भावनात्मक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है कैज्युअल सेक्स

how casual sex affect you emotional health

आज के समय में कैज्युअल सेक्स यानि केवल भौतिक सुख के लिए यौन संबंध बनाना एक सामान्य बात है। दूसरे शब्दों में इसे वन नाइट स्टैंड भी कहा जाता है। इस तरह के संबंध बिना किसी भावनात्मक लगाव या जुड़ाव के बनाएं जाते हैं। आमतौर पर ये संबंध एक बार बनाएं जाते हैं। इसमें किसी के साथ किसी भी प्रकार का यौन व्यवहार, विषमलैंगिक या समलैंगिक संबंध शामिल हो सकते हैं। दो अजनबी लोग बिना एक दूसरे को जाने-पहचानें, बिना कोई कमिटमेंट किए इस तरह के संबंध बना सकते हैं जिससे उनका मकसद केवल आनंद को प्राप्त करना होता है। हालांकि फिलोसॉफर्स का मानना है कि कैज्युअल सेक्स बेहद खतरनाक और हानिकारक हो सकता है। इन संबंधों का सीधा असर मनुष्य के भावनात्मक स्वास्थ्य पर पड़ता है। आइए जानते हैं कैसे। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए]

ब्रेन और सेक्स: न्यूरोसाइंस रिसर्च में पता लगाया गया है कि किस से सेक्स ह्यूमन ब्रेन को प्रभावित करता है। एमआरआई तकनीक के जरिए सेक्सुअल एक्टिविटी के दौरान ह्यूमन ब्रेन को रीड किया गया जिसमें पता चला कि यौन संबंधों के कारण या तो व्यक्ति पूर्णता को प्राप्त करता है या इससे व्यक्ति को जीवनभर के लिए नुकसान हो सकता है। विज्ञान के अनुसार, सेक्स शारीरिक संबंधो से कहीं ज्यादा है। यह हमारे दिमाग में कई तरह के परिवर्तनों के जन्म देता है जो कि जीवनभर के लिए हो सकते हैं। ये आश्चर्यजनक स्तर पर सीधे हमारे भविष्य को प्रभावित करते हैं।

भावनात्मक प्रभाव: न्यूरोसाइंस के अनुसार, सेक्स मनुष्य के दिमाग में कई तरह के बायोकेमिकल प्रोसेस को बढ़ावा देता है। यौन संबंध बनाते वक्त पुरुष और महिला के दिमाग में केमिकल्स का स्राव होता है। महिलाओं के दिमाग में डोपामाइन और ऑक्सीटॉसिन नाम के केमिकल जबकि पुरुषों में डोपामाइन और वेसोप्रेसिन नामक केमिकल्स का स्राव होता है। डोपामाइन केमिकल एक फील-गुड केमिकल है। इस केमिकल के कारण यौन संबंध बनाने के बाद व्यक्ति उसकी आवृत्ति चाहता है और ऐसा ना होने के कारण वो भावनात्मक रुप से दुखी और उदास हो सकते हैं। [ये भी पढ़ें: महिलाओं की फर्टीलिटी की समस्या में कारगर है अश्वगंधा]

लगाव की कमी: कैज्युअल सेक्स के दौरान दो लोगों के बीच लगाव की कमी के कारण भी उनकी सेहत पर असर होता है। कोई भी सेक्सुअली एक्टिव कपल एक-दूसरे से ब्रेक-अप के बाद यौन संबंधों के लिए किसी नए व्यक्ति के साथ जुड़ सकते हैं। इसेक कारण उनके आत्म-सम्मान को क्षति पहुंचती ही है साथ ही निश्चित रूप से यह एक बड़ी समस्या है जिसे दूर करना बेहद मुश्किल है। जो लोग एक से दूसरे पार्टनर को बदल लेते हैं, उन्हें भी अधिक नुकसान पहुंचता है।

क्या करें: अगर कैज्युअल सेक्स आपकी सेक्सुअल इंटेग्रिटी पर बुरा असर नहीं डालता है, आप ऐसे संबंध बनाना चाहते हैं और सुरक्षित तरीके से इसका आनंद लेना चाहते हैं तो कैज्युअल सेक्स आपके मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभााव नहीं डालता है। यदि आप भावनात्मक तरीके से जुड़ने वाले व्यक्ति हैं और आप सेक्सुअली कंजरवेटिव है तो आपके लिए कैज्युअल सेक्स एक उचित विचार नहीं होगा। [ये भी पढ़ें: यौन जीवन में सुधार लाने के लिए कार्डियो की जगह करें वेट ट्रेनिंग]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "