टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कैसे बढ़ाएं

What are the ways to boost your Testosterone

अगर आपके शरीर में ऊर्जा की कमी है तो आपके लिए ये बहुत आवश्यक है कि आप अपने टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाएं, वरना इसकी वजह से आपका यौन संबंध प्रभावित हो सकता है। टेस्टोस्टेरोन के स्तर के कम होने की वजह से अपने पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाने की इच्छा भी कम हो जाती है। तो अगर आप अपनी ऊर्जा और अपने यौन संबंध बनाने की इच्छा को बढ़ाने के लिए कुछ करते हैं तो ये आपके लिए ही फायदेमंद हो सकता है और साथ ही आपके पार्टनर के लिए भी अच्छा होता है। टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने से ना सिर्फ यौन संबंध बनाने की इच्छा बढ़ती है बल्कि शरीर कई स्वास्थ्य समस्याओं से भी बचता है। आइए जानते हैं किस प्रकार टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: असुरक्षित यौन संबंध बनाने से होते हैं कई खतरे]

एब्स बनाएं:
आपकी कमर का साइज और टेस्टोस्टेरोन में गहरा संबंध होता है क्योंकि आपके शरीर का मोटापा टेस्टोस्टेरोन के स्तर को गिराता है। अगर आप इसके स्तर को बढ़ाना चाहते हैं तो मोटापा कम कर के कमर पतली बनाने की कोशिश करें। इसके लिए आप एब्स की एक्सरसाइज कर सकते हैं जिससे आपकी कमर भी पतली होगी और आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर भी बढ़ेगा।

प्रोटीन, फैट और कार्ब्स का सेवन करें:
आप क्या खाते हैं और क्या नहीं इसका सीधा प्रभाव आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर पर पड़ता है। तो इसलिए आपको अपने कैलोरी इन्टेक और डायट पर ध्यान देना चाहिए। प्रोटीन, फैट और कार्ब्स के सेवन से आप स्वस्थ रहते हैं और आपका वजन भी कम होता है जो आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाता है या फिर नियंत्रित रखता है। [ये भी पढ़ें: आदतें जो हनीमून के दौरान आपकी लिबिडो को कम कर सकती हैं]

विटामिन-डी युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करें:
विटामिन-डी और कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थ आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर को संतुलित रखता है और साथ ही कम होने से भी रोकता है। ये एक नेचुरल बूस्टर की तरह काम करता है।

बाइसेप्स बनाएं:
मांसपेशियों में मजबूत लाने से आपके शरीर में होने वाले टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन बढ़ता है। तो इसलिए वर्कआउट करना आपके लिए एक बेहतर विकल्प होता है जिससे आपकी यौन इच्छा और ऊर्जा शक्ति बढ़ती है।

तनाव कम लें:
मानसिक और शारीरिक तनाव आपके टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को प्रभावित करता है। तनाव आपके कॉर्टिसोल के स्तर को कम करता है जिसके कारण आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर भी प्रभावित होता है। तो कार्डियो और योग आपके लिए एक बेहतर विकल्प होता है। [ये भी पढ़ें: गलतियां जो आपको लुब्रिकेशन के दौरान नहीं करनी चाहिए]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "