क्यों पार्टनर की बातें सुनना किसी भी रिश्ते के लिए होता है बेहतर

how active listening can make your relationship strong

Pic Credit: visanamchau.com

किसी भी संबंध खातौर पर प्रेम संबंधों में बातचीत का बहुत ही महत्व होता है और जब आप ठीक से बातचीत नहीं कर पाते हैं, तो निराश, चिंतित और अकेला महसूस करने लगते हैं। अगर आपको लग रहा है कि आपके और आपके साथी के बीच में ये सभी चीजें बढ़ रही हैं, तो यह समय है जब आपको अपनी सुनने की आदत को बढ़ाना चाहिए। अगर आप अपने पार्टनर से खुलकर बात करते हैं या उनकी बात सुनते हैं तो इससे आप दोनों एक-दूसरे से और बेहतर ढंग से जुड़ पाते हैं। आइए जानते हैं कि क्यों पार्टनर की बातें सुनना किसी भी रिश्ते के लिए होता है बेहतर। [ये भी पढ़ें: इन कारणों से किस करते वक्त हम सीधी तरफ सिर झुकाते हैं]

अच्छा महसूसस कराने के लिए: जब आपका पार्टनर आपके पास अपनी कोई समस्या लेकर आता है तो जाहिर तौर पर आप उसकी समस्या को समाधान खोजते हैं या उसे कोई सलाह देते हैं। लेकिन कभी कभी हमें कोई चाहिए होता है जो केवल हमारी समस्या सुन सकें और बस इतने से ही हम अच्छा महसूस करने लगते हैं। अगर आप अपने साथी की कोई बात अच्छे से सुनते हैं तो उसकी समस्या कम होती हैं और वह अच्छा महसूस करता है या करती है।

सुरक्षित महसूस कराता है:
how active listening can make your relationship strongएक्टिव लिस्निंग का है मतलब किसी की बातें ध्यान से सुनना। एक्टिव लिस्निंग आपके रिश्ते मे एक सेफ स्पेस बनाती है। इसके तहत एक पार्टनर दूसरे पार्टनर की भावनाओं और विचारों को लेकर गलत अनुमान नहीं लगाते। किसी भी रिश्ते में एक्टिव लिस्निंग का होना जरुरी है क्योंकि इससे आप दोनों एक-दूसरे के सामने फ्री होकर और खुलकर बात कर सकते हैं जिससे आप एक-दूसरे के साथ सुरक्षित महसूस करते हैं। [ये भी पढ़ें: अपने पार्टनर के साथ लड़ाई के बाद आप क्या करते हैं]

कम्यूनिकेशन सुधारता है:
how active listening can make your relationship strongअगर आपको कोई इंसान ध्यान से सुनता है तो आपका बात करने का दिल करता है। अगर सामने वाला इंसान आपको सुन नहीं रहा है तो आपका बात करने का दिल नहीं करेगा। आपकी सुनने की आदत आपके रिश्ते में बातचीत के दायरों को बढ़ाती है। इससे आप अपने साथी की भावनाओं और अनुभवों पर पूरी तरह ध्यान देते हैं।

एक-दूसरे पर दोष लगाना कम होता है: झगड़ा करने के बाद हम एक-दूसरे की गलती बताने और दोष लगाने में माहिर होते हैं। कई बार इसके कारण झगड़ा सुलझने की बजाय और बढ़ जाता है। अगर आप अपने साथी की बात ध्यान से सुनते हैं और समझते हैं कि उनका पक्ष क्या है तो आप एक-दूसरे पर दोष लगाने से बट जाते हैं। साथ ही झगड़ा भी सुलझ पाता है।

गलतफहमी दूर करता है:
how active listening can make your relationship strongअपने पार्टनर की बात सुनने से आपके अंदर की गलतफहमी दूर हो जाती है और अगर आपके मन में उनके लिए कुछ बुरा होता है तो वो खत्म हो जाता है। किसी भी रिश्ते में गलतफहमी या शक की जगह नहीं होती है, वरना यह रिश्ते को खत्म कर सकता है। इसलिए अपने पार्टनर की बात ध्यान से सुनें और उनके प्रति अपने गलत विचार को दूर करें। [ये भी पढ़ें: बारिश के मौसम में अपने रिश्तें में कैसे जगाएं रोमांस]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "