गर्भनिरोध का बेहतरीन उपाय है महिलाओं में होने वाली नसबंदी

best contraception method in women

जिस प्रकार पुरुषों में होने वाली नसबंदी के कारण गर्भधारण को रोका जा सकता है ठीक उसी प्रकार से महिलाओं में भी इस तरह की नसबंदी की जा सकती है। इसके बाद उनके गर्भाशय में गर्भ नहीं ठहरता है और गर्भधारण नहीं हो पाता है। इसमें महिलाओं के फैलोपियन ट्यूब को सर्जरी के जरिए काट दिया है जिससे कि वो बंद हो जाता है। सर्जरी के एक बार होने के बाद जन्म नियंत्रण हमेशा के लिए हो जाता है, इसके बाद वह महिला गर्भधारण नहीं कर पाती है। इसलिए इसको करवाने से पहले बहुत ज्यादा सोच समझ कर डॉक्टर की सलाह के बाद ही इतना बड़ा कदम उठाना चाहिए। [ये भी पढ़ें: जन्म नियंत्रण पैच के बारे में जानें कुछ खास बातें] 

यह कितना प्रभावशाली है? गर्भनिरोधक के रूप में यह काफी ज्यादा प्रभावशाली है इसको करवाने के बाद गर्भधारण का खतरा 99.5% नहीं रहता है। इस वजह से इसको गर्भनिरोध का सबसे बेहतर उपाय माना जाता है। मगर कभी-कभी यह देखने को मिलता है कि फैलोपियन ट्यूब को बंद करने के बाद यह अपने आप बढ़ जाता है और वापस इसमें से अण्डों का संचालन होने लगता है, परन्तु यह काफी कम मामलों में देखने को मिला है। एक डाटा के अनुसार 1000 महिलाओं में 2 से 10 महिलाएं ही हैं जिनमें इस सर्जरी के बाद भी गर्भधारण हो जाता है।

यह किस तरह किया जाता है? इसको करवाना बहुत ही आसान है। इसको करने के लिए बहुत ज्यादा दर्द या बड़े सर्जरी की जरुरत नहीं होती है यह आसानी से और बहुत ही आसान तरीके से किया जा सकता है। इसमें महिलाओं फैलोपियन ट्यूब को बंद कर देते है, जिससे ट्यूब के अंदर से प्रवाहित हो कर जाने वाले अंडे गर्भाशय तक नहीं पहुंच पाते हैं और इस वजह से गर्भधारण नहीं हो पाता है। इसमें डॉक्टर पेट पर एक या दो छोटे-छोटे कट करता है और एक लेप्रोस्कोप के जारिए फैलोपियन ट्यूब को कट कर के उसे हमेशा के लिए बंद कर देता है। [ये भी पढ़ें: जानें क्या है गर्भनिरोध के लिए लिया जाने वाले बर्थ कंट्रोल शॉट]

इसको करवाने के बाद दोबारा इसे पहले जैसा किया जा सकता है? कुछ मामलों में यह संभव है कि फैलोपियन ट्यूब वापस ठीक हो जाता है, मगर ज्यादातर मामलों में एक बार नसबंदी के बाद इसको ठीक नहीं किया जा सकता है। ऐसा होने के बाद इसको ठीक नहीं किया जा सकता है फिर यह हमेशा के लिए एक स्थायी गर्भनिरोधक हो जाता है।

क्या यह यौन संक्रमण से बचाता है? बहुत से लोगों का यह मानना है कि यह यौन संक्रमण से बचाने का काम करता है। मगर ऐसा नहीं है यह सिर्फ और सिर्फ गर्भनिरोधक के रूप में काम करता है। इस तरह की सर्जरी से कोई और लाभ नहीं है।

महिलाओं में होने वाली नसबंदी से जुड़ें मिथक: इसको लेकर महिलाओं में एक मिथक बना हुआ है कि नसबंदी के बाद महिलाओं में यौन शक्ति कम हो जाती है और साथ ही साथ शारीरिक तौर पर भी महिलाएं बहुत कमजोर हो जाती है, लेकिन यह सिर्फ और सिर्फ एक मिथक है। इस तरह के गर्भनिरोधक के बाद कभी भी कोई दिक्कत देखने को नहीं मिलती है। [ये भी पढ़ें: जन्म नियंत्रण में कैसे करें इंट्रायूटेरीन डिवाइस का इस्तेमाल]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "