कंडोम के बारे में मिथक जिन पर आपको विश्वास नहीं करना चाहिए

Read in English
Myths About Condom That You Should Stop Believing

जब आप यौन संबंध बनाने के बारे में सोचते हैं तो कंडोम का इस्तेमाल आपके लिए जरूरी होता है क्योंकि ये आपको अनचाहे प्रेग्नेंसी से बचाता है और साथ ही ये आपको और भी कई स्वास्थ्य समस्याओं से बचाने में भी आपकी मदद करता है। कंडोम का इस्तेमाल करने से आपको एसटीआई जैसी घातक समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है। आजकल कंडोम महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए आ गये हैं, लेकिन दोनों का इस्तेमाल एक साथ नहीं किया जा सकता है। कंडोम स्पर्म और यूटेरस के बीच एक दीवार की तरह काम करता है जिससे टेस्टकिल तक स्पर्म नहीं पहुंच पाता है। जो गर्भधारण करने से रोकने में मददगार होता है। लेकिन लोगों को कंडोम से जुड़ी बहुत सारी गलतफहमी होती हैं जो उनके लिए कई बार हानकारक साबित हो सकती है। आइए जानते हैं कंडोम के बारे में मिथक जिन पर आपको विश्वास नहीं करना चाहिए। [ये भी पढ़ें: कंडोम से जुड़ी आम गलतियां जो अक्सर आप करते हैं]

“कंडोम 100% विश्वसनीय हैं”
यह कंडोम के बारे में सबसे लोकप्रिय मिथक है। सबसे अच्छे गर्भनिरोधक तरीकों में से एक होने के बावजूद कंडोम कभी भी फट सकता है। हालांकि इस घटना की संभावना वास्तव में कम होती है, फिर भी ऐसा हो सकता है। तो, आप पूरी तरह से कंडोम पर भरोसा नहीं कर सकते हैं।

“महिला जब गर्भनिरोध का सेवन करती हैं तो कंडोम का उपयोग ना करें”
कंडोम ना केवल गर्भधारण को रोकने के लिए उपयोग किया जाता है बल्कि कई घातक यौन संचारित रोग जैसे एचआईवी एड्स, सिफलिस आदि की रोकथाम के लिए भी उपयोग किया जाता है। यदि आप अपने साथी की यौन स्वास्थ्य से अच्छी तरह अवगत नहीं हैं, तो इसका इस्तेमाल आपके लिए सुरक्षित हो सकता है। [ये भी पढ़ें: पुल-आउट मेथड से जुड़ी कुछ जानकारी जिनके बारे में पता होना जरूरी है]

“कंडोम एक्सपायर नहीं होती”
यह मानना गलत है कि कंडोम एक्सपायर नहीं होती है। हर कंडोम के पैकेट पर एक्सपायरी डेट होती है। जब कंडोम एक्सपायर होता है तो उसका लचीलापन कम हो जाता है ऐसे में इसके फटने की संभावना अधिक हो जाती है। इसलिए हमेशा कंडोम की एक्सापायरी डेट जरुर जांच लें।

“दो कंडोम पहनना सुरक्षित होता है”
यह एक व्यापक रूप से परिचालित गलत धारणा है। एक समय में दो कंडोम का इस्तेमाल करना एक भयानक विचार होता है। जब आप दो कंडोम पहनते हैं तो इससे कंडोम के फटने की संभावना बढ़ जाती है। [ये भी पढ़ें: गर्भनिरोध गोलियों से होने वाले दुष्प्रभाव]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "