इटिंग डिसऑर्डर के लिए योगासन

Read in English
Yoga Asanas For Eating Disorders

इटिंग डिसऑर्डर से ग्रसित लोगों को कई प्रकार की समस्या हो जाती है। इटिंग डिसऑर्डर वाले लोगों को अत्यधिक खाने की इच्छा होती है और कुछ लोगों को कम खाने की इच्छा होने लगती है जिसके कारण उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है। शरीर में कई प्रकार के हॉर्मोनल बदलाव आते हैं जिसकी वजह से इटिंग डिसऑर्डर की समस्या हो जाती है। जो लोग इस समस्या से ग्रसित होते हैं उन्हें तनाव, डिहाईड्रेशन और कार्डियोवस्कुलर डीजिज जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है। लेकिन इस समस्या से निजात पाया जा सकता है। कुछ ऐसे प्रभावी योगासन होते हैं जिसकी मदद से आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं और साथ ही इनके अभ्यास से और भी कई स्वास्थ्य समस्याओं से राहत पा सकते हैं। आइए जानते हैं कौन से योगासन करना प्रभावी हो सकता है। [ये भी पढ़ें: चंद्र नमस्कार करने के स्वास्थ्य लाभ]

हालासन:

हालासन करने से पेट संबंधी समस्याएं दूर हो जाती हैं और साथ ही ये आपके भूख को भी नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके अलावा आपको इटिंग डिसऑर्डर की समस्या से भी निजाता दिलाने में मदद करता है।

धनुरासन:

धनुरासन पीठ और कमर संबंधी समस्या से राहत दिलाता है, ऑक्सीजेनेशन को बढ़ाता है और आपके अत्यधिक खाने की आदत को भी कम करने में मदद करता है। इस योगासन को करने से आपका पाचन शक्ति भी मजबूत होता है। [ये भी पढ़ें: योग से जुड़े कुछ मिथक जिनके झांसे में आपको नहीं आना चाहिए]

सिरसासन:

सिरसासन करने से पेट संबंधी समस्या जैसे-कब्ज, दस्त और एसिडिटी जैसी समस्या तो राहत मिलता ही है साथ-साथ आपके इटिंग डिसऑर्डर की समस्या से भी निजात दिलाता है।

ताड़ासन:

इटिंग डिसऑर्डर से ग्रसित लोगों के लिए ताड़ासन सबसे आसान योगासन होता है। इस योगासन को करने से आपकी अत्यधिक खाने की इच्छा कम होने लगती है और साथ ही इस समस्या के लक्षण से भी निजात मिलता है।

कपोटासना:

कपोटासना आपके चेस्ट को मजबूत बनाता है। इसके अलावा ये इटिंग डिसऑर्डर की समस्या को भी कम करता है और आपके ऐपेटाइट को भी बूस्ट करता है। इस योगासन को करने से इस इटिंग डिसऑर्डर के कारण होने वाले लक्षण भी कम हो जाते हैं। [ये भी पढ़ें: पुरुषों के लिए सबसे प्रभावी योगासन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "