15 मिनट योग की मदद से सूजन कम करें

Read in English
reduce inflammation with 15-minute yoga

गर्दन के नीचे थॉयराइड ग्रंथि स्थित होती है। जो शरीर के कई कार्यों जैसे हार्मोन्स, ऊर्जा के स्तर और मेटाबॉल्जिम को नियमित करता है। थॉयराइड ग्रंथि के सही तरीके से कार्य ना करने पर शरीर में कई समस्याएं होने लगती है। जिनमें इनफर्टिलिटी, थकावट, सूजन और माइग्रेन शामिल होता है। इसी तरह सूजन आपके पाचन, ब्लड प्रेशर लेवल और पेट में बनने वाले एसिड के उत्पादन से संबंधित होती है। थॉयराइड ग्रंथि को ठीक करने के लिए कुछ योग मुद्राओं का अभ्यास करना फायदेमंद होता है। रोजाना 15 मिनट योग करके शरीर को शांत किया जा सकता है। साथ ही लिवर से विषाक्त पदार्थ निकालने, दिमाग में ऑक्सीजन पहुंचाने और ब्लड को साफ करके थॉयराइड ग्रंथि को संतुलित करता है। तो आइए आपको इनो योगासनों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: अस्थमा के लिए प्रभावी योगासन]

धनुरासन:

यह योगासन आपके पेट पर दबाव डालकर पाचन और प्रजनन अंगों पर सकारात्मक रुप से उत्तेजित करता है। जिससे कब्ज और मासिक धर्म की समस्या दूर होती है। साथ ही थॉयराइड ग्रंथि संतुलित रहती है।

पश्चिमोत्तासन:

यह योगासन बहुत प्रभावी होता है साथ ही रीढ़ की हड्डी, कंधे, पेल्विस और हैमस्ट्रिंग को स्ट्रेच करने में मदद करता है। इसके साथ ही लिवर, किडनी, ओवरी और गर्भाशय को उत्तेजित करता है। जिससे सूजन की समस्या कम होने में मदद मिलती है। [ये भी पढ़ें: कितनी बार योग का अभ्यास करना बेहतर होता है]

भुजंगासन:

थॉयराइड को नियमित रखने के लिए भुजंगासन बहुत फायदेमंद होता है। यह सीने के साथ रीढ़ की हड्डी और कंधों को स्ट्रेच करता है। इसके साथ ही फेफड़ों को खोलकर, पेट के मौंजूद अंगों को उत्तेजित करके पाचन में सुधार करता है।

अर्धमत्स्येंद्रासन:

यह योगासन दिमाग में पाए जाने वाले तरल पदार्थ को उत्तेजित करता है, पाचन को सही रखने के साथ शरीर के महत्वपूर्ण अंगों जैसे किडनी, लिवर, हृदय और थॉयराइड अंगों में रक्त प्रवाह में सुधार करता है।

उत्तानासन:

यह योगासन आपके शरीर की मुख्य शिराओं को उत्तेजित करती है। जिसका रोजाना अभ्यास करना आपके लिए फायदेमंद होता है। यह योगासन आंतरिक अंगों को मसाज करती है साथ ही विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: योगासन जो आप बैड पर भी कर सकते हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "