योग की मदद से बनाए शानदार फ्लैट एब्स

yoga poses for flat abs

एब्स बनाने के लिए जरुरत है सही और उचित और डाइट और परिश्रम की। अगर इन तीन चीजों को सही तरीके से उपयोग किया जाए तो एब्स बनाना मुश्किल नहीं है। वो लोग जो एब्स बनाने के लिए जिम नहीं जाना चाहते हैं वो लोग भी योग की मदद से एब्स बना सकते हैं। ये योगासन पेट की मांसपेशियों पर जोर डालकर पेट की चर्बी कम करते हैं। [ये भी पढ़ें: मकरासन करने की विधि और इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभ]

वृक्षासन(ट्री पोज):

यह आसन पेट की मांसपेशियों और पेट के हिस्सों पर प्रभाव डालता है इसलिए इस आसन को करने से पेट की चर्बी नष्ट होती है और पेट सपाट होता है। नियमित रूप से इस योगासन को करने से एब्स भी प्रभावशाली तरीके से बनते हैं। इसके अलावा इस आसन से शरीर का संतुलन भी बेहतर बनता है तथा एकाग्रता बढ़ती है।

तरीका:
*दायें पैर को मोड़कर अपने बाएं जांघ पर टिका लें और शरीर का सारा भार अपने बाएं पैर पर केन्द्रित करें।
*एक बार जब शरीर का भार संतुलित हो जाए तो गहरी सांसें लें और अपने दोनों हाथों को अपने सिर के ऊपर ले जाकर नमस्ते की मुद्रा बनाएं।
*इस अवस्था में रहें और सामने किसी चीज पर ध्यान केन्द्रित करें।
*इस बात का ध्यान रखें की आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी हो और आप गहरी सांसें ले रहे हों।
* धीरे-धीरे सांसे छोड़ते हुए अपने हाथ नीचे गिराएं साथ ही साथ अपने दायें पैर को भी नीचे जमीन पर रख लें। इस प्रक्रिया को दूसरे पैर से भी दोहराएं। [ये भी पढ़ें: ये योगासन अपनाकर ऑस्टिओअर्थराइटिस के लक्षणों से पाएं छुटकारा]

वैरियर लंज ट्विस्ट:

यह योगासन न केवल आपके पेट की मांसपेशियों को प्रभावित कर पेट को सपाट बनाता है बल्कि शरीर के पोस्चर को भी सही करता है। इस योगासन को नियमति रूप से करने पर एब्स का भी निर्माण होता है।

तरीका:
*सबसे पहले हाथों से प्रार्थना करने की मुद्रा बनायें। आगे की तरफ झुकें और अपने अगले पैर को आगे लायें घुटने को 90 डिग्री के कोण पर मोड़ें और पिछले पैर को सीधा रखें।
*अपने शरीर को उस तरफ घुमाएं जिस तरफ आपका पैर मुड़ा हुआ हो।
*अपने बाएं पैर की तरफ झुकते हुए अपने रीढ़ की हड्डी सीधी रखें और अपने दायें कोहनी को बाएं पैर से दूर रखें।
*अपने सिर को घुमाएं और ऊपर की तरफ देखें।
*इस अवस्था में 10 गहरी सांसें लें और वापस पहले की अवस्था में आ जाएं।
*इस योगासन को दूसरी तरफ से करें।

कैमल हिन्ज पोज:

यह योगासन एब्स, जांघ और शरीर के पिछले हिस्से प्रभावित करता है। नियमित रूप से इस व्यायाम को करने से एब्स बनने शुरू हो जाते हैं।

तरीका:
*इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले अपने घुटनों के बल खड़े हो जाएं और अपने दोनों हाथ सीधे कर के सामने की तरह समानांतर दूरी पर सीधा कर लें।
*अपने छाती को उठायें और शरीर को पीछे की तरफ झुकाएं। पीछे झुके हुए अपना ध्यान छाती को चौड़ा करने में लगायें।
*धीरे-धीरे पहले की अवस्था में आ जाएं। ऐसा 10 बार करें।

एक्सटेंडेड बोट पोज:

यह योगासन शरीर की क्षमता को बढ़ाता है तथा पेट पर भी असर करता है। इस योगासन से पेट की मांसपेशियों पर जोर पड़ता है जिस से एब्स बनाने में मदद मिलती है।

तरीका:
*सबसे पहले अपने नितम्बो के बल बैठ जाएं और अपने दोनों पैर सामने की तरफ फैला लें।
*अपने दोनों हाथ अपने कूल्हों के पीछे रखें और पीठ सीधी रखें।
*अपने पैरों को जमीन से हल्का ऊपर उठायें।
*अपने पैरों को उठाते हुए 45 डिग्री का कोण बनायें जिससे आपका शरीर अंग्रेजी के वी अक्षर के शेप में आ जाए।
*इस अवस्था में 60 सेकेण्ड के लिए रहे।

*स्टेकड साइड प्लैंक:

यह योगासन पेट की मांसपेशियों पर प्रभाव डालता है और पेट से अतिरिक्त चर्बी को नष्ट कर देता है। नियमित रूप से इस योगासन को करने से एब्स बनते हैं और पेट भी सपाट होता है।

तरीका:
*शरीर के दायीं तरफ के सहारे लेटें। दायें हाथ को अपने दायें कंधे के नीचे रखें। जमीन से अपने कूल्हों को ऊपर उठायें और अपने शरीर से एक सीधी रेखा बनायें।
*अब अपने बाएं हाथ को छत की तरफ उठायें। इस दौरान गहरी सांसें लेते रहें। इस अवस्था में 60 सेकेण्ड तक रहें और फिर इस एक्सरसाइज को दूसरी तरफ से दोहराएं। [ये भी पढ़ें: तनाव और सोरायसिस की समस्या हैं तो आज से ही करें ये योगासन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "