आसान योग पसंद है तो आजमाएं रेस्टोरेटिव योग

Read in English

रेस्टोरेटिव योग, योग का एक रुप है जिसमें हम कुछ साधारण घर के सामान का सहारा लेकर शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक संतुष्टि और आराम प्राप्त कर सकते हैं। इन सामाग्रीयों का इस्तेमाल आपके शरीर में योग की मुद्रा करते समय बैलेंस बनाने के लिए किया जाता है। इस योगाभ्यास से शरीर की शक्ति और लचीलेपन को हम बढ़ा सकते हैं। [ ये भी पढ़ें:वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज करते वक्त अपनाएं ये टिप्स]

रेस्टोरेटिव योग की मुद्राएं:
लेग अगेन्स्ट वॉल: इसे तकिये की सहायता से किया जाता है जिसमें आपको दीवार के सहारे पैर ऊपर करके बैलेंस बनाना होता है इस मुद्रा में पैर, कमर और पीठ के पीछे तकिये का प्रयोग किया जाता है

शिशुमुद्रा: अपनी एड़ियों को जोडें और नितंब के नीचे लगाएं ओर वज्रासन मुद्रा में बैठें और शरीर को आगे की ओर झुकाएं, इस क्रिया में आप तकिये को अपने ऊपरी शरीर को सहारा देने के लिए प्रयोग में ला सकते हैं।

सावसाना: अपने सिर को तकिये से पैरों को मसनद(गोल बड़ा तकिया) से और शरीर को कंबल से आराम देकर ये योगासन किया जा सकता है। इस योगा के दौरान आपकी मसल्स गहराई से रिलेक्स करती है  ये तनाव को दूर करती है और शरीर को ज्यादा एक्टिव बनाती है।[ ये भी पढ़ें: गलत तरीके से योग करने से शरीर पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव]

Restorative Yoga will make you healthy in a easy way asr

3. रेस्टोरेटिव योग के फायदे: जब आप दिनभर के काम के कारण हुइ थकान और तनाव को दूर करना चाहते हैं तो आपको ये योग करना चाहिए, ये योग आपकी हर रोज की थकान को दूर कर आपको डेस्कवर्क से होने वाली बीमारियों से भी बचाता है। [ ये भी पढ़ें:एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस में फायदेमंद हैं योग और पाइलेट्स]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "