एच.आई.वी. एड्स के साथ कैसे गुजारे साधारण जीवन

how to live being hiv positive

एच.आई.वी एड्स एक यौन संक्रमित बीमारी है जो एच.आई.वी. नामक वायरस के जरिए फैलता है। यह वायरस सीधा मरीज के इम्यून सिस्टम पर हमला करता है और उसके माध्यम से पूरे शरीर में रक्त के जरिए फैल जाता है। जब यह बीमारी आपके इम्यून सिस्टम को खत्म कर देती है तो यह अवस्था एड्स कहलाती है। यह बीमारी संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन सम्बन्ध बनाने से, उस व्यक्ति के संक्रमित रक्त के माध्यम से या संक्रमित इंजेक्शन के माध्यम से फैलता है। आमतौर पर लोगों के बीच यह धारणा है कि एचआईवी से पीड़ित व्यक्ति का जीवन दुखों से भर जाता है लेकिन ऐसा नहीं है। संक्रमित व्यक्ति भी आम इंसानों की तरह खुशहाल जिंदगी जी सकता है। आइए जानते हैं कि एचआईवी से पीड़ित व्यक्ति किस तरह साधारण जिंदगी जी सकते हैं।

मानसिक रूप से अपने आप को मजबूत बनाए:

how to live with hiv and aids
photo credit- jahanc.wordpress.com

इस बीमारी का पता लगने के बाद लोग सबसे ज्यादा मानसिक रूप से प्रभावित होते हैं, जिसका सीधा असर उनके शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ता है। इसके इलाज के साथ सामान्य रूप से जीवन व्यतीत किया जा सकता है। इसके लिए आपको दवाइयों के साथ-साथ अपने आप को भी मजबूत करना होगा। ऐसा करने के लिए सबसे पहले इस बात को दिमाग से निकाल दे कि इससे आपकी जान जा सकती है। हमेशा अपने आपको मोटिवेट करते रहे। साथ ही इसकी पूरी जानकारी ले जिससे कि आपके दिमाग में इसको लेकर मौजूद मिथक हट जाए। इस बीमारी को एक चुनौती के तौर पर ले और उससे जीतने की कोशिश करें। [ये भी पढ़ें: महिलाओं में ये लक्षण करते हैं यौन संचारित रोगों की तरफ इशारा

पोषक आहार का सेवन करें:
जिस व्यक्ति को एच.आई.वी. एड्स होता है, उसे अपने खान-पान पर विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है। इस दौरान संतुलित आहार ले जिसमे वसा, शुगर और नमक एक संतुलित मात्रा में हो। ऐसे समय में आपको क्या खाना चाहिए इसके बारें पहले अपने डॉक्टर से सलाह करें। साथ ही उन फलों और सब्जियों को खाएं जिमसें प्रचुर मात्रा में फाइबर, विटामिन और मिनरल्स हो। वसा रहित मीट, मछली और अंडों का सेवन करें। इसके साथ ही आप दही और दूध का भी सेवन करें।

नियमित एक्सरसाइज करें:

how to live with hiv and aids
photo credit -www.prparks.org

यह बीमारी व्यक्ति के प्रतिरक्षा प्रणाली पर सबसे ज्यादा असर करता है। जिससे बहुत जल्दी थकान, कमजोरी, वजन कम होने लगता है। ऐसे में अपने आपको फिट रखना बहुत जरुरी है और इसके लिए नियमित एक्सरसाइज जरुरी है। व्यायाम आपके प्रतिरक्षा प्रणाली को सुचारू रखने का काम करता है। यह आपके स्टेमिना को बढ़ाता है, साथ ही साथ इससे शरीर में लचीलापन बढ़ता है और यह आपको और एक्टिव रखेगा।
इस दौरान तीन तरह के एक्सरसाइज खास तौर पर करना चाहिए:
1. कार्डियो ओर एरोबिक एक्सरसाइज: यह आपके दिल की धड़कनों में संतुलन रखता है जिससे शरीर में खून का बहाव ठीक से होता है जिससे कि आपके पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचता है जो आपके दिल और फेफड़ो को स्वस्थ रखता है।
2. रेजिस्टेंस ट्रेनिंग: वजन उठाने के जरिए यह एक्सरसाइज आपके मसल्स की क्षमता को बढ़ाता है।
3. फ्लेक्सबिलिटी ट्रेनिंग: इस एक्सरसाइज के जरिए आपके जोड़ों को मजबूती मिलती है।

सुरक्षित रूप से यौन सम्बन्ध बनाये:
यह बीमारी यौन सम्बंधो के माध्यम से काफी तेजी से फैलती है। इसलिए जिस व्यक्ति को यह बीमारी है और उसको सेक्स करने की इच्छा होती है तो उसको बहुत सी सावधानियां बरतनी जरुरी होती है। सेक्स करने के तरीकों पर ध्यान दे और गलत तरीके से सेक्स करने से बचे। सेक्स करने से पहले अपने कंडोम का प्रयोग जरुर करें। [ये भी पढ़ें: एच.आई.वी एड्स से जुड़ें मिथक

अन्य बातें जिसे ध्यान में रखना चाहिए:
इन सबके आलावा भी कुछ ऐसी बाते हैं जिसके बारे में आपको ध्यान रखने की जरूरत है जैसे कि अपने खुद को पूरा आराम दें, पूरी नींद लें, शराब-सिगरेट ना पिये। नियमित रूप से सुबह उठ कर टहलने की आदत डाले।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "