जानिए पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज(श्रोणी में सूजन की बीमारी) के बारे में

know about the pelvic disease

photo credit- solvingtheibspuzzle.com

श्रोणि में होने वाले सूजन की बीमारी को संक्षिप्त रूप में पी.आई.डी (पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज) कहते हैं। यह बीमारी महिलाओं के जननांग में होने वाला एक इन्फेक्शन है। यह यौन संचारित रोगों के अंतर्गत आने वाली बीमारियों में एक सबसे खतरनाक बीमारी है। कभी-कभी यह गर्भाशय, अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब के साथ जननांगों के अन्य भागों में अपरिवर्तनीय क्षति का कारण बन जाता है। दक्षिण भारत, मुंबई और कलकत्ता के इलाकों में किये गये एक सर्वे के अनुसार क्रमशः 5.2%, 16.5% और 17.2% महिलाओं में यह समस्या देखने को मिलती है। इस तरह की बीमारी होने के पीछे बहुत से कारण होते है जिसके बारें में हम विस्तार से जानने की कोशिश करते है। [ये भी पढ़ें: यौन संचारित रोगों से जुड़े जानने योग्य बातें]

पेल्विक में सूजन की बीमारी का कारण: सामान्य तौर पर गर्भाशय ग्रीवा बैक्टीरिया को योनि में प्रवेश करने से रोकता है लेकिन गर्भाशय ग्रीवा में गोनोरिया और क्लेमाइडिया जैसी यौन संचारित रोग होने के कारण यह आन्तरिक प्रजनन अंगों को संक्रमित होने से नहीं रोक पाता है। यह एक बैक्टीरियल इन्फेक्शन होता है जो कि योनि के माध्यम से प्रजनन अंग में फैलता है। इसका एक कारण है गोनोरिया और क्लेमाइडिया का सही से इलाज न करवाने पर इसके होने की 90% संभावना होती है। इसके साथ गर्भपात करवाना, एक से ज्यादा व्यक्ति के साथ सेक्स सम्बन्ध स्थापित करना, बिना कंडोम के सेक्स करने से, 25 वर्ष या उससे कम उम्र में सेक्स करने से भी यह बीमारी होने की आशंका होती है।

श्रोणि(पेल्विक) में सूजन की बीमारी के लक्षण:
know about the pelvic inflammatory disease

  • हल्का पेट दर्द या पेट के निचले हिस्से या पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द होना।
  • योनि में असामान्य पीले या हरे रंग स्राव होना और असामान्य गंध आना है।
  • पेशाब के समय दर्द और जलन होना।
  • ठंड लगना या तेज बुखार होना।
  • मिचली और उल्टी आना।
  • सेक्स के दौरान दर्द होना।
  • [ये भी पढ़ें: यौन संचारित रोगों के ये मिथक करते हैं आपको गुमराह] 

कारण जिनकी वजह से श्रोणि(पेल्विक) में सूजन का खतरा बढ़ने लगता है:

  • जिन महिलाओं को पहले से गोनोरिया और क्लेमाइडिया जैसे यौन संचारित रोग हो उनमें श्रोणि (पेल्विक) में सूजन की बीमारी से खतरा और बढ़ जाता है।
  • जिन महिलाओं को पहले भी कभी यह बीमारी हुई हो उनको इसके दोबारा होने की संभावना होती है।
  • एक से अधिक व्यक्ति से साथ सेक्स सम्बन्ध स्थापित करने पर भी यह गंभीर और ज्यादा खतरनाक हो जाता है।

श्रोणि(पेल्विक) में सूजन की बीमारी का इलाज
एंटीबायोटिक:
know about the pelvic inflammatory diseaseआज इस बीमारी से लड़ने के लिए काफी मात्रा में एंटीबायोटिक बाजार में उपलब्ध है। काफी मात्रा में ओरल एंटीबायोटिक दवाइयां भी आती हैं लेकिन वह उतनी कारगर नहीं है। एंटीबायोटिक का प्रयोग डॉक्टर की सलाह के बाद ही करें।

सर्जरी: जब श्रोणि(पेल्विक) में सूजन का कारण किसी प्रकार का घाव हो तब यहां किसी भी प्रकार के एंटीबायोटिक से दूर नहीं हो पाता है। इसके लिए फिर मरीज को सर्जरी करवानी पड़ती है ताकि यह और ज्यादा गंभीर रूप न ले।

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "