किडनी में पथरी की समस्या को दूर करने के लिए योगासन

Yoga for kidney stones

Photo Credit: express.co.uk

किडनी हमारे शरीर के खून से फालतू पदार्थों और अधिक पानी को बाहर निकालने का काम करती हैं। ये पदार्थ यूरेटर से बाहर निकल कर ब्लैडर में इकठ्ठा हो जाते हैं और फिर पेशाब के माध्यम से बाहर निकलते हैं। किडनी स्टोन पेशाब में मौजूद क्रिस्टलाइज्ड पदार्थों बनता है। पानी किडनी में होने वाली पथरी को बाहर निकालने का एक सबसे बेहतरीन तरीका होता है। इसके अलावा योगासन और सांस लेने की तकनीक से किडनी को स्वस्थ रखा जा सकता है। शरीर में पोटेशियम, प्रोटिन, सोडियम और शुगर की कमी के कारण किडनी में पथरी की समस्या हो जाती है। इसके अलावा डिहाईड्रेशन की वजह से भी किडनी की पथरी हो जाती है। आइए जानते हैं किडनी में पथरी की समस्या को दूर करने के लिए कौन से योगासन प्रभावी होते हैं। [ये भी पढ़ें: आनंद बालासन करने की विधि और उससे मिलने वाले स्वास्थ्य लाभ]

उष्ट्रासन(कैमल पोज):

उष्ट्रासन करने से किडनी में होने वाली पथरी की समस्या दूर हो सकती है। इस आसन को करने से शरीर डिहाईड्रेशन की समस्या कम हो सकती है जिससे किडनी में होने वाली पथरी खत्म हो सकती है।

उत्तानपादासन(रेज्ड लेग पोज):

उत्तानपादासन करने से आपके लोअर बैक, पेल्विक एरिया और पैरों की मांसपेशियां मजबूत हो जाते हैं और उनमें होने वाले दर्द और सूजन भी कम हो जाते हैं। यह एब्डॉमिनल मसल्स में संकुचन लाता है जिससे किडनी में होने वाली पथरी की समस्या कम हो सकती है। [ये भी पढ़ें: बाइपोलर डिसऑर्डर के संकेतों से राहत दिलाने में फायदेमंद हैं योग]

पवनमुक्तासन(वाइंड रिलीजिंग पोज):

पवनमुक्तासन करने से पेट की समस्या दूर हो जाती है जैसे- दस्त, कब्ज और एसिडिटी। इसके अलावा यह किडनी को भी स्वस्थ रखता है और किडनी में होने वाली पथरी की समस्या से निजात दिलाता है।

बालासन(चाइल्ड पोज):

बालासन किडनी में पथरी को बनने से रोकता है और साथ ही उसके लक्षणों से भी राहत दिलाने में मदद करता है। इसके अलावा यह पेट में होने वाले ऐंठन और दर्द से भी राहत दिलाता है।

भुजंगासन(कोब्रा पोज):

भुजंगासन करने से शरीर में रक्त का संचार बेहतर होता है और साथ ही एब्डॉमिनल रिजन के आस-पास के हिस्सों को भी उत्तेजित करता है। किडनी में होने वाली पथरी से भी निजात दिलाता है। [ये भी पढ़ें: योगासन जिनसे बढ़ती उम्र में भी जवान रहा जा सकता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "