टिप्स जिनकी मदद से आप करियर और प्यार के बीच संतुलन बना पाएंगे

how to balance your career and love life at the same time

Photo Credit: gratka.pl

हम में से बहुत लोग जॉब करते है और अपने करियर को लेकर संवेदनशील है। हम सभी जानते हैं कि अपने पार्टनर के साथ एक मजबूत और सुखी रिश्ता बनाना साथ ही अपने करियर को भी महत्व देना काफी मुश्किल होता है। खासतौर पर जब आप दोनों ही कामकाजी हैं। व्यस्त दिनचर्या, बड़े लक्ष्य, अनगिनत प्रोजेक्ट्स और बहुत कुछ इन सभी के कारण आपका सम्बंध प्रभावित होने लगता है जिसके कारण आपके रिश्ते में तनाव बन सकता है। जब आप अपने करियर को काफी अहमियत देते हैं तो एक स्वस्थ रिश्ते को बनाएं रखने के लिए आपको अलग से प्रयास करने होते हैं। पूरे दिन काम करने के बाद अपने साथी के साथ आराम करने और बात करने के लिए समय निकालना भी जरुरी है। अगर आप भी अपने कैरियर और प्यार के बीच संतुलन बनाना चाहते हैं तो ये टिप्स काम आ सकते हैं।[ये भी पढ़ें: अपने पार्टनर से ना रखें ये उम्मीदें वरना टूट सकता है आपका रिश्ता]

छोटी-छोटी चीजें एक साथ करें ऐसा जरुरी नहीं है कि आप अपने साथी के साथ समय बिताने के लिए लंच प्लान करें या फिल्म देखने ही जाएं। आप अपने साथी के साथ अपना सारा समय व्यतीत नहीं कर पा रहे हैं तो इसका मतलब ये नहीं है कि आप जिस समय में उनके साथ है वो बिल्कुल परियों की कहानी जैसा हो। छोटी चीजें भी आपको खुशी दे सकती है। जब आपके पास ऑफिस के ढ़ेर सारे काम होंगे तो आप कुछ विशेष योजना बना पाएं ये थोड़ा मुश्किल है। इसलिए जरुरी है कि जब भी आप साथ में हैं तो हर मिनट को महसूस करें। एक साथ भोजन करें, घर की सफाई करते वक्त या खाना बनाते वक्त आप एक-दूसरे को समय दें। ये छोटी चीजें आपको बेफिजूल लग सकती हैं लेकिन जब आपके पास समय कम हो तो है तो यह अपने साथी से जुड़ने का यह अच्छा तरीका है।

बिना शर्त के सपोर्ट करें अपने ऑफिस में पूरे दिन काम करने के बाद अपने पति या पत्नी के करियर में रुचि दिखाना मुश्किल हो सकता है लेकिन यह जरुरी है कि आप अपने साथी के करियर से संबंधित बातचीत करें। इस बातचीत के जरिए आप उन्हें बता पाएंगे कि आप उनके काम और करियर को सपोर्ट करते हैं। उन्हें बताएं कि आप उनके लिए हमेशा मौजूद हैं और बिना शर्त उनके काम को अपना समर्थन देते हैं। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपके साथी के मन में असंतोष की स्थिति पैदा हो सकती है। जिससे आपके रिश्ते और करियर के बीच संतुलन बनाना मुश्किल हो जाएगा। [ये भी पढ़ें: खराब सम्बंध आपके स्वास्थ्य को कैसे करता है प्रभावित]

हद से ज्यादा उम्मीदें ना करें जब आप दोनों कामकाजी है तो आप समझ सकते हैं कि ऑफिस के बाद सम्बंध को संभालना कितना मुश्किल है। इसलिए जरुरी है कि आप अपने साथी से अधिक उम्मीदें ना बांधे क्योंकि समय के अभाव में अगर वो पूरा नहीं कर पाएंगे तो आपको बुरा लगेगा और आपका दिल टूट जाएगा। आपके लिए बेहतर होगा ऐसा सोचना बंद करें कि आपका साथी आपके लिए कोई डेट, हॉलीडे या पार्टी प्लान करें। अगर वो ऐसा नहीं करेगा तो आपको दुख और निराशा होगी। ये सब मैनेज करने के लिए आपके साथी को समय की जरुरत होगी और वो उनके पास नहीं है। ऐसा नहीं है कि आप उम्मीदें ही ना करें। सोचने की बजाय उनसे बात कर लें कि आप क्या चाहते हैं।

कोई भी फैसला लेने से पहले साथी को बताएं अगर आप कोई भी फैसला लेते हैं तो इसके लिए दो स्टेप जरुरी है। पहला आप इसके बारे में सोचे और फिर अपने साथी से बात करें। अब आप जीवन में स्वतंत्र रूप फैसले नहीं ले सकते हैं चाहे फिर आप कितने भी बुद्धिमान क्यों ना हों। आपका हर एक व्यक्तिगत फैसला आपके साथी पर भी असर डालेगा। आपको जानने की जरुरत है कि आपका कोई भी फैसले के बारे में आपका पार्टनर क्या सोचता है। जैसे आप जॉब छोड़ने या बदलने की सोच रहे हैं तो इसके बारे में अपने साथी से बात कर लें। हो सकता ऐसे में आपको शहर बदलना पड़े या नई जगह जाना पड़े तो इसका प्रभाव आपके साथी पर भी होगा।

खुद को फ्लेक्सिबल बनाएं ऑफिस में पूरी तरह थक जाने के बाद अपने साथी के साथ प्यार से बात करना और उन्हें अच्छा महसूस कराने के बारे में सोचना मुश्किल होता है। लेकिन ऑफिस से आने के बाद अपने साथी के साथ आराम करना आपके रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए एक महत्वपूर्ण पहलू हो सकता है। ऑफिस और वर्कप्लेस पर तनाव हो सकता है और आप अपने काम को लेकर परेशान हो सकते हैं लेकिन इसके बावजूद भी अपने साथी को वही प्यार और भाव देना ही रिश्ते को मजबूत बनाता। बेहतर है कि आप अपने वर्क स्ट्रेस को ऑफिस में ही छोड़कर आए। खुद को फ्लेक्सिबल बनाएं। ताकि आप अपने रिश्ते और काम दोनों को संभाल पाएं। आप एक समय में एक व्यक्ति ही बन सकते हैं। जब आप प्रेमी है तो खुद को ऑफिस वर्कर ना बनने दे।

जिम्मेदारियां बांट लें एक रिश्ते में सामंजस्य बिठाना बहुत जरुरी है। अगर आपके रिश्ते में समझौते करने पड़ रहे हैं तो ध्यान रखें कि मिलकर समझौते करें। काम के साथ अपने रिश्ते की जिम्मेदारियों को समझें। खासकर तब जब आप शादीशुदा है, एक साथ रहते हैं, आपके बच्चे हैं। ऑफिस जाने के साथ खाना पकाना, बच्चों को स्कूल ले जाना लेकर आना, घर के कामकाज आदि जिम्मेदारियां एक ही व्यक्ति पर ना डालें। आपके रिश्ते में कोई भी एक व्यक्ति सभी समझौते करने के लिए तैयार नहीं होगा। इसलिए सही ढंग से फैसला लें। अधिक कुशलता से काम करें और सबसे महत्वपूर्ण हैं कि हमेशा एक साथ काम करें।[ये भी पढ़ें: अपने पार्टनर से बातचीत नहीं कर पा रहे हैं तो अपनाएं ये टिप्स

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "