आपका साथी आपके साथ कितने प्रकार से भावनात्मक हिंसा कर सकता है

types of emotional abuse in relationship

हिंसा भावनात्मक और शारीरिक दो प्रकार की हो सकती है। ये दोनो प्रकार की हिंसा आपके लिए खतरनाक होती है। किसी भी रिश्ते में हिंसा का होना बहुत बुरा और खतरनाक हो सकता है। भावनात्मक हिंसा के शिकार लोगों पर इसका असर दिखने लगता है और उनका सामाजिक और निजी जीवन इससे बुरी तरह प्रभावित होता है। अगर आपका साथी आपको भावनात्मक रुप से प्रताड़ित करता है तो यह आपके लिए उतना ही बुरा है जितना कि शारीरिक रुप से प्रताड़ित करना होता है। शारीरिक से ज्यादा मानसिक रुप से प्रभावित होना आपके लिए हानिकारक होता है। आइए जानते हैं भावनात्मक हिंसा के क्या- क्या प्रकार है।[ये भी पढ़ें: रिलेशन को लेकर चूज़ी होना कैसे बंद करें]

किसी और के साथ फ्लर्ट करना: अगर आपका साथी आपके सामने किसी और के साथ फ्लर्ट करता है तो यह भी भावनात्मक हिंसा का ही एक प्रकार होता है। ऐसा करने से आपके साथी को कोई फर्क नहीं पड़ता है लेकिन जाने अनजाने वह आपको भावनात्मक रुप से दुखी कर रहे होते हैं।

आपको अनदेखा करना: अगर आपका साथी आपकी अनदेखी करता है तो यह भी भावनात्मक हिंसा का एक प्रकार है। यह एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें आप अपने साथी के साथ होकर भी अकेले होते हैं और इसी अकेलेपन से पैदा तनाव आपको अवसाद की ओर ले जाता है। [ ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आप एक लविंग कपल है]

गुस्से में आकर चीजे तोड़ना: अगर आपका साथी गुस्से में आकर चीजें तोड़-फोड़ करने लगता है तो यह भी भावनात्मक हिंसा का एक प्रकार है। यह एक ऐसी परिस्थिति है जिसमें वो आपको शारीरिक रुप से तो नुकसान नहीं पहुंचाते, लेकिन अपना गुस्सा निर्जीव चीजों पर निकालकर आपको मानसिक रुप से बुरी तरह से डरा देते हैं तो यह भी मानसिक प्रताड़ना का एक प्रकार है।

बात-बात पर डराना धमकाना: आप अपने साथी से बहुत प्यार करते हैं उनके बिना रहने के बारे में सोच भी नहीं सकते हैं तो वह इस बात का फायदा उठाते हैं और आपको बार- बार ब्रेकअप करने की धमकी देते हैं। क्योंकि इससे आप लगातार अकेले हो जाने और खो जाने के डर से परेशान होते रहते हैं। जो आपको भावनात्मक रुप से कमजोर बना देता है।

अकेला कर देना: प्यार को निभाने के साथ-साथ आपको समाज में कई रिश्तों को भी निभाना पड़ता है जिसमें आपके परिजन और दोस्तों से रिश्ते होते हैं। लेकिन अगर आपका साथी आपकी दुनिया सिर्फ खुद तक ही सीमित रखता है तो यह चीज आपको धीरे-धीरे अकेला कर देती है और ये ही अकेलापन आगे चलकर तनाव का कारण बनता है। [ये भी पढ़ें: आदतें जो आपको बेडरुम में अधिक आकर्षित बनाती हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "