बाइपोलर डिसऑर्डर के संकेतों से राहत दिलाने में फायदेमंद हैं योग

yoga poses for bipolar disorder

photo credit: drarhamsadr.com

बाइपोलर डिसऑर्डर एक मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परिस्थिति हैं जो व्यक्ति के दिमाग को प्रभावित करती है। जिससे व्यक्ति में ऊर्जा, सक्रिय होना और मूड स्विंग होते रहते हैं। यह ज्यादातर जेनेटिक समस्या या बचपन में किसी गहरे सदमे की वजह से होता है। बाइपोलर डिसऑर्डर की वजह से व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है और जीवन में हर चीज नकारात्मक देखने लगता है। जिसकी वजह से उसे चिंता करने की समस्या होने लगती है। इसका मुख्य कारण तनाव होता है जिसे योग के माध्यम से दूर किया जा सकता है। कुछ योगासन बाइपोलर डिसऑर्डर की समस्या दूर करने के साथ पूरे शरीर को स्वस्थ बनाने में मदद करते हैं। तो आइए आपको इन योगासन के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: सुदर्शन क्रिया करने की विधि और इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभ]

गरुड़ासन:

गरुड़ासन सोचने की क्षमता को संतुलित करने में मदद करता है। साथ ही कंधों और पैर के पिछले हिस्से को मजबूत बनाने में मदद करता है। यह पैर और कूल्हे को ढीला करके उसे लचीला बनाते हैं। साथ ही एकाग्रता में सुधार आता है। गरुड़ासन सुबह खाली पेट 15-30 सेकेंड तक करना चाहिए।

दंडासन:

दंडासन दिमाग की कोशिकाओं को शांत करने में मदद करता है। साथ ही शरीर को जागरुक करता है। दंडासन करने से रीढ़ की हड्डी को मजबूती मिलती है। इसे सुबह खाली पेट और अगर आप शाम को कर रहे हैं तो खाने के 4-6 घंटे के अंतराल पर करना चाहिए। इस मुद्रा में 15-30 सेकेंड तक रहना चाहिए। [ये भी पढ़ें: बेहतर रनिंग के लिए करें ये योग]

सेतु बद्धासन:

यह योगासन कंधों और कोर की मांसपेशियों को खोलने में मदद करता है। साथ ही तनाव कम करके हाई ब्लडप्रेशर को सामान्य करता है। इसे सुबह के समय खाली पेट करना फायदेमंद होता है। इस करते समय 30-40 सेकेंड तक इसी मुद्रा में रहें।

पश्चिमोत्तानासन:

पश्चिमोत्तानासन तनाव दूर करने के लिए बहुत ही फायदेमंद योगासन है। यह चिंता,गुस्से को कम करने में मददगार होता है। साथ ही कमर को स्ट्रैच करने में मदद करता है। इसे सुबह या शाम किसी भी समय किया जा सकता है। इसे करते समय 30-60 सेकेंड इसी मुद्रा में रहें।

अर्ध पिंच मयूरासन:

यह योगासन डिप्रेशन और सिरदर्द से निजात दिलाने में मदद करता है। साथ ही कंधों को स्ट्रैच करता है। यह योगासन रोजाना करने से नींद की समस्या और थकावट दूर होती है। इसे करने का बेहतर समय सुबह का होता है। [ये भी पढ़ें: हिप्स को सही शेप में लाने के लिए ये दो योगासन हैं लाभदायक]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "