इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स के सेवन के दौरान क्या करें और क्या ना करें

Pic Credit: verywell.com

इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स गर्भधारण को रोकने का एक सुरक्षित तरीका है। अगर आप असुरक्षित तरीके से या गलती से यौन संबंध बना चुके हैं और गर्भधारण नहीं करना चाहती हैं तो इस गर्भनिरोध तरीके का इस्तेमाल कर सकती हैं। इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स कई प्रकार के होते हैं और इनमें से कुछ अन्य की तुलना में बेहतर काम करते हैं। इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स इंट्रायूटेरिन डिवाइस के रुप में और गर्भनिरोध गोलियों के रुप में इस्तेमाल की जा सकती हैं। इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स का इस्तेमाल करने के लिए आपको किसी नर्स या डॉक्टर से से निर्देश लेने करी आवश्यकता है। हालांकि कुछ बातें आप खुद जान सकती हैं कि असुरक्षित तरीके से यौन संबंध बनाने के बाद इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स का इस्तेमाल करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना जरुरी है। आइए जानते हैं कि इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स के सेवन के दौरान क्या करें और क्या ना करें। [ये भी पढें: कितने प्रकार की होती हैं इमरजेंसी गर्भनिरोधक गोलियां]

क्या करना उचित है

  • असुरक्षित यौन संबंध बनाने के बाद जितना जल्दी हो सके इन गोलियों का सेवन कर लें। ऐसा जरुरी नहीं है रात को यौन संबंध बनाने के बाद आप सुबह में ही इन गोलियों का सेवन कर सकती हैं। इन्हें संभोग के तुरंत बाद भी लिया जा सकता है, जितना जल्दी लेंगे, उतना बेहतर होगा।
  • यौन संबंध के बाद 120 घंटों के अंदर ही इनका सेवन कर लें। इसके बाद यह प्रभावी नहीं होगा।
  • अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से बात कर लें कि क्या यह गोली आपके लिए उपयुक्त है। साथ ही उनसे सलाह लें कि आपके लिए इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स का कौन सा तरीके सबसे अच्छा काम करेगा। [ये भी पढें: गर्भनिरोध के प्राकृतिक तरीके]
  • इस बात का ध्यान रखें कि इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स पिल्स किसी भी यौन संचरित रोग से आपकी रक्षा नहीं करते हैं।
  • गोलियों का सेवन करने के तीन सप्ताह बाद अगर आपको पीरियड्स नहीं होते हैं तो गर्भावस्था की जांच जरुर कर लें।

क्या नहीं करें

  • इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स का इस्तेमाल रेगुलर कॉन्ट्रासेप्टिव्स की तरह ना करें। इनका सेवन केवल इमरजेंसी की स्थिति में ही करें।
  • अगर आप गर्भवती हैं या आपको लग रहा है कि आप गर्भवती हो सकती हैं तो इस स्थिति में इमरजेंसी कॉन्ट्रसेप्टिव्स का इस्तेमाल ना करें।
  • मतली, उल्टी, बहुत हल्की स्पॉटिंग, मासिक धर्म चक्र में देरी या अत्यधिक प्रवाह, थकान, पेट दर्द आदि लक्षण दिखने पर परेशान ना हो। ये इमरजेंसी कॉन्ट्रसेप्टिव्स के दुष्प्रभाव है जो खुद से ही कम हो जाते हैं। किसी बात की चिंता होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  • अगर आपका वजन सामान्य से ज्यादा है तो इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स का इस्तेमाल ना करें क्योंकि मोटापे के कारण ये गोलियां कम प्रभावी होती हैं। हालांकि अभी तक इस तथ्य पर रिसर्च जारी है। [ये भी पढें: क्या है बर्थ कंट्रोल शॉट्स और इसके इस्तेमाल के फायदे]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "