझ पाते हैं। आइए जानते हैं वो कौन से व्यवहार हैं जो बताते हैं कि आप डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं। [ये भी पढ़ें: पुरानी यादों को भुलाकर डिप्रेशन से कैसे बाहर आएं]

दुखी और खालीपन महसूस करना:
डिप्रेशन से ग्रसित लोग हमेशा दुखी रहते हैं और खुद को अकेला महसूस करते हैं। इसके अलावा उन्हें हमेशा अपनी जिंदगी में किसी ना किसी चीज का खालीपन लगता है और इस वजह से वो खुश नहीं हो पाते हैं।

गुस्सा और चिड़चिड़ापन होना:
जो लोग डिप्रेशन से ग्रसित होते हैं उन्हें हर छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा आ जाता है और वो अपना गुस्सा हमेशा दूसरों पर निकाल देते हैं। इसके साथ-साथ उन्हें किसी बात पर आसानी से चिड़चिड़ापन महसूस होने लगता है। [ये भी पढ़ें: डिप्रेशन के दौरान क्या नहीं करना चाहिए]

चीजों में कम रूची लेना:
डिप्रेशन से ग्रसित लोगों को किसी भी चीज में कोई रूची नहीं होती है। बल्कि अगर आप उन्हें इस बात का एहसास भी दिलाएंगें तो वो ध्यान नहीं देंगे। लोगों के साथ रहने में भी उन्हें कोई रूची नहीं होगी।

शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाना:
शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाना या फिर तुरंत थकान महसूस होने लगना भी डिप्रेशन के लक्षणों में से एक है। किसी छोटी सी चीज को करने के बाद भी थकान महसूस होने लगेगा।

खान-पान में बदलाव आना:
जो लोग डिप्रेशन से ग्रसित होते हैं उनके खान-पान में बदलाव आ जाता है। अचानक से वो जरूरत से ज्यादा खाने लगते हैं जिस वजह से उनका वजन भी बढ़ने लगता है। कुछ लोग कम खाने लगते हैं जिसकी वजह से उन्हें कमजोरी महसूस होने लगती है। [ये भी पढ़ें: क्या होता है हिस्टीरिया, लक्षण और निदान के उपाय]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "