जाने कैसे थायरॉइड की समस्या यौन रोग से जुड़ी है

how problem of thyroid is connected with sexually transmitted disease

Photo Credit: media.healthday.com

यौन रोग(सेक्सुअल डिस्फंक्शन) आपके यौन इच्छा को कम कर सकता है| यह परेशानी हर उम्र के औरत या मर्द को हो सकती है और खासकर बढ़ती उम्र वाले इस परेशानी का सामना ज्यादा करते हैं। सेक्सुअल ट्रौमा, डायबिटीज, दिल की बीमारी, अधिक शराब पीना और नशीली दवाइयों के सेवन से सेक्सुअल डिस्फंक्शन होता है। वहीं थायराइड एंडोक्राइन ग्लैंड में से एक है। थायराइड थाइराक्सिन नामक हार्मोन बनाती है। जिससे शरीर के ऊर्जा, प्रोटीन उत्पादन एवं अन्य हार्मोन के प्रति होने वाली संवेदनशीलता नियंत्रित होती है। थायराइड ग्लैंड शरीर के मेटाबोलिज्म को नियंत्रण करता है और आपके हृदय, मांसपेशियां और कोलेस्ट्रोल को भी प्रभावित करता है।

यौन रोग(सेक्सुअल डिस्फंक्शन) के प्रकार:
चार प्रकार के सेक्सुअल डिस्फंक्शन होते हैं:
1.इच्छा या सेक्स में रुचि का अभाव
2.सेक्स के दौरान असमर्थता या धीमी गति हो जाना
3.सेक्स के दौरान दर्द

यौन रोग(सेक्सुअल डिस्फंक्शन) के लक्षण:
how problem of thyroid is connected with sexually transmitted disease पुरुषों में सेक्सुअल डिस्फंक्शन के कारण यौन इच्छा में कमी आ जाती है और समय से पहले इजाकुलेशन हो जाता है या फिर सेक्स के दौरान असमर्थता का सामना करना पड़ सकता है। कई बार महिलाओं को सेक्सुअल डिस्फंक्शन के कारण शारीरिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जैसे- सेक्स के समय योनि(Vagina) के सूखेपन के कारण दर्द का सामना करना पड़ता है या ऑरगैस्म (Orgasm) आने में विफलता भी होती है। [ये भी पढ़ें: ये घरेलू तरीकें दिलाएंगे गोनोरिया की समस्या से निजात] 

यौन रोग(सेक्सुअल डिसफंक्शन) मेडिकल वर्कअप:
जिन्हें इस बात का पता नहीं होता है की थायराइड की परेशानी है जैसे- टीएसएच, टी3, टी4 और उन्हें सेक्सुअल डिसफंक्शन की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें जल्द-से-जल्द मेडिकल ट्रीटमेंट की ज़रूरत है।

सेक्सुअल डिस्फंक्शन का ट्रीटमेंट:
सेक्स समस्या का सबसे बड़ा कारण है, पति-पत्‍नी का सेक्स समस्याओं के बारे में एक-दूसरे से ना बात करना। पति और पत्‍नी दोनों में आपसी समझ इतनी होनी चाहिए कि एक-दूसरे से कोई भी बात न छुपाए। इतना ही नहीं इस मामले में पत्‍नी कभी पहल नहीं करती, ऐसे में पति को चाहिए कि उनका व्यवहार ऐसा हो कि उनकी पत्‍नी उनसे हर बात शेयर कर सकें। यदि आप चाहते हैं कि आप अपने साथी से सभी समस्याओं खासकर सेक्स समस्याओं के बारे में बातचीत कर सकें तो आपको अपने साथी को विश्वास में लेना होगा। यदि आप अपने साथी को अपनी कोई सेक्स समस्या के बारे में बताना चाहते हैं तो आप उसे सीधे-सपाट शब्दों में ना कहें बल्कि उसके लिए थोड़ा समय लें और अपने साथी को बातचीत और प्यार से सहज करें। इसके बात सामान्य बातचीत के बाद ही अपनी समस्या को बताएं।

सेक्सुअल डिस्फंक्शन ट्रीटमेंट में यह चीज़ें भी शामिल हैं:
1.अपने शरीर के मेडिकल हिस्ट्री का पता होना।
2.शारीरिक बीमारियों का पता होना।
3.थायराइड के अलावा पुरुषों और महिलाओं के लिए टेस्टोस्टेरोन सहित का मूल्यांकन करना भी आवश्यक है।
4.अपने मनोवैज्ञानिक कारण को जाने जैसे- तनाव, सेक्सुअल ट्रॉमा और रिलेशनशिप के बारे में पता होना भी बहुर ज़रूरी है। [ये भी पढ़ें: जाने कैसे बच्चों में फैलता है एचआईवी एड्स का संक्रमण] 

थायराइड के उपचार के लिए एक्यूप्रेश थेरेपी:

how problem of thyroid is connected with sexually transmitted disease
Photo Credit: urdumania.net

थायराइड हार्मोन मेटाबोलिज़्म की दर को सही बनाने में मुख्‍य भूमिका निभाते हैं। इसके ठीक से काम न करने से वजन का बढ़ना, थकान, हाथों और पैरों में ठंडापन, ध्‍यान केंद्रित करने में कठिनाई, चिंता, कब्‍ज, डिप्रेशन, बालों का झड़ना जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं। साथ ही कोमलता या दर्द थायराइड की समस्या को दर्शाता है। लेकिन एक्यूप्रेशर थेरेपी से इसका इलाज किया जा सकता है। शरीर के विभिन्न हिस्सों खासकर हथेलियों और पैरों के तलवों के महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर दबाव डालकर विभिन्न रोगों का इलाज करने की विधि को एक्यूप्रेशर चिकित्सा पद्दति कहा जाता है। बिना दवा के इलाज करने वाली यह सरल, हानिरहित, खर्चरहित व अत्यंत प्रभावशाली व उपयोगी थेरेपी है। एक्यूप्रेशर का एक बड़ा लाभ यह है कि बीमारी का पता और इलाज दोनों एक ही तरह से किया जाता है।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "