भारतीय खाद्य पदार्थ जिनकी मदद से बढ़ता है आपका स्पर्म काउंट

Read in English
Which are Indian Foods helps To Increase Sperm Count

Photo Credit: i1.wp.com

बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो इनफर्टिलिटी की समस्या से ग्रसित होते हैं। पुरुषों की फर्टिलिटी सामान्य तौर पर उसके स्पर्म काउंट पर निर्भर करता है। यदि किसी व्यक्ति में स्पर्म काउंट कम है तो इसकी वजह से उनका यौन जीवन प्रभावित हो सकता है। इसके अलावा इन्फर्टिलिटी की समस्या का सबसे बड़ा कारण भी स्पर्म काउंट का कम होना होता है। पुरुष में स्पर्म काउंड कम होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे अत्यधिक ड्रग्स का सेवन करना, टॉक्सिक केमिकल का सेवन करना, एल्कोहल या धूम्रपान या फिर जरूरत से ज्यादा जंक फूड्स का सेवन करना। लेकिन कई ऐसे भारतीय खाद्य पदार्थ होते हैं जिनकी मदद से स्पर्म काउंट बढ़ाई जा सकती है और अपने यौन जीवन का आनंद उठाया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: यौन संबंध बनाने से पहले क्या चीजें नहीं करनी चाहिए]

अंडा:
Which are Indian Foods helps To Increase Sperm Countअंडे का सेवन करना स्पर्म काउंट के बढ़ाने का एक सबसे बेहतर विकल्प होता है। अंडे में विटामिन-ई और प्रोटीन उच्च मात्रा में होता है जो स्पर्म सेल्स को फ्री-रेडिकल्स से बचाता है जिसकी वजह से स्पर्म काउंट कम होता है। अंडे में मौजूद पोषक तत्व स्पर्म काउंट के उत्पादन को स्वस्थ बनाता है।

केला:
केले में विटामिन-ए, बी1 और सी होता है जो स्पर्म के उत्पादन को बेहतर करता है। केले में ब्रोमेलिन नामक एन्जाइम होता है जो एक नेचुरल एंटी-इंफ्लेमेट्री एंजाइम होता है जिससे स्पर्म काउंट और मोटिलिटी बूस्ट होता है। [ये भी पढ़ें: फर्टिलिटी से जुड़े मिथक जिन्हें आप सच मानते हैं]

ब्रोकली:
ब्रोकली में फोलिक एसिड होता है जो पुरूषों की इन्फर्टिलिटी के लिए आवश्यक होता है। रोजाना ब्रोकली का सेवन करना लगभग 70 प्रतिशत स्पर्म काउंट को बढ़ाता है।

अनार:
Which are Indian Foods helps To Increase Sperm Countअनार एक बेहतर विकल्प होता है जिससे स्पर्म काउंट बढ़ता है और साथ ही सिमेन की गुणवक्ता में भी सुधार लाता है। अनार में एंटीऑक्सीडेंट भी होता है जो ब्लड में होने वाले फ्री-रेडिकल्स से लड़ने में मदद करता है। इसके अलावा ये एक प्रकार का फर्टिलिटी बूस्टर भी होता है।

लहसून:
लहसून इम्यूनिटी बूस्ट करता है। लहसून में पाए जाने वाला विटामिन-बी6 और सेलेनियम होता है जो शुक्राणु के उत्पादन को बढ़ाता है। इसके अलावा ये टेस्टीकल्स में ब्लड के संचार को भी बेहतर करता है। [ये भी पढ़ें: यौन संबंधों के दौरान पेशाब महसूस होने के पीछे के कारण]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "