रोज अच्छा महसूस करना चाहते हैं तो ये योगासन आएंगे काम

Yoga postures that makes you feel good

योग आपके शरीर के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है और साथ हीं आपको अच्छा महसूस कराने में आपकी मदद भी करता है। यह एक अभ्यास है जिसके द्वारा मनुष्य को तन की तंदरुस्ती मिलती है और मन की शांति भी। एक शोध के अनुसार जो लोग रोजाना योग करते हैं, वह पूरे दिन अच्छा और अपने अन्दर एक नई उर्जा महसूस करते हैं। योग करना शुरूआत मेंं थोड़ा कठिन हो सकता है, लेकिन अगर इसके नियमों का पूरी तरह से पालन किया जाए तो यह अभ्यास सुखद और आनंदमय भी हो जाता है। आइए जानते हैं कौन से योगासन का अभ्यास करके आप हर रोज अच्छा महसूस कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: बुढ़ापे में योग करना है फायदेमंद]

1. पेल्विक टिल्ट से शुरूआत करें: पेल्विक टिल्ट्स योग की शुरुआत करने के लिये काफी बेहतरीन आसन है। अगर आपके पास ज्यादा समय नहीं है, फिर भी आप इस योगासन को कर सकते हैं क्योंकि इस आसन को करने के लिये आपको कुछ मिनट ही चाहिए। कमर के दर्द में राहत देने के लिये पेल्विक टिल्ट्स कारगर होते हैं। इसके लिये जमीन पर सीधे लेट कर अपने हाथों को कमर के बराबर रखें और दोनों घुटनों को ऊपर की तरफ मोड़ लें। अब कूल्हे वाले हिस्से को ऊपर उठाएं, इस दौरान कमर बाहर रखें और पेट अंदर। साथ ही धीरे-धीरे सांस लें और छोड़े। इस आसन को 10 से 20 बार करें। इसके बाद आप देखेंगे कि कुछ समय में कमर दर्द पूरी तरह से गायब हो जाएगा। पेल्विक टिल्ट को धीरे-धीरे करने की कोशिश करें। एक साथ इस संख्या को अधिक बढ़ाने की कोशिश ना करें।

2.डाउनवर्ड फेसिंग डॉग पोज़(अधो मुख शवआसन):
Yoga postures that makes you feel goodअपने आपको डाउनवर्ड फेसिंग डॉग के पोज़ में लाएं, जैसे आप कोई चौपाया जानवर हो। दोनों हाथ-पैर जमीन पर रखें और शरीर के पीछे के हिस्से को ऊपर की तरफ उठायें और सर को जमीन की तरफ झुकाएं। धीरे-धीरे पैरों को सीधा करें। किसी दूसरे मूवमेंट को लें जो इस मुद्रा को व्यवस्थित करने में आपकी मदद करता है। [ये भी पढ़ें: वृद्धावस्था में फिट रहने के लिए आजमाएं ये योगासन]

3.कैट-काऊ स्ट्रेच(बितिलासन योग): रीढ़ की हड्डी को आराम देने के लिए कैट-काऊ स्ट्रेच करना आरामदायक साबित हो सकता है। आप इस दौरान कमर और पेट को मूव करते हैं। यह बहुत ही आसान और सहज आसन होता है। जमीन पर बैठ कर अपने घुटनों को मोड़ लें। गाय की तरह अपने घुटनों और हाथों पर शरीर को टिकाएं। अब कमर को एक बार जमीन की तरफ लाएं और एक बार ऊपर की तरफ ले जाएं। अगर यह मूवमेंट आपको सहज लग रहा है तो इसका मतलब यह है कि पेल्विस उसी तरह से मूव कर रहा है जैसे इसे करना चाहिए। इस आसन में आपकी पूरी रीढ़ की हड्डी मूव करती है जो आपके पूरे शरीर को सशक्त बनाने में मदद करता है। इस आसन को करते समय आपको अपनी सांस लेने की प्रक्रिया पर ध्यान देना चाहिए। 

4.अपने कूल्हों को स्ट्रेच करें:अपने दाहिने हाथ की मदद से अपने दाहिने पैर को आगे बढ़ाए। इससे आपके दोनों  कूल्हों में खिंचाव आता है जिससे आपको आराम महसूस होगा। फिर वापस अपने पैर को सीधा कर लें। ऐसा करने से आपके शरीर का दर्द दूर हो सकता है।

5.स्ट्रेट लेग लंज: इस योगासन के लिए पहले बिलकुल सीधे खड़े हो जाएं। फिर अपने बाएं पैर को उसी जगह बिना मोड़े, अपने दाहिने पैर को दायीं तरफ ही आगे की ओर ले जाएं। थोड़ी देर इसी अवस्था में रहें और सांसों को धीरे-धीरे अंदर बाहर करें। अब इसी प्रक्रिया को अपने बाहिने पैर से भी दोहराएं।

6.स्टैंडिंग फॉरवर्ड बैंड: अपने शरीर के वजन को दोनों पैरों पर समान रूप से रखें। सांस को अंदर लें और हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं। धीरे-धीरे सांस छोड़ें और नीचे की ओर झुकते हुए पैरों की तरफ जाएं। अपने पैरों और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें, हाथों को पैर के पंजों के बगल में जमीन पर रखें या पैरों पर भी रख सकते हैं। सांस को अन्दर लेते हुए अपने हाथों को आगे व ऊपर की तरफ उठाएं और धीरे-धीरे खड़े हो जाएं। [ये भी पढ़ें: ये योगासन अपनाकर ऑस्टिओअर्थराइटिस के लक्षणों से पाएं छुटकारा]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "