इन तरीकों से जानें कि आपका पीरियड क्रैम्प सामान्य है या नहीं

How to know If your period cramps are normal

मासिक धर्म(पीरियड) के दौरान दर्द होना महिलाओं के लिए आम समस्या है और आप इस अनुभव को एक निश्चित अवधि के बाद महसूस करती हैं, लेकिन मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को सहन किया ही जाए ऐसा कोई नियम नहीं है। अगर इस बार आपके पीरियड क्रैम्प पहले से अधिक हैं और आपके सहन करने की सीमा से बाहर है तो इसके पीछे कोई असामान्य वजह हो सकती है। यहां कुछ तरीके बताए गए हैं जिनसे आप पता कर सकती हैं कि आपके पीरियड क्रैम्प सामान्य हैं या नहीं। [ये भी पढ़ें: मेनोपौज़ की स्थिति में दिखाई देते हैं यह लक्षण]

आप सामान्य रुप से काम नहीं कर पा रही हैं:
How to know If your period cramps are normalअगर मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द के कारण आपके हर रोज की गतिविधियां प्रभावित हो रही है और आप नियमित तरीके से अपना काम करने में खुद को असमर्थ महसूस कर रही हैं तो इसका अर्थ हो सकता है कि आपके पीरियड क्रैम्प सामान्य नहीं है और आपको केवल विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए।

दर्द निवारक दवाएं असर नहीं कर रही:
पीरियड के दौरान दर्द होने का मुख्य कारण गर्भाशय की मांसपेशियों में खिंचाव होना होता है। यह खिंचाव एक केमिकल के कारण होता है जिसे प्रोस्टाग्लैंडीन(prostaglandins) कहते हैं। यह केमिकल एंडोमेट्रियल टिशू को निकालने में मदद करता है। इस तरह का दर्द महिलाओं को थोड़ा असहज कर देता है लेकिन जब यह दर्द इतना ज्यादा हो जाए दर्द निवारक दवाएं भी काम ना करें तो इसका अर्थ है आपके पीरियड क्रैम्प सामान्य नहीं हैं। [ये भी पढ़ें- वेजाइनल इचिंग के क्या कारण हो सकते हैं]

दर्द अगर तीन दिन से ज्यादा हो:
सामान्य तौर पर मासिक धर्म के दौरान होने वाला दर्द और खिंचाव आपके पीरियड आने से 24 घंटे पहले शरु हो जाता है और यह पीरियड के दौरान तीन दिन तक रह सकता है। अगर आप इस समय अवधि से ज्यादा वक्त के लिये दर्द और खिंचाव महसूस कर रही है और पीरियड खत्म होने के बाद भी आपका दर्द बन्द नहीं हो रहा तो आपका पीरियड क्रैम्प सामान्य नहीं है।

मतली, डायरिया और बुखार:
How to know If your period cramps are normalकई महिलाओं को पीरियड के दौरान मतली, दस्त और बुखार की समस्या हो सकती है। कुछ स्थितियों में ये सामान्य हो सकती है। हालांकि अगर यह समस्या अचानक होती है और आपके मासिक धर्म के लिए असामान्य है तो आपको गाइकोनोलॉजिस्ट से संपर्क करना चाहिए, खासतौर पर जब आपको बुखार और चक्कर आ रहे हो। पेल्विक में दर्द होने पर भी डॉक्टर से सलाह लेना बेहतर होगा।[ये भी पढ़ें: इन उपायों से दूर हो सकती है बांझपन की समस्या]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "