कितने प्रकार से किया जा सकता है प्राणायाम

what is pranayam and its various types

प्राणायम सांस लेने का योग विज्ञान है। ऑक्सीजन हमारे लिए सबसे महत्त्वपूर्ण तत्व है। यह जीवन के लिए सबसे आवश्यक चीज है और इसके बिना जीवन की कल्पना करना भी मुमकिन नहीं है। ऑक्सीजन दिमाग, तंत्रिकाओं और अंदरूनी अंगों के सुचारू ढंग से चलने के लिए बेहद जरुरी है। हम भोजन के बिना कुछ हफ़्तों तक जी सकते हैं, पानी के बिना कुछ दिनों तक जी सकते हैं पर ऑक्सीजन के बिना हम कुछ ही मिनटों तक जीवित रह सकते हैं। प्राणायाम सांस लेने की क्रिया पर ही आधारित योग व्यायाम है। आइए जानते हैं इसे कितने प्रकार से किया जाता है और इनकी विधि क्या है। [ये भी पढ़ें: कमर के निचले हिस्से में होने वाले दर्द से राहत दिलाएंगे ये योगासन]

कब करें प्राणायाम:
प्राणायाम हमेशा खाली पेट करना चाहिए। प्राणायाम करने के लिए सूर्योदय से पहले का समय सबसे उपयुक्त होता है। इस समय वातावरण में प्रदूषण कम होता है तथा दिन के अन्य पहर की तुलना में शान्ति ज्यादा होती है। इस समय सांसों पर ध्यान लगाने में ज्यादा आसानी होती है। वो लोग जो दिन में प्राणायाम नहीं कर सकते उनके पास शाम को भी प्राणायाम करने का विकल्प होता है। हालांकि शाम को उसी समय प्राणायाम करना चाहिए जब हवा ठंडी हो और वातावरण शांत हो।

प्राणायाम के प्रकार:
प्राणायाम के मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं:

नाड़ी शोधन:
what-is-pranayam-and-its-various-typesनाड़ी शोधन प्राणायाम करने से खून साफ़ होता है तथा खून में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है। इस प्राणायाम से नसों से गन्दगी दूर होती है इसलिए इस प्राणायाम को नाड़ी शोधन प्राणायाम के नाम से जाना जाता है। यह प्राणायाम श्वसन तंत्र को भी मजबूत बनाता है तथा बेचैनी और सिरदर्द की समस्याओं को दूर रखता है। इस प्राणायाम में अंगुलियों को आंखों के बीच वाली जगह पर रखकर सांस लिया जाता है। [ये भी पढ़ें: योगासन जिनको करने से आप पाएंगे सुकून भरी नींद]

शीतली प्राणायाम:

शीतली प्राणायाम का नाम शीतल शब्द से लिया गया है जिसका मतलब ठंडा होता है। शीतली प्राणायाम करने से मन शांत होता है तथा शरीर से अत्यधिक गर्मी को दूर करता है। इस प्राणायाम से ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित होता है। अगर आप तनाव में है तो 10 मिनट शीतली प्राणायाम करने से तनाव दूर हो जाएगा। इस प्राणायाम में जीभ को मोड़कर सांस लिया जाता है।

उज्जयी प्राणायाम:
what-is-pranayam-and-its-various-typesउज्जयी का मतलब समुद्र होता है और इस प्राणायाम में सांसो से समुद्र की आवाज निकाली जाती है इसलिए इस व्यायाम का नाम उज्जयी प्राणायाम रखा गया है। इस प्राणयाम में सांसो को गर्दन में रोका जाता है और आवाज निकाली जाती है।

कपालभाति प्राणायाम: 

कपालभाति प्राणायाम कपाल और भाति शब्द के संयोजन से बना है। कपाल का मतलब सर होता है और भाति का मतलब चमकना होता है। कपालभाति प्राणयाम से पाचन क्रिया मजबूत होती है तथा फेफड़े मजबूत होते हैं। इस प्राणायाम के दौरान सांस लेकर पेट को हिलाया जाता है।

अनुलोम विलोम प्राणयाम:what-is-pranayam-and-its-various-types-ishइस प्राणायाम में नाक के एक हिस्से को बंद कर के नाक के दूसरे हिस्से से सांस लिया जाता है। ये प्राणायाम नाक को साफ़ करने तथा मन को शांत करने में काफी फायदेमंद साबित होता है। [ये भी पढ़ें: इन योग की मदद से बनाएं अपने पाचन तंत्र को बेहतर]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "